टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 50

 

आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ

संकलन – सुनील हांडा

अनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी

333

पांच घंटियों वाली योजना

किसी जमाने में एक होटल हुआ करता था जिसका नाम "द सिल्वर स्टार" था। होटल मालिक के तमाम प्रयासों के बावजूद वह होटल बहुत अच्छा नहीं चल रहा था। होटल मालिक ने होटल को आरामदायक, कर्मचारियों को विनम्र बनाने के अलावा किराया भी कम करके देख लिया, पर वह ग्राहकों को आकर्षित करने में नाकाम रहा। इससे निराश होकर वह एक साधु के पास सलाह लेने पहुंचा।

उसकी व्यथा सुनने के बाद साधु ने उससे कहा - "इसमें चिंता की क्या बात है? बस तुम अपने होटल का नाम बदल दो।"

होटल मालिक ने कहा - "यह असंभव है। कई पीढ़ियों से इसका नाम "द सिल्वर स्टार" है और यह देशभर में प्रसिद्ध है।"

साधु ने उससे फिर कहा - "पर अब तुम इसका नाम बदल कर "द फाइव वैल" रख दो और होटल के दरवाज़े पर छह घंटियाँ लटका दो।"

होटल मालिक ने कहा - "छह घंटियाँ? यह तो और भी बड़ी बेवकूफी होगी। आखिर इससे क्या लाभ होगा?"

साधु ने मुस्कराते हुए कहा - यह प्रयास करके भी देख लो।

होटल मालिक ने वैसा ही किया।

इसके बाद जो भी राहगीर और पर्यटक वहां से गुजरता, होटल मालिक की गल्ती बताने चला आता। अंदर आते ही वे होटल की व्यवस्था और विनम्र सेवा से प्रभावित हो जाते। धीरे - धीरे वह होटल चल निकला। होटल मालिक इतने दिनों से जो चाह रहा था, वह उसे मिल गया।

"दूसरे की गल्ती बताने में भी कुछ व्यक्तियों का अहं संतुष्ट होता है।"

334

बद से बदतर तरीका

एक महाराजा समुद्र की यात्रा के दौरान भयंकर तूफान में फंस गए। उनका एक गुलाम जो पहली बार जहाज पर चढ़ा था, डर के मारे कांपने लगा और चिल्ला-चिल्ला के रोने लगा। वह इतनी जोर से रोया कि जहाज पर सवार बाकी सभी लोग उसकी कायरता देख गुस्सा हो गए। महाराजा ने भी गुस्सा होकर उसे समुद्र में फेंकने का आदेश दे दिया।

लेकिन राजा के सलाहकार, जो कि एक संन्यासी थे, ने उन्हें रोकते हुए कहा - "कृपया यह मामला मुझे निपटाने दें। शायद मैं उसका इलाज कर सकता हूं।"

राजा ने उनकी बात मान ली। उन्होंने कुछ नाविकों से उस गुलाम को समुद्र में फेंक देने का आदेश दिया। जैसे ही उस गुलाम को समुद्र में फेंका गया वह बेचारा गुलाम जोर से चिल्लाया और अपनी जान बचाने के लिए कठोर संघर्ष करने लगा।

कुछ ही पलों में संन्यासी ने उसे दोबारा जहाज पर खींच लेने का आदेश दिया। जहाज पर वापस आकर वह गुलाम चुपचाप एक कोने में जाकर खड़ा हो गया। जब महाराजा ने संन्यासी से इसका कारण पूछा तो उन्होंने कहा - "जब तक स्थितियां बद से बदतर न हो जाए, हम यह जान नहीं पाते कि हम कितने भाग्यशाली हैं।"

--

86

बदबूदार घोंसला

कबूतर के एक जोड़े ने अपने लिए घोंसला बनाया. परंतु जब कबूतर जोड़े उस घोंसले में रहते तो अजीब बदबू आती रहती थी. उन्होंने उस घोंसले को छोड़ कर दूसरी जगह एक नया घोंसला बनाया. मगर स्थिति वैसी ही थी. बदबू ने यहाँ भी पीछा नहीं छोड़ा.

परेशान होकर उन्होंने वह मोहल्ला ही छोड़ दिया और नए मोहल्ले में घोंसला बनाया. घोंसले के लिए साफ सुथरे तिनके जोड़े. मगर यह क्या! इस घोंसले में भी वही, उसी तरह की बदबू आती रहती थी.

थक हार कर उन्होंने अपने एक बुजुर्ग, चतुर कबूतर से सलाह लेने की ठानी और उनके पास जाकर तमाम वाकया बताया.

चतुर कबूतर उनके घोंसले में गया, आसपास घूमा फिरा और फिर बोला – “घोंसला बदलने से यह बदबू नहीं जाएगी. बदबू घोंसले से नहीं, तुम्हारे अपने शरीर से आ रही है. खुले में तुम्हें अपनी बदबू महसूस नहीं होती, मगर घोंसले में घुसते ही तुम्हें यह महसूस होती है और तुम समझते हो कि बदबू घोंसले से आ रही है. अब जरा अपने आप को साफ करो.”

दुनिया जहान में खामियाँ निकालने और बदबू ढूंढने के बजाए अपने भीतर की खामियों और बदबू को हटाएँ. दुनिया सचमुच खूबसूरत, खुशबूदार हो जाएगी

--

87

प्रार्थना 4

नानी – (अपने पोते से) बेटा, तुम रोज रात में सोते समय प्रार्थना करते हो?

पोता – हाँ, नानी, मैं बिना भूले रोज प्रार्थना करता हूँ.

नानी – और, सुबह उठने पर?

पोता – नहीं, सुबह-सुबह मुझे डर नहीं लगता.

--

(सुनील हांडा की किताब स्टोरीज़ फ्रॉम हियर एंड देयर से साभार अनुवादित. कहानियाँ किसे पसंद नहीं हैं? कहानियाँ आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन ला सकती हैं. नित्य प्रकाशित इन कहानियों को लिंक व क्रेडिट समेत आप ई-मेल से भेज सकते हैं, समूहों, मित्रों, फ़ेसबुक इत्यादि पर पोस्ट-रीपोस्ट कर सकते हैं, या अन्यत्र कहीं भी प्रकाशित कर सकते हैं.अगले अंकों में क्रमशः जारी...)

एक टिप्पणी भेजें

बहोत अच्छे ।

हिंदी ब्लॉग

हिन्दी दुनिया ब्लॉग

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget