शनिवार, 21 जून 2014

मेरा घर बनेगा दुनिया का पहला आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड घर!

clip_image002

भारत सरकार के बताए रास्ते, कायदे कानूनों पर चलना हर नागरिक का परम कर्तव्य है. मैं अपने स्वयं के ज्ञान के आधार पर एक सभ्य किस्म का, परम कर्तव्यपारायण नागरिक हूं, अतः मैं भी इसी का अनुसरण करते हुए अपने घर को आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड बनाने की तैयारी में हूँ. आखिर मेरे देश की सरकार पहली आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड सरकार हो बनने जा रही है – भले ही ये दीगर बात है कि किसी भी सरकारी दफ़्तर में चले जाओ, तो मामला ठीक इसके उलट नजर आता है और हर दफ़्तर ओएसआई 1009 सर्टिफ़ाइड प्रतीत होता है. अब आप ये न पूछिए कि भाई, ये ओएसआई 1009 सर्टिफ़िकेशन क्या होता है? तो आपके लिए पहला जवाब यही होना चाहिए – अरे! आप ओएसआई 1009 सर्टिफ़िकेशन नहीं जानते?

चलिए, हम आपके हालात पर तरस खाकर बता देते हैं कि आईएसओ 9001 सर्टिफ़िकेशन का ठीक उलट, भारतीय ईजाद है ओएसआई 1009 सर्टिफ़िकेशन. अब आप अंदाजा लगाने के लिए स्वतंत्र हैं.

अब जब मैंने अपने घर को आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड करने का मन बना ही लिया तो सबसे पहले अपने घर के महामहिम की स्वीकृति की दरकार थी. मैंने बड़े संकोच से, स्वीकृति के लिए मामला अपने उत्तमार्द्ध के सम्मुख रखा. आव देखा न ताव, उन्होंने प्रस्ताव तत्क्षण खारिज ही कर दिया. उन्हें लगा कि मैं अपने इलेक्ट्रॉनिक गॅजेट से अटे पड़े घर में कोई और नया, एकदम नवीनतम से भी नवीनतम उन्नत किस्म का एकदम बेहद जरूरी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, जिसके बगैर मैं अपनी सोशल जिंदगी जीने की कल्पना नहीं कर सकता, जोड़ने की स्वीकृति चाहता हूँ, जिसके लिए घर में एक अदद कोने की और जरूरत होगी और उसमें एक अदद और रिमोट साथ में आता होगा जिसे सहेजने की और वक्त पर हासिल करने की एक और व्यवस्था करनी होगी. मैंने अपना सिर पीटा और समझाया भागवान – मैं कोई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण नहीं ला रहा हूँ, और न ही कोई 10 वर्ष के जीवन वाला एलईडी लाइट ला रहा हूँ, जिसे अनावश्यक रूप से बदलने की भी आवश्यकता कभी नहीं होती है, मैं तो बस यह कह रहा हूं कि जब हमारे देश की सरकार आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड हो रही है तो देश के हर नागरिक का कर्तव्य है कि वो भी अपने घर को आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड करे, लिहाजा मैं भी यही चाहता हूँ.

दरअसल, सरकार तो यह भी चाहती है कि जो साड़ी तुम पहनती हो वो भी आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड हो. साड़ी का नाम सुनकर उसके कान कुछ खड़े जरूर हुए, मगर उतने भी नहीं कि किसी कान को आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड हासिल हो जाए.

तमाम जोर आजमाइश के बावजूद, जाहिर है यह बात उनके दिमाग में नहीं आनी थी सो नहीं आई – ठीक उसी तरह जैसे कि मेरे दिमाग में ये बात नहीं आती कि श्रीमती जी के पास पच्चीस जोड़ी सैंडल, इनसे दुगने चप्पल और इन दोनों की संख्या मिलाकर जो संख्या बनती है उसके भी तीन गुने के बराबर तो उनके (या कि संसार की किसी भी अन्य स्त्री के पास – क्योंकि कपड़े जूते चप्पलों के मामले में मामला यहाँ उन्नीसा-बीसा ही रहता है) पास जूते पहले से हैं, मगर फिर भी, जब भी वो बाजार जाती हैं तो दो-तीन चप्पल-सैंडल उन्हें लेना ही लेना होता है और एकाध तो न चाहते हुए भी स्वयंमेव खरीद कर आ ही जाता है. और, खुदा कसम, दुनिया में स्त्री के चप्पल जूते सज्जित पैर पता नहीं कौन देखता होगा, किसके पास इन्हें देखने की फुरसत होती होगी, किन्हें इन्हें देखने में दिलचस्पी होती होगी, फिर भी, जाने क्यों ये स्त्रियाँ इतने किसम किसम के रंगीन, गोटेदार, जरीदार चप्पल सैंडल खरीदती हैं.

खैर, बात अपने घर को आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड बनाने की हो रही थी. तो हमें शुरूआत तो कहीं से करनी थी. सबसे पहले सोचा गया कि घर में कुछ साफ सफाई कर ली जाए. मैं पत्नी-श्री के अप्रयुक्त, अप्रचलित, कालातीत आदि आदि किस्म के सैंडल चप्पलों के संग्रह से शुरूआत करना चाहता था, और वे मेरी अप्रयुक्त, अप्रचलित, कालातीत आदि आदि किस्म के एमपी-3 संग्रह की सीडी-डीवीडी, बूम-बॉक्स, ब्लूटूथ प्लेयर इत्यादि से शुरूआत करना चाह रही थीं. साफ है कि – मामला साफ सफाई पर अटका हुआ है. मगर हमें उम्मीद है कि हम यथाशीघ्र इस विवाद को सुलझा लेंगे और आगे बढ़ेंगे – क्योंकि हमें अपने घर को भारत का पहला आईएसओ 9001 सर्टिफ़ाइड घर जो बनाना है! मित्रों, हमें आपके दुआओं की जरूरत है!

--

पुनश्च :

20 जून 2014 को इस ब्लॉग के पूरे हुए दस साल. पहली पोस्ट यहाँ परीक्षण के तौर पर लिखी गई, और तब से पूरे दशक से यह ब्लॉग-यात्रा निरंतर जारी है, जिसकी गति को बनाए रखने में आप सब सुधी पाठकों का महती योगदान रहा है. आप सभी का बहुत-2 धन्यवाद.

--

7 blogger-facebook:

  1. सरकार के ISO हो जाने कहीं महत्‍वपूर्ण तो आपकी 20 जून 2014 की पहली पोस्‍ट लगी

    उत्तर देंहटाएं
  2. हार्दिक बधाई सर!


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. दशकीय यात्रा की बधाई! और आई एस ओ होम की शुभकामनायें भी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बहुत बधाई..... अब कारवां देखकर खुशी होती होगी.....गोद में खिलाए और पाले पोषे को कुश्ती लड़ते देखते हुए.....
    सदर

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बहुत बधाई..... अब कारवां देखकर खुशी होती होगी.....गोद में खिलाए और पाले पोषे को कुश्ती लड़ते देखते हुए.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. दशक पूरे होने की बधाई आपको। शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. दशकीय सफलता की खुब-खुब बधाइयाँ और शुभकामनाएँ की यह कारवाँ रुकेगा नहीं।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------