'मां' के लिए...

मदर्स डे पर यह ईमेल फ़ॉरवर्ड अंग्रेज़ी में, पश्चिमी ग्राफ़िक के साथ आया. लगा कि इसे हिन्दी में भी होना चाहिए. पृष्ठभूमि चित्र रेखा के स्केच-स्क्रैप बुक से लिया है.

(चित्र को पढ़ने लायक बड़े आकार में देखने के लिए इस पर क्लिक करें)

इसका पीडीएफ़ फ़ाइल यहाँ है. तथा मूल आकार का चित्र (1.2 मेबा) यहां है.

यूनिकोड रंगीन पाठ को इस चित्र के ऊपर चस्पा करने में बहुत समय जाया हो गया. पर, अंतिम परिणाम एक अच्छे हिन्दी ईमेल फ़ॉरवर्ड के लायक तो लगता है बन ही गया.

‘मां' के लिए, जिनके लिए मैं अभी भी 50 वर्षीय ‘बाबा' ही हूं!

***********.***********

Tag ,,,

टिप्पणियाँ

  1. रवि जी
    कितना सारा सच है इन पंक्तियों में । हिंदुस्‍तानी परिप्रेक्ष्‍य में हम इसमें थोड़ा सा फेरबदल कर सकते हैं । बहरहाल आज मदर्स डे पर सुनिए जगजीत सिंह का एक गीत । मेरे चिट्ठे पर ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया रवि जी। हालांकि जो चीज आपने अपने चिट्ठे में प्रदर्शित की है उसके लिए यह शब्द कम हैं।
    धन्यवाद्।
    नमन मां को

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे जीवन में मां का आंचल नहीं रहा. दुनियाभर की मांओं को मैं सलाम करता हूं. यह रचना पढ़कर आंखें नम हो गईं. मां तुझे सलाम.. अपने बच्चे तुझको प्यारे रावण हो या राम

    उत्तर देंहटाएं
  4. Maa ka koi jawab nahin,wo to lajawab hai,Maa ki mamata mein pyar behisab hai.
    http://www.my-nargis.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत आभार इस पेशकश के लिये. अति सुंदर-मार्मिक.

    उत्तर देंहटाएं
  6. यूनुस भाई,
    मैंने कोशिश की थी... परंतु जाहिर है कामयाब नहीं हो पाया..

    संजीत भाई,
    धन्यवाद.

    संजीव भाई,
    धन्यवाद.

    नीरज भाई,
    मुझे आपकी मनोभावना का अहसास हो रहा है.

    राजेश भाई,
    जी हाँ, आपने सही कहा.

    समीर भाई,
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें