February 2009


देबाशीष ने खबर दी कि द वाल स्ट्रीट जर्नल अखबार समूह के प्रकाशन - लाइव मिंट डॉट काम में मंदी के दौर में ब्लॉगिंग शीर्षक आलेख में दिए वीडियो में मेरे इस चिट्ठे का भी जिक्र है.

वर्ड प्रेस के संस्थापक - मैट मुलेनवेग और गीगा ओम के ओम मलिक के संक्षिप्त साक्षात्कारों के बीच 'रवि रतलामी का हिन्दी ब्लॉग' की एक झलकी - भले ही वो पांच पलों के लिए क्यों न हो, आह्लादित तो करती ही है.

आलेख व वीडियो की कड़ी है -

http://www.livemint.com/2009/02/22235621/Slowdown-and-blogging.html?h=B

---
संबंधित प्रविष्टियाँ -
(१)फ़िफ़्टीन सेकण्ड्स ऑफ़ फ़ेम...
(२)फ़िफ़्टीन सेकण्ड्स ऑफ़ फ़ेम रीवाइन्डेड
(३)फ़िफ़्टीन सेकण्ड्स ऑफ़ फ़ेम रिटर्न्स




इंडीब्लॉगीज़ 2008 पुरस्कारों के लिए नामांकन की घोषणा हो चुकी है. आप १६ फरवरी से २८ फरवरी के दौरान अपने पसंदीदा ब्लॉग का नामांकन वहां कर सकते हैं. मैंने अपने इस ब्लॉग का नामांकन सभी श्रेणियों में करने के लिए कमर कस ली है. सभी श्रेणियों में? जी हाँ, सभी श्रेणियों में. आपको एक एक कर कारण गिनाता हूं. थोड़ा धैर्य रखिए -

The Indibloggies 2008 award categories

The upcoming 2008 event of the Indibloggies would award outstanding blogs in the following award-categories:

1. IndiBlog of the year
वर्ष का इंडीब्लॉग - यह तो ये है ही.

2. Best Humanities IndiBlog (IndiBlogs covering Art/Craft/Painting, Hobby, Literature, Poetry/Fiction)
मेरे ब्लॉग में घूम फिर आइए - कला-पेंटिंग हाबी, साहित्य, कविता, फिक्शन सबकुछ तो मिलता है यहाँ!

3. Best Entertainment Indiblog (blogs on Music, TV, Movies, theater & fashion)
हम्म... पर, यार, मेरा खुद का ब्लॉग जब एतना एंटरटेनिंग है, तो फिर म्यूजिक, टीवी, मूवीज में कोई क्या करने जाएगा भला!

4. Best Sports IndiBlog
हम्म... ठीक है, हम भी अपने सारे पोस्ट और टिप्पणियाँ स्पोर्टिंग वे में ही तो लिखते हैं. कोई पढ़े न पढ़े, टीपे या न टिपियाए!

5. Best Science/Technology IndiBlog
साइंस और टेकनालाजी तो भरपूर है भाई. एक तकनीकी लेबल भी चेंप रखा है - भले ही वो अतकनीकी बातों से अटा पड़ा हो.

6. Best IndiBlog directory/service/clique/network
हमारे ब्लॉग की बाजू पट्टी देख लीजिए - तमाम लिंक और नेटवर्क दिए हैं. इससे परिपूर्ण स्वांतसुखाय डिरेक्ट्री कहीं नहीं मिलेगी देखने को!

7. Best Designed IndiBlog (Blogs with original designs or with major visible customizations to existing themes)
ये मेरा वाला ब्लॉग न सिर्फ ओरिजिनल है, बल्कि इसका कोईक्लोन नहीं है. बेस्ट डिजाइन तो है ही. ब्लॉगिंग का आधा समय इस विजेट इस रंग इस फोंट को इधर उधर करते ही बीतता है!

8. Best Food/Beverages Indiblog
हम्म... आज के जमाने में जहाँ फास्ट फूड और जंक फूड खाने से बदहजमी से लेकर हृदय रोग और केंसर तक की बीमारी मनुष्य को हो जाती है, इसी लिए फूड और ब्रेवरेजेस पर साइलेंट (माने रिक्त) पोस्टें की जाती रही हैं ताकि पाठक खाने के मामले में मितव्ययी रहें. माने जितना कम खाएँ, उतना स्वस्थ रहें. इस लिहाज से, बिलाशक, ये बेस्ट फूड / ब्रेवरेजेस ब्लॉग तो है ही.

9. Most Humorous Indiblog
ह्यूमर तो भइए, यहाँ हर पोस्ट, हर वाक्य, लाइन, हर शब्द में मिलेगी. माने कि मोस्ट ह्यूमरस. अब यहाँ पर सवाल आपके - यानी पाठक के सेंस ऑफ ह्यूमर का है.

10. Best Indi Podcast/Vidcast
यहां पाडकास्ट क्या, इंडीब्लॉगर बाबू के खुदै के वीडियोकास्ट है. तो बेस्ट नहीं होगा क्या?

11. Best Travel Indiblog
मंदी के दौर में ट्रेवल? नो ट्रेवल इज बेस्ट ट्रेवल. इसी विचार को फालो करता है ये ब्लॉग. लिहाजा, इस विचार से तो बेस्ट ही हुआ ना.

12. Best New Indiblog (IndiBloggers who began blogging on/after July 1, 2008)
हुंह... कोई बात नइ, एक नया सिस्टर कंसर्न की तरह सिस्टर ब्लॉग खोला जाएगा, जिसमें इसी ब्लॉग के चंद चुनिंदा, गैर टिप्पणी प्राप्त पोस्टों को समय समय पर रीठेल किया जाएगा. माने, कान दूसरी तरफ से पकड़ें तो इनाम इसी ब्लॉग को...

13. Best Photo Indiblog
फोटो तो भइए, हर पोस्ट में लगाए हैं. सब एक से बढ़कर. और तो और, टैम्प्लेट में हमारा खुद का फोटो भी लगा है. एक परिपूर्ण फोटो ब्लॉग को और क्या चाहिए?

14. Best Personal Indiblog New category
ये ब्लॉग पर्सनल तो है ही. कौनो कंपनी का थोड़े ही है. और इसके सभी कैटेगरी नए हैं. एकदम नए. किसी दूसरे ब्लॉग में व्यंजल और छींटे और बौछारें की कैटेगरी दिखा दो जरा...

15. Best Group/Community Indiblog
हमारा समूह एकला चलो रे में विश्वास करता है. तो, एकमात्र एक सदस्य का समूह ब्लॉग इससे दूसरा बता दें जरा...

16. Best Business Indiblog New category
ब्लॉग लिखना भी बिजनेस है भैये. किसने कह दिया कि शौकिया लिख रहे हैं. तो बिजनेस ब्लॉग हुआ कि नहीं. और बेस्ट का टैग भी लगा देंगे. और नया कैटेगरी - अच्छा पुरस्कार की कैटेगरी नई है, बढ़िया. जितने ज्यादा कैटेगरी उतने ही इस ब्लॉग का फायदा.

17. Best Indi Microblog New category
माइक्रोब्लॉग? फुरसतिया के सामने माइक्रो क्या पिको बल्कि नेनो ब्लॉग है ये तो.


है न दमदार कारण? हो सकता है कि आपके पास आपके अपने या आपके दोस्त के ब्लॉग के बेस्ट मानने के इससे भी जोरदार, दमदार कारण हो सकते हैं. तो देर किस बात की? अभी ही दौड़ लगाइए अपना नामिनेशन भरने.

पर,... जरा रुकिए....
अभी तो वहां सिर्फ अंग्रेज़ी भाषा के ब्लॉगों का नामांकन हो रहा है. हिन्दी समेत अन्य भारतीय भाषाओं के लिए बाद में कवायद की जाएगी. कोई बात नहीं, कमर कस कर तैयार रहने में क्या बुराई है?

लिनक्स में छत्तीसगढ़ी भाषाई वातावरण की उपलब्धता का कार्य जहाँ अपने अंतिम दौर में जारी है, वहीं इस कार्य को विंडोज (एक्सपी, विस्ता, 7 में)  वातावरण में भी प्रस्तुत करने के लिए जांच-परख का दौर तेजी से चल रहा है. विंडोज एक्सपी में छत्तीसगढ़ी भाषा में चलते कुछ अनुप्रयोगों के स्क्रीन शॉट -

 

डॉल्फिन – फाइल मैनेजर:

(बड़े आकार में देखने के लिए चित्र पर क्लिक करें)

chhattisgarhi on windows dolphin

 

अनुवादक परिचय:

(बड़े आकार में देखने के लिए चित्र पर क्लिक करें)

chhattisgarhi on windows kpatients

 

छत्तीसगढ़ी केडीई अनुप्रयोग – विंडोज पर

(बड़े आकार में देखने के लिए चित्र पर क्लिक करें)

chhattisgarhi on windows

---

केडीई 4.2 क्या है? छत्तीगढ़ी में संक्षिप्त जानकारी:

ए डेस्कटाप माहौल ल पूरा दुनिया के साफ्टवेयर इंजीनियर के केडीई टोली ह लिखे अउ मेंटेन करे हे. ये टोली ह फ्री साफ्टवेयर डेवलपमेंट बर पूरा प्रतिबद्ध हे.
केडीई के स्रोत कोड ल कोई एक समूह, कंपनी या आदमी कंट्रोल नइ करे. केडीई मं अपन सहयोग करे बर सब्बो झन ल निमंत्रन हे.
केडीई प्रोजेक्ट के बारे मं अउ अधिक जानकारी पाय के खातिर इहाँ -
http://www.kde.org जाव.

साफ्टवेयर ल हमेसा अउ बढ़िया बनाय जा सकथे. केडीई टोली ह एखर बर तइयार हे. फेर, आप कमइया मन ह बताहू कि कोन चीज काम नइ करत हे अउ कोन चीज मं सुधार करना जरूरी हे.
के डेस्कटाप माहौल मं एक बग ट्रेकिंग सिस्टम हे. बग के रिपोट दे बर इहां जाव
http://bugs.kde.org या "बग रिपोट करव..." गोठ के उपयोग "मदद" मेन्यू मं से करव.
यदि आप मन के पास केडीई ल बढ़िया बनाय के कोई सुझाव होही त ओला रजिस्टर करे बर बग ट्रेकिंग सिस्टम मं आपके स्वागत हे. ए बात के ध्यान रखव कि आप मन ह "विसलिस्ट" के उपयोग ल करे हव.

केडीई टोली के सदस्य बने के खातिर आप मन ल जरूरी नइ हे कि आप साफ्टवेयर डेवलपर हो. आप अपन देस के अनुवादक टोली सन जुड़ के ओ मन के साथ अनुवाद कर सकथो. आप मन केडीई के फोटू, थीम, अवाज अउ कागद ल बढ़िया बना सकथो. बस आप मन विचार कर लेव!
कुछु परियोजना मं आप मन सामिल हो सकथो एखर बारे मं अधिक जानकारी बर इहां
http://www.kde.org/jobs/ जाव.
यदि आप मन कागद के बारे मं अउ जानकारी चाहथो, त इहां जाव
http://techbase.kde.org जहां आप मन ल सफ्फा जानकारी मिल जाही.

केडीई फोकट मं मिलथे, फेर एला फोकट मं नइ बनाय जा सके.
एखर सेती केडीई टोली हर एक गैर-फायदा वाले संस्था केडीई ई.वी. ल ट्यूबिनजेन, जरमनी मं कानूनी रूप से बनाय हे. केडीई ई.वी. हर केडीई परियोजना के कानूनी अउ रुपिया-पइसा से संबंधित मामला ल देखथे. केडीई ई.वी. के बारे मं अउ अधिक जानकारी बर इहां -
http://www.kde-ev.org देखव.
केडीई टोली ल रुपिया-पइसा के सहायता चाही. एमा के बहुत सारा रुपिया-पइसा ल केडीई के सदस्य ल रिम्बर्स करे जाथे अउ केडीई बनाय संबंधी अउ कुछु खर्चा-पानी बर उपयोग मं ले जाथे. आप मन ल प्रोत्साहित करे जाथे कि आप मन केडीई ल रुपिया-पइसा के दान देव. एखर बर इहां दे गे कोई एक तरीका काम मं लेव
http://www.kde.org/support/.
आप मन के समर्थन बर आप मन ल बहुत बहुत धन्यवाद.

---

वैसे तो बहुत कुछ मिल सकता है, और काफी कुछ नहीं भी. मगर, इतने संसाधन में एक पूरा का पूरा ऑपरेटिंग सिस्टम, सैकड़ों अनुप्रयोगों के साथ एक छोटी सी भाषा-बोली में तैयार करने के ख्वाब को पूरा कर लिया जाए तो? अविश्वसनीय? असंभव?

 

मगर यह संभव है. ओपनसोर्स की महिमा है यह. मैथिली (उबुन्टु मैथिली केडीई 4.2 पैकेज डाउनलोड) से शुरूआत हो चुकी है. छत्तीसगढ़ी का नंबर भी आ ही गया है – छत्तीसगढ़ी केडीई 4.2 एसेंशियल फ़ाइलों को चेक-इन किया जा चुका है, और यह भी शीघ्र ही सबके मुक्त व मुफ्त डाउनलोड व उपयोग हेतु जारी हो जाएगा. यह संभव हुआ है सराय द्वारा प्रायोजित मुक्त स्रोत परियोजनाओं के पोषण से. मैथिली और छत्तीसगढ़ी जैसे हिन्दी के डेरिवेटिव भाषाओं के कम्प्यूटर अनुप्रयोगों का अनुवाद हिन्दी अनुवाद के डाटाबेस को लेकर किया जा रहा है जिससे अनुवाद कार्य बहुत कुछ सरल हो गया है. छत्तीसगढ़ी केडीई 4.2 का कार्य लगभग 80प्रतिशत तक पूर्ण हो चुका है और महीने-दो-महीने के भीतर छत्तीसगढ़ी भाषाई वातावरण में लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का आनंद आप ले सकेंगे. और, खुशी की बात ये है कि छत्तीसगढ़ी भाषा में तमाम अनुप्रयोग विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए भी उपलब्ध होंगे क्योंकि केडीई 4.2 के आमतौर पर सभी अनुप्रयोग अपने पूरे भाषाई वातावरण के साथ विंडोज 2000 से ऊपर के तमाम संस्करणों में भी मजे से चलाए जा सकते हैं.

साठ हजार रुपए और छः महीने में एक पूरी दुनिया मिल सकती है – अपनी मातृ-भाषाई के संपूर्ण वातावरण में एक पूरी की पूरी कम्प्यूटिंग दुनिया. आपकी भाषा चाहे कोई भी, कितनी भी अजनबी हो...

 

छत्तीसगढ़ी भाषा में लिनक्स केडीई 4.2 के कुछ स्क्रीनशॉट -

(बड़े आकार में देखने के लिए चित्र पर क्लिक करें)

 

डाल्फिन:

dolphin cg

 

केएटीई:

chhattisgarhi operating system kate

 

केडीई डेस्कटॉप:

chhattisgarhi desktop



चड्डियों को इतनी महत्ता पहले कभी नहीं मिली होगी. आपके पैंट सूट साड़ी सलवार के नीचे यह अदना सा, मगर महत्वपूर्ण वस्त्र पहले कभी भी इतनी चर्चा में नहीं रहा था. अचानक हर तरफ चड्डियाँ ही चड्डियाँ दिखाई देने लगी हैं. लोग-बाग एक दूसरे की चड्डियों के रंग, रूप, आकार प्रकार और कीमत को लेकर वार-प्रहार और आरोप प्रत्यारोप कर रहे हैं. लोग एक दूसरे को देख कर कयास लगा रहे हैं कि सामने वाले ने कौन सी, किस रंग की, किस किस्म की चड्डी पहन रखी है. उसने गुलाबी चड्डी पहनी है कि काली या फिर खाकी. किसी ने थोड़ा सा मुंह खोला नहीं कि लोग उसकी सोच की चड्डी के चीथड़े करने भिड़ जा रहे हैं. लोग खुले में अपनी चड्डियाँ धो रहे हैं, और न सिर्फ धो रहे हैं, सामने वाले की चड्डियों के पैबंदों, उसमें लगे दागों की चर्चा भी पोंगा लेकर कर रहे हैं. बे-रौनक खाकी चड्डी वालों को चटकीले गुलाबी चड्डियाँ भेंट की जा रही हैं.

वैसे, एक आम भारतीय को आज के समय में उसकी चड्डी की औकात दिखाना जरूरी सा हो गया है. कभी कभी तो लगता है कि सूटेड-बूटेड वो आम भारतीय हो या भगवा-करिया रंग वस्त्र धारी वो इंडियन, जब धर्म और संस्कृति पर बोलता है तो लगता है कि उसने शायद चड्डी नहीं पहनी है.

----
व्यंज़ल
---

चाहते तो थे खाकी चड्डियाँ
तकदीर में थी पिंक चड्डियाँ

शहर में निकला है वो नंगा
पहनाने को सबको चड्डियाँ

सूट तो सबने सिलवाए कई
न मिल पाईं उन्हें चड्डियाँ

ये कैसा वक्त है या खुदा
टाई के विकल्प हैं चड्डियाँ

बातें करते हो नंगई की रवि
पहनलो पहले खुद चड्डियाँ

----



और, इस बार सचमुच, कोई छींटें और बौछारें नहीं, कोई व्यंज़ल की मार नहीं.

यदि आपका दिमाग सचमुच में शंट हो गया है और इंटरनेट के यू-ट्यूब, ओरकुट, ट्विटर और फेसबुस और न जाने क्या-क्या में भी आपका मन नहीं रम रहा है, तो ये चंद साइटें आपके लिए ही हैं.

शाउटकास्ट पर वैदिक चैनल के रूप में दर्ज इन साइटों पर जाकर कुछ हिन्दी और संस्कृत में (कहीं अंग्रेज़ी भी है) सुनने-सुनाने से आपको आत्मिक आनंद की प्राप्ति हो सकती है. इसमें कुछ चैनल हैं जिन्हें मैंने भी सुना (हाँ, हाँ!!, पर, परीक्षण के बतौर :)) -

वेद रेडियो :
http://yp.shoutcast.com/sbin/tunein-station.pls?id=789038

मंत्र पुष्पम :
http://yp.shoutcast.com/sbin/tunein-station.pls?id=596718

मंत्र पुष्पम का जाल स्थल:
http://www.wisdomspeak.org/mantra/

वेद वाणी :
http://yp.shoutcast.com/sbin/tunein-station.pls?id=438201

भगवद् गीता:
http://yp.shoutcast.com/sbin/tunein-station.pls?id=878112

प्रसन्न मार्ग :
http://yp.shoutcast.com/sbin/tunein-station.pls?id=802646

रेडियो मीरा बाई ऑनलाइन:
http://www.gita.ddns.com.br:8000/listen.pls

देर किस बात की? इससे पहले कि मंदी के माहौल में काम के बोझ के मारे आपके दिमाग का वाकई भुरता बन जाए, कुछ मंत्र ध्यान पाठ कर ही लें!

हिन्दी ब्लॉगिंग की दशा और दिशा पर अमित गुप्ता के बिंदास खयाल

पिछले दिनों अमित गुप्ता - दुनिया मेरी नजर से - से आश्चर्यजनक, अप्रत्याशित, सुखद मुलाकात हुई. अमित अपने बेबाक-बिंदास खयालों के लिए जाने जाते रहे हैं. अमित का मानना है कि मैंगलोर में राम-सेना के तांडव-नृत्य जैसे विषयों पर ब्लॉगरों ने कुंजियाँ कम खटखटाईँ, जबकि चेतन कुंटे – बरखा दत्त जैसे नॉन ईशू पर माउस ज्यादा चलाए गए. हिन्दी ब्लॉगिंग से संबंधित तमाम विषयों पर अमित के बेबाक बयान देखें नीचे दिए गए वीडियो पर.

हिन्दी ब्लॉगिंग पर अमित गुप्ता का बेबाक बयान (भाग 1)

हिन्दी ब्लॉगिंग पर अमित गुप्ता का बेबाक बयान (भाग 2)

girls cant pub saala

भारत की स्त्रियाँ बहुत कुछ कर सकती हैं. पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर वो हवाई जहाज चला सकती हैं, देश की सुरक्षा के लिए सेना में भरती हो सकती हैं, वे माउन्ट एवरेस्ट पर फतह कर सकती हैं, मुख्य मंत्री और प्रधान मंत्री बन सकती हैं, पेप्सी जैसे अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड की मुख्य कार्यकारी अधिकारी बन सकती हैं. वे और भी ढेरों काम कर सकती हैं - यहाँ तक कि भारत की राष्ट्रपति भी बन सकती हैं.

मगर, गर्ल्स कांट पब साला*. वे शर्तिया पब नहीं जा सकतीं. अगर वो पब गईं तो उनकी धोबी-पाट धुलाई तय है. हिन्दू तालिबानी भाई उन पर अपना अगाध प्रेम न्यौछावर कर देंगे. मुसलिम तालिबान की तर्ज पर हिन्दू तालिबान का आगाज हो गया है. आइए, गर्म-जोशी से इनका स्वागत करें. येदुरप्पा, गहलोत के सुर में सुर मिलाएँ और स्त्रियों पर सिर्फ पब क्या, चहुँओर प्रतिबंध लगाएँ. उनके घर से बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगाएँ. उनकी शिक्षा-दीक्षा पर प्रतिबंध लगाएँ – आखिर, नामुराद लड़कियाँ पढ़ लिख कर ही तो आधुनिकता ओढ़तीं और पब-वब की ओर उन्मुख होती हैं!¡!

 

---

व्यंज़ल

---

 

गर्ल्स कांट पब साला

दुनिया है अजब साला

 

वोटों की राजनीति ने

किया बड़ा गजब साला

 

धुलाई के बाद देखें

करेगा क्या अब साला

 

अब तो यकीन हो गया

सुनता नहीं रब साला

 

सियासत चली रवि ने

मर गया वो तब साला

 

----.

 

(जग सुरैया के आलेख Girls Can’t Pub Saala से प्रेरित)

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget