गुरुवार, 20 मई 2010

देश तो साला जैसे सुबह का अख़बार हो गया

clip_image002

व्यंज़ल


देश तो साला जैसे सुबह का अख़बार हो गया
वो तो एक नॉवेल था कैसे अख़बार हो गया

तमाम जनता ने लगा लिए हैं मुँह पे भोंपू
मेरा शहर यारों कुछ ऐसे अख़बार हो गया

दुश्वारियाँ मुझपे कुछ ऐसी गुजरीं कि मैं
एक कॉलम सेंटीमीटर का अख़बार हो गया

लोगों ने कर डाली हैं विवेचनाएँ इतनी कि
धर्म तो बीते कल का रद्दी अख़बार हो गया

बहुत गुमाँ था अपने आप पे यारों रवि को
जाने क्या हुआ कि वो बस अख़बार हो गया

----

(समाचार कतरना – साभार – अदालत ब्लॉग)

6 blogger-facebook:

  1. बहुत बढ़िया साहब

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही मारक लगा..........
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सही निर्णय । अखबार पढ़ने से अच्छा है कि कुछ न पढ़ें ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच कहा आपने और सुप्रीम कोर्ट ने

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------