शनिवार, 9 फ़रवरी 2008

अरविंद कुमार जी का एक पत्र ...

मित्रों, अरविंद कुमार जी का निम्न पत्र मुझे प्राप्त हुआ है:

------

प्रिय रतलामी जी

मैं आप का ब्लाग जब तब बड़े शौक़ से पढ़ता हूँ.

मैं हूँ अरविंद कुमार--समांतर कोश और अभी प्रकाशित द पेंगुइन इंग्लिश-हिंदी हिंदी-इंग्लिश थिसारस ऐंड डिक्थनरी का रचेता. मैं केंद्रीय हिंदी संस्थान आगरा की हिंदी लोक शब्दकोश परियोजना का अवैतनिक प्रधान संपादक भी हूँ. इस योजना के अंतर्गत हिंदी परिवार की भाषाओं के जो 48 कोश बन रहे हैं, उन में हम अब मालवी को लेना चाहते हैं, मुझे हर सहृदय मालवी बुद्धिजीवी से सहायता चाहिए. कृपया मुझ से संपर्क करें--

samantarkosh (--AT--) gmail.com
आपर चाहें तो मेरे नीचे दिए मोबाइल पर फ़ोन भी कर लें...

आप की ऊर्जा से बहुत प्रभावित हूँ। आप जैसे आधुनिक विज्ञान की शिक्षा लिए लोग ही और लाइनक्स पर हिंदी के लिए इतना कुछ कर जाने वाले लोगों से ही अपेक्षा है कि न केवल हिंदी बल्कि हिंदी  परिवार की भाषाओं के लिए, जिन्हें हम लोग बोलियाँ कह कर टाल देते हैं, कुछ आधुनिक काम किया जा सकता है....

कृपया यह भी बताएँ कि हम किन लोगों से कैसे सहायता मिल सकती है. हो सके तो उन के नाम पते भी भेजें. मेरी अपील अपने ब्लाग  पर भी डाल दें, तो कृपा होगी.

आगरा में हमारे  पास एक प्रोग्राम है जिस पर हन  लोग काम कर रहे हैं.

लेकिन आप की निगाह में लाइनक्स पर कोई ऐसा कार्यक्रम है जिस की सहायता से कोशों पर काम किया जा सके... हम लोग 48 भाषाओं के कोश बनाना चाहते हैं, फ़िलहाल 6 पर  काम चल रहा है. मेरे सपनों का प्रोग्राम बड़ी कैपेसिटी का होगा जिस में हिंदी, इंग्लिश, रोमन हिंदी के साथ साथ 48 भाषाओं का डाटाबेस बनाया जा सके, जिन दो या तीन भाषाओं के कोश बनाने हों उन में आउटपुट लाया जा सके--formatting  के टैगों के साथ. मैं  तो डाटा ऐसे फ़ीड करा रहा हूँ कि बाद में तुलनात्मक कोश और थिसारस भी बनाए जा सकें..

उत्तर श्री अभिषेक अवतंस को भी cc कर सकें तो अच्छा रहेगा. मैं दिल्ली से काम करता हूँ. आगरा में सारा काम वह सँभालते हैं.

शुभ कामनाओं सहित

अरविंद कुमार

सी-18 चन्द्र नगर, गाजियाबाद 201011 (उप्र)

--------

 

पाठकों से आग्रह है कि मालवी भाषा के जानकारों, मालवी भाषा के साहित्यकारों तक अरविंद जी का यह संदेश व अरविंद कुमार जी का संपर्क पता उन तक अवश्य और अतिशीघ्र पहुँचाएं. धन्यवाद.

1 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. धन्यवाद, रवि जी

    आशा है आप के ब्लाग के असंख्य पाठक आगे बढ़ेंगे औऱ मूल्यवान जानकारी हम लोगों को भेजेंगे...
    अरविंद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---