टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

मोटे हैं तो क्या हुआ दिमाग वाले हैं…

heavier are brainer

एक नई खोज जो दुनिया को बदल कर रख देगी

यह तो चक्के के आविष्कार की तरह है, जिसने सदियों पहले दुनिया को बदल कर रख दिया था.

वैज्ञानिकों ने अब यह खोज कर दिखाया है कि महिलाएँ जितनी ज्यादा मोटी होंगी, उनका दिमाग उतना ही ज्यादा तेज, सक्षम और दक्ष होगा.

इस खोज से तो, अचानक ही, जैसे दुनिया बदल गई है. आज के अख़बार में इस समाचार को पढ़कर आधी दुनिया खुशियाँ मना रही है, जिसमें मेरी बीवी भी शामिल है. अचानक ही उसका टेंशन जैसे कि टें बोल गया है. हर सुबह उठने पर वो वेइंग स्केल में अपने कम न होते वज़न को देख कर दिन भर व्यथित होती रहती थी, आज इस समाचार को पढ़कर वो सुबह से ही खुश है! आज वो अपने भारी भरकम, तेज दिमाग वाली होने के अहसास से बेहद प्रसन्न है.

इस क्रांतिकारी खोज की वजह से चहुँओर उथल पुथल मचनी ही है. अखबारों में वैवाहिक विज्ञापनों में गोरी स्लिम कन्या चाहिए के बजाए गोरी वज़नी कन्या चाहिए दिखाई देने लगेंगे. क्योंकि जितनी ज्यादा वज़नी कन्या उतना वज़नी दिमाग. अब विवाह योग्य कन्या को दिखने में न सिर्फ खाते-पीते घर का होना चाहिए, बल्कि खुद उसे ओवर-डाइट वाली होना चाहिए ताकि दिनों दिन उत्तरोत्तर उसका वज़न और नतीजतन उसका दिमाग बढ़ता रहे.

बाजारों में जमे हुए उच्च क़ीमत के स्लिमिंग ट्रीटमेंट और स्लिमिंग सेंटरों को या तो अपना बोरिया बिस्तरा समेटना होगा या फिर धंधा बदलना होगा. वीएलसीसी स्लिमिंग सेंटर को सीसीएलवी हैवी सेंटर जैसा नया नाम और नया धंधा धारण करना होगा जो स्लिम सुंदर स्त्रियों को ज्यादा सुंदर और श्रेष्ठ दिमाग वाली यानी वजनदार बनाने में सहायता करेगा. वैसे, इस नए धंधे और नए तरह के ट्रीटमेंट के सफल होने के शत प्रतिशत चांस होंगे और असफलता का प्रतिशत नगण्य होगा. स्त्रियाँ नित्य अपना बढ़ता वज़न और फलस्वरूप बढ़ते दिमाग को देख कर प्रसन्न होते फिरेंगीं. एक पतली स्त्री मोटी स्त्री को देख-देख जलेगी कुढ़ेगी, अपने आप को उसके सामने दबा-कुचला महसूस करेग और स्वयं उससे ज्यादा मोटी और इस तरह ज्यादा दिमागदार होने की पूरी कोशिश करेगी. वहीं एक मोटी, स्थूलकाय स्त्री अपने से पतली स्त्री की ओर वितृष्णा की नजर मारेगी और मन ही मन कहेगी – बेदिमाग कहीं की!

स्लिमिंग कैप्सूल, ट्रेडमिल, एरोबिक्स, लिपोसक्शन इत्यादि इत्यादि बातें ऐतिहासिक हो जाएंगीं और नए जमाने के नए, वजनदार विकल्प सामने आ जाएंगे. नए ब्रांड और नए उत्पाद आएंगे जैसे कि एनर्जी और फैट्स से लबालब पोटैटो चिप्स जिसका एक पैकेट खाने पर आपके वज़न में सौ ग्राम की वृद्धि करने की शर्तिया क्षमता रखता है. ट्रेडमिल की जगह ट्रेडकाउच प्रचलन में आ जाएगा जिस पर घंटा भर बैठ कर जँभाई लेते रहने से छंटाक भर वज़न बढ़ने की शर्तिया गारंटी होगी.

पुरुषों के लिहाज से भी यह नई खोज क्रांतिकारी होगी. साइज़ जीरो कन्याओं की तरफ उनका रुझान अब कम होगा. क्योंकि इसमें फिर जीरो साइज दिमाग युक्त कन्याओं से पाला पड़ने का खतरा होगा. जाहिर है, पुरुष ऐसे खतरे उठाने से परहेज करेगा और वो दिमागदार, वजनदार स्त्रियों को तरजीह देगा. वैसे भी असली सुंदरता तो, पुरुषों के लिहाज से, दिमागदार होने में ही है. उसकी सदियों पुरानी जेनेटिकली डिफ़ाइन्ड पसंद नापसंद में गंभीर परिवर्तन के संकेत साफ नजर आ रहे हैं. पुरूष अपने संगी के रूप में स्थूलकाय, भीमकाय, मोटी स्त्री को पाकर प्रसन्न होगा और समाज में गर्व से ज्यादा ऊँचा सिर उठाकर चलेगा – उसकी पत्नी ज्यादा दिमागदार जो होगी.

वैसे भी, इस दुनिया में बेवकूफ़ों, बेदिमाग वालों का क्या काम? तो यदि आप स्त्री हैं तो अपना स्वयं का दिमाग बढ़ाएँ,  और यदि आप पुरुष हैं तो अपने आसपास, घर-परिवार की स्त्रियों का दिमाग बढ़ाने में मदद करें. दुनिया को दिमागदार स्त्रियों से भरपूर बनाने में मदद करें.

----

एक टिप्पणी भेजें

मुझे अपनी बुद्धिमत्ता पर शक होने लगा है, अरे! आप भी तो छरहरे है :) या यह नियम केवल महिलाओं पर ही लागू होता है? :)

और जो पतले होते हैं, उनका क्या।

यह खबर तो बहुत से लोगो के लिए वरदान बन कर आयी है |

आपने मेरी गृहस्‍थी की शान्ति का घनत्‍व और आयतन, दोनों बढा दिए।
भगवान आपका भला करे।

आप से किसने कहा कि लोग दिमाग वाली पत्नी या बहु पसंद करते है लोग तो चिराग ले कर कमअक्ल सीधी साधी पत्नी और बहु कि तलाश करते है | हा अब होगा ये कि अब पत्निय जिम जाने से परहेज करेंगी पर पति उन्हें धक्के दे देकर जिम जाने के लिए प्रोत्साहन देगे इस डर से कि कही पत्नी को दिमाग आ गया तो रोज रोज के आफिस से देर से घर आने और दुसरे झूट पकडे जायेंगे फिर नए झूट कहा से लायेंगे | वैसे व्यंग अच्छा है |

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget