सबकुछ बिकता है यहाँ…

clip_image002

सिर्फ न्यायालय ही क्यों श्रीमान?

गुजरात उच्च-न्यायालय का मानना है कि वहां की ज्यूडिशियरी में किसी को भी खरीदा जा सकता है. बजा फरमाया योर ऑनर! पर सिर्फ ज्यूडिशियरी की बात क्यों, भारत में ऐसा कोई इन्टैक्ट तंत्र बता दें जहाँ किसी को खरीदा नहीं जा सकता.

आप बता सकते हैं?

---

व्यंज़ल

---

हर कोई बिकता है यहाँ लेवाल चाहिए

सोहनी के देश में एक महिवाल चाहिए


जवाब तो हर किसी के पास है इधर

यहाँ तो बस एक अदद सवाल चाहिए


मुरदों के शहर में हमारा क्या काम

हमें तो रोज एक नया बवाल चाहिए


मेरे मोहल्ले के बाशिंदों को दोस्तों 

खिड़की दरवाजे नहीं दीवाल चाहिए


मामूली से रवि को कोई पूछता नहीं

सब को अब हर तरफ कमाल चाहिए

----.

(समाचार कतरन – साभार टाइम्स ऑफ इंडिया)

एक टिप्पणी भेजें

क्या बात है रवि जी! कैसे आपने मालूम कर लिया कि सबको "कमाल" चाहिये? वैसे सही बात है कि हर चीज यहां बिकाऊ है.

अभी क्या बोलेंगे सर? जो जनता को पता था, जज साब अब बता रहे है.

बेहतरीन। लाजवाब।

मुरदों के शहर में हमारा क्या काम

हमें तो रोज एक नया बवाल चाहिए


वाह क्या बात है सच्ची बात कही आपने
एक ना एक बवाल होता रहे तो हमारा भी मन लगा रहता है :)

देश के विकास की किसको फिकर रहे,

यहाँ तो मोटी खालों को केवल मॉल चाहिये ।

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget