कोई जोकर, कोई शूर्पणखा तो कोई रावण, ब्लॉगिरी में यारों कम पड़ते हैं पत्ते बावन…

clip_image002
वरूण के लिए, माया – शूर्पणखा तो माया के लिए, निःसंदेह वरूण – रावण. माने, चोर चोर सगे भाई!!!

व्यंज़ल

कोई जोकर, कोई शूर्पणखा तो कोई रावण
राजनीति में यारों कम पड़ते हैं पत्ते बावन


मेरा भी मकां होता सत्ता के गलियारो में
सुना है तो वहां होता है बारहों मास सावन


मैं भी ख्वाब ले के आया था दुत्कारा गया
कहते हैं कि मिसफिट हैं यहाँ जो हैं पावन


बंदा हो या कोई खुदा हो या हो कोई फ़कीर
मिला है कभी किसी को उसका मन भावन


जनता तो सो रही है चादर तान के रवि
भले ही हद से जा रही हो सियासती दावन
----

एक टिप्पणी भेजें

बहुत खूब! बहुत खूब!

vishal

wah wah
bahoot sahi

चोर चोर मौसेरे भाई नहीं जी बल्कि कहिए चोर चोर भाई-बहिन :)

आज की राजनीति पर व्यंग्य करती इस कविता में उपहास, ठिठोली और क्रीड़ापरकता के साथ आक्रमकता भी है जो इसे विशेष दर्जा प्रदान करती है।

सच मे बावन पत्ते भी कम है नेताओ के लिये

मैं भी ख्वाब ले के आया था दुत्कारा गया
कहते हैं कि मिसफिट हैं यहाँ जो हैं पावन
.... सुन्दर रचना,प्रसंशनीय!!!!

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
इसे 13.02.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

सही व्यंग्य!! यहाँ तो सभी मुखोटाधारी ही मिलेगें...


मैं भी ख्वाब ले के आया था दुत्कारा गया
कहते हैं कि मिसफिट हैं यहाँ जो हैं पावन

चिंता न करो रवि जी . एकदिन यही देश सभी रावनों सूर्पंखाओं को ख़त्म करेगा . यदा यदाहि धर्मस्य...........

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget