सोमवार, 12 अक्तूबर 2015

क्या आपकी भी जिंदगी नर्क हो गई है....?

image

ओह! आह!! यहाँ तो सभी हमसफर हैं मेरे!

 

व्यंज़ल

जीवन का अर्क है

जिंदगी बस नर्क है

 

तू काला मैं गोरा

बस यहीं फर्क है

 

तू नहीं समझेगा

वाह क्या तर्क है

 

राजनीति में यारों

सब बेड़ा गर्क है

 

पहचानें कैसे रवि

चेहरों में वर्क है

 

****

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------