द ग्रेट इंडियन ग्रेफ़ीटी

DSCN5840 (Small)

(बेहतरीन भारतीय भित्तिचित्र)

भारतीय रेलों के डिब्बों के भीतरी हिस्सों में और टॉयलेट पर ग्रेट इंडियन ग्रेफ़ीटी -  अजीबोग़रीब चित्रकला के नमूने आप सभी ने देखे होंगे. पर ये एकदम अलग किस्म का है - बिलकुल अनदेखा.

लगता है किसी विद्यार्थी ने ट्रांजिस्टर सर्किट को याद रखने की कोशिश तब की है जब वो परीक्षा देने जा रहा था.

पर, पास ही पारंपरिक चित्र में किसी दिलजले अभिषेक का हृदय खूना-खून भी हो रहा है. बाजू के सर्किट को देखकर? शायद हाँ, शायद ना!

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रवि जी,

इन दिनों आप जुगाड़-तंत्र पर लिख रहे हैं या कहिए कि दिखा रहे हैं। बेचारे अभिषेक अकेले नहीं हैं, ऐसे हजारों-लाखों अभिषेक के इजहार का शिकार निर्जीव डब्बे, पेड़, दीवार आदि हो जाते हैं।

डायोड या ट्रायोड।

आज आपकी पोस्ट पढ़ कर कुछ शब्द कलेक्टर ,एमीटर ,बेस ,प्रतिरोध आदि याद आने लग गये | नहीं तो मुझ जैसे कोमर्स के स्टूडेंट को भला ये सब कहा याद रह सकते है |

अच्छा है देखे वाले नहीं लगाये :D

शायद हॉं। शायद ना।

क्या करता बेचारा... परीक्षा की टेंशन का मारा... जुगाड़ तंत्र बढ़िया है...

अच्छा अन्वेषण किया

गणित सूत्र लिखे होते तो अभिषेक हमारे परिचय वाले हो सकते थे:)

आजकल फिरोजाबाद आते जाते हुए हम भी रोज ही इससे दो चार होते हैं। पर इतनी कलात्‍मकता कहीं नहीं देखने को मिली। आभार1

------
TOP HINDI BLOGS !

अच्छा प्रयास है याद करने का. समय का पूरा उपयोग है ये तो.
पर देखने वाले की नज़र भी काबिले तारीफ़ है.
रवि जी का हार्दिक अभिनन्दन.
कभी इस ओर भी नज़र डालें- www.nandanarya.blogspot.com

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget