क्या आपकी भी जिंदगी नर्क हो गई है....?

image

ओह! आह!! यहाँ तो सभी हमसफर हैं मेरे!

 

व्यंज़ल

जीवन का अर्क है

जिंदगी बस नर्क है

 

तू काला मैं गोरा

बस यहीं फर्क है

 

तू नहीं समझेगा

वाह क्या तर्क है

 

राजनीति में यारों

सब बेड़ा गर्क है

 

पहचानें कैसे रवि

चेहरों में वर्क है

 

****

टिप्पणियाँ

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें