ये ल्लो, अब आवाज़ (आपके मीडिया प्लेयर से निकलने वाली,) भी ऑब्जैक्ट ओरिएंटेड हो चली...

image

यदि आप गीत संगीत के दीवाने हैं, तो जाहिर सी बात है कि अच्छे स्पीकर, अच्छे एवी प्लेयर-रिसीवर का भी थोड़ा बहुत शौक रखते होंगे, और बहुत संभव है कि आपको डॉल्बी आदि का भी थोड़ा बहुत ज्ञान हो.

कोई बीस बरस पहले कैसेट प्लेयरों पर डॉल्बी नॉइस रिडक्शन सिस्टम का नाम सुना था.

कैसेट प्लेयर मैग्नेटिक होते थे और उनमें रेकार्डिंग के दौरान मैग्नेटिक हिसिंग नॉइस घुस जाती थी. इसे डॉल्बी नॉइन रिडक्शन सिस्टम नामक नई टेक्नोलॉज़ी के जरिए कम किया जाता था, जिससे संगीत सुनने का आनंद बढ़ जाता था.

अब वह आनंद - ऑब्जैक्ट ओरिएंटेड हो गया है. आपके मीडिया प्लेयरों के स्पीकरों की आवाज में एक नया, तीसरा आयाम जुड़ गया है - स्थान और ऊंचाई का. तो, किसी आइटम सांग में बज रहे ढोल और घुंघरू की आवाज़ें अब एक ऑब्जैक्ट के रूप में प्रोसेस होंगी और आपके कमरे में ठीक वहीं बजेंगी, जहाँ (भाई, 3डी टीवी का जमाना है,) नृत्यांगना के पैर हैं ढोली का ढोल. है न मजेदार?

जमाना डॉल्बी एटमॉस और डीटीएस X तक पहुँच गया है, जो आपके गीत संगीत के सुनने के आनंद को, जाहिर है सहस्र गुना बढ़ा देता है.

मामला जरा तकनीकी है, और अधिक जानकारी मांगता है? यहाँ से विवरण प्राप्त करें.

और, क्या आपको पता है कि संगीत के दीवानों की कमी नहीं है. इंटरनेट के स्ट्रीमिंग और अनलिमिटेड डाउनलोड के जमाने में  लोग अब भी रेकॉर्ड प्लेयर अथवा सीडी से गीत-संगीत सुनना चाहते हैं, और अच्छी गुणवत्ता के संगीत के लिए अपनी जेबें भी ढीली करते हैं. जरा नीचे निगाह मारें -

image

टिप्पणियाँ

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें