मुल्क के मुलायमों को मरना जरूरी…

clip_image002

---

व्यंज़ल

---

मुल्क में रहना है तो डरना जरूरी

चारे चरवाना व खुद चरना जरूरी


सियासत बची रहे कुछ इसके लिए

मुलायमों लालुओं का मरना जरूरी


यकीन मानों दोस्तों इस जमाने में

ठीक नहीं धर्म ईमान करना जरूरी


दुनिया का यही तो दस्तूर है यारों

औरों से पहले खुद का तरना जरूरी


लड्डू हाथों से ही खा सकते हैं रवि

यूँ काम करना क्यों हो वरना जरूरी


----

टिप्पणियाँ

  1. वास्तव में कश्मीर व नक्सलवाद को देखते हुए "मुलायमों" का मर जाना भारत के जिन्दा रहने के लिए जरूरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक राजनेता या अमरसिंह को जो भी कह लें, किसी के मरने की इस तरह कामना करें...घोर अमानविय लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. चुप रहते हैं सब कुछ देख कर
    ऐसे में 'रवियो' को बोलना है जरूरी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी10:56 pm

    खाली मुलायम और लालू क्यों। लालकृष्ण और अटल या सुषमा जैसे नेता क्यों नहीं।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें