टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

बिहारीबाबू, ऐश्वर्याराय और गूगल

बिहारी बाबू फ्रस्टिया रहे हैं ऐश्वर्याराय की शादी के कारण और ऊपर से करेले पर नीम चढ़ा बना रहे हैं गूगल मियाँ :)

लगता है गूगल मियाँ अब हिन्दी में लिखा ऐश्वर्या-अभिषेक समझने लगे हैं इसीलिए बिहारी बाबू को जरा ज्यादा जलाने को अंग्रेज़ी में ही सही, ऐश्वर्या-अभिषेक को संदर्भित विज्ञापन में ले आए हैं. (यह स्क्रीनशॉट मेरे कमप्यूटर का है, और यकीन मानिए, असली है - कोई काटो-चिपकाओ संपादन नहीं :)

Tag ,,,

Add to your del.icio.usdel.icio.us Digg this storyDigg this

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

ये बढ़िया है।

काहे परेशान करते तो हो भई हमरे बिहारी बाबू को... :) :)

बना डालिये एक ठो सिनेमा जब जुगल-जोड़ी आपके दरवाजे आ ही गयी है!

संजय बेंगाणी

यह भी खुब रही!! :)

बड़ी गहरी निगाह है आपकी…देखा तो देखा मसाला भी तैयार कर दिया…

Jagdish Bhatia

आपने ठीक पकड़ा रवि जी, कल मैं भी 'गुरू' सर्च कर रहा था तो अंग्रेजी हिंदी दोनो के परिणाम गुगल पर आ रहे थे।
यानी अब सर्च करने पर हिंदी और अंग्रेजी एक साथ सर्च करता है गुगल।

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget