याहू! पाइप्स बीटा : अपने हाथों से चुना, छना, साफ-सुथरा नारद?



मैंने तीन दर्जन से अधिक फ़ीड सब्सक्राइब कर रखे हैं. उनकी फ़ीड सम्हाल कर रखना और समय निकाल कर पढ़ना बड़ा मुश्किल काम है - खासकर तब जब ये एकत्र हो जाएँ. इनफ़ॉर्मेशन ओवरलोड के जमाने में क्या पढ़ें और क्या छोड़ें यही समझने में दिक्कतें होती हैं. अब लगता है, नए नवेले याहू! पाइप्स बीटा, के जरिए मैं उन्हें एक स्थान पर न सिर्फ संजो सकता हूँ, बल्कि उन्हें छांट कर, बीन कर, जमा कर भी रख सकता हूँ, और मेरे पढ़ने के लिए फिर छंटा-छंटाया माल मिलेगा और मेरी प्रकृति और मेरे स्वाद के अनुसार सामग्री एक ही स्थल पर मिला करेगी.

याहू! पाइप्स की सबसे बड़ी खासियत यह है कि मुझे एक पंक्ति का भी जटिल किस्म का कोड लिखना नहीं है, सारा कुछ ब्राउज़र अनुप्रयोग के जरिए, चित्रमय खींचो-व-छोड़ो (ड्रैग एण्ड ड्रॉप) इंटरफ़ेस के जरिए आसानी से किया जा सकता है. अंतिम परिणाम सादा, परंतु दिमाग को ध्वस्त कर सकने वाला होता है. यही नहीं, मैं अपने मनोनुकूल बनाए गए फ़ीडों को इंटरनेट पर हर किसी के साथ साझा कर सकता हूँ. इसका आउटपुट स्वयं एक आरएसएस फ़ॉर्मेट में होता है - यानी की अब तीन दर्जन फ़ीड के बजाए मेरे पास छना हुआ, चुना हुआ, सभी फ़ीडों का सम्मिलित, सिर्फ एक ही फ़ीड होगा. वाह! क्या कहने!

यहाँ पर एक सरल, त्वरित उदाहरण आपके लिए है - नारद, जो कि हिन्दी चिट्ठों का लोकप्रिय ब्लॉग एग्रीगेटर है, वह हमें चिट्ठों के प्रकाशित होने के समय के अनुसार जमा कर चिट्ठों को एकत्र कर प्रस्तुत करता है. मैंने नारद की फ़ीड से याहू पाइप्स के जरिए इसे अकारादिक्रम में छाना. फिर मैंने इसमें एक और छन्नी लगाई कि क्रिकेट से सम्बन्धित तमाम चिट्ठों को वह छानकर रोक दे - क्योंकि क्रिकेट से मुझे चिढ़ है. इसका आउटपुट बहुत ही कमाल का है - जो कि आप यहाँ देख सकते हैं.

वर्तमान में याहू! पाइप्स सिर्फ आरएसएस तथा एटम फ़ीड में ही काम करता है. हालाकि एक ऐसा ही औजार जो कि फ़ीड के साथ साथ स्टैटिक सामग्री में क्राउलर के साथ भी कार्य करता है वह है न्यूज़ रैक परंतु उसमें फिर आपको थोड़े से जटिल तरीके से अपने फ़ीड बनाने होते हैं.

आने वाले दिन फ़ीडों का ही होगा ऐसा लगता है और हम सभी इंटरनेट पर अच्छी खासी सामग्री फ़ीड के जरिए ही पढ़ पढ़ा रहे होंगे - किसी को अनावश्यक जाल पर विचरने की आवश्यकता ही नहीं होगी.

Tag ,,,

Add to your del.icio.usdel.icio.us Digg this storyDigg this

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

मैं इस पर लिखने ही वाला था पर आपने बाज़ी मार ली। मैंने कुछ पाईप्स से शुरुवात की http://pipes.yahoo.com/people/12.jHlU3rWHnNzk_Lzv0xO0Fxuh2.6g- पर हालांकि ओपीएमएल इंपोर्ट की सुविधा न होना अखरता है। नारद जैसी शुरुवात करनी है तो ४०० फीड डालने में पसीने छूट जायेंगे।

क्या यह Google-Reader जैसी ही प्रणाली है ?

क्या ज़बर्दस्त ख़बर दी है रवीजी आपने। धन्यवाद आपका

हम सब उस चिट्ठी का इन्तजार करेंगे जब आप यह बतायेंगे कि आपको क्रिकेट से क्यों चिढ़ है।

यह बताइए कि आरएसएस फीड को छोटी सी जावा स्क्रिप्‍ट में बदलने का सबसे अच्‍छा उपाय क्‍या है... Feed2js जैसा कोई सैल्‍फ होस्‍टेड या इंडिपेंडेंट जुगाड़ नहीं हो सकता... और यह भी जानना चाहता हूं कि क्‍या फीड को प्‍लेन HTML में दिखाया जा सकता है।

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget