काम के बोझ का मारा

सुप्रीम कोर्ट बेचारा!
और क्यों न हो.  सरकार (माने सरकारी बाबू ) ही सबसे बड़ी मुकदमेबाज है.

एक उदाहरण है -  मप्र में उच्च शिक्षा विभाग में आपाती नियुक्त सहायक प्राध्यापकों के नियमितीकरण का, जो पिछले पंद्रह साल से ज्यादा से हाईकोर्ट तथा सुप्रीम कोर्ट में अपील पर अपील में चल रही है. जबकि हर बार हर कोर्ट सरकार के विरुद्ध निर्णय देती रही  है. परंतु सरकार कोई न कोई बहाना बनाकर तारीख पर तारीख,  तारीख पर तारीख लगवाने में ही लगी हुई है. 

ऐसे सैकड़ों, हजारों उदाहरण हैं.

मुझे सुप्रीम कोर्ट से पूरी सहानुभूति है!

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें