हिन्दी / मराठी का पहला मुफ़्त, पाठ-से-वार्ता प्रोग्राम जारी

हिन्दी व मराठी का पाठ से वार्ता (टैक्स्ट टू स्पीच प्रोग्राम) जारी..

वैसे तो विंडोज़ तंत्र के लिए वाचक नाम का हिन्दी का पाठ-से-वार्ता प्रोग्राम (टेक्स्ट टू स्पीच) कुछ समय से उपलब्ध है, परंतु लिनक्स तंत्र के लिए ऐसा कोई प्रोग्राम अब तक अनुपलब्ध था.
हाल ही में सीडॅक मुम्बई की भाषा कम्प्यूटिंग समूह - जनभारती ने हिन्दी व मराठी के लिए पाठ-से-वाचन प्रोग्राम का अल्फ़ा संस्करण जारी किया है. वस्तुतः यह लिनक्स तंत्र के लिए पहले से उपलब्ध फ़ेस्टिवल नाम के पाठ-से-वार्ता नाम के स्पीच इंजिन के एक्सटेंशन के रूप में काम करता है. इसका अर्थ है कि इसका इस्तेमाल करने के लिए आपके लिनक्स तंत्र में पहले से ही फ़ेस्टिवल संस्थापित होना आवश्यक है. फ़ेस्टिवल एक क्रास प्लेटफ़ॉर्म स्पीच सिंथेसाइजर है जिसे विंडोज, लिनक्स, मॅक, बीएसडी, सन-स्पार्क इत्यादि सभी में इस्तेमाल किया जा सकता है.
जाहिर है, आपके लिनक्स तंत्र में यदि फ़ेस्टिवल संस्थापित नहीं है तो पहले उसे संस्थापित करें. प्रोग्राम संस्थापनाओं की जानकारी हेतु यह कड़ी देखें.
हिन्दी फ़ेस्टिवल यहाँ से डाउनलोड कर संस्थापित करें:
http://janabhaaratii.org.in:9673/indicbhaaratii/Members/Priti_Patil/festival-hi-0-1-tar.gz
मराठी भाषा का पैक यहाँ पर है:
http://janabhaaratii.org.in:9673/indicbhaaratii/Members/Priti_Patil/festival-hi-0-1-tar.gz
हिन्दी पैक की संस्थापना आसान है. बस आपको इस पैक को अ-संपीडित कर इसमें समाहित install.sh स्क्रिप्ट को चलाना है. बस.
हाँ, हिन्दी पाठ से वार्ता प्रोग्राम को चलाना थोड़ा कठिनाई भरा होगा यदि आपने फ़ेस्ट्वल के लिए कोई ग्राफ़िकल फ्रंटएण्ड संस्थापित नहीं किया है. हिन्दी पाठ-से-वार्ता प्रोग्राम तीन चरणों में प्रारंभ होगा-
1 टर्मिनल पर फ़ेस्टिवल प्रारंभ करें
2 फ़ेस्टिवल कमांड प्राम्प्ट पर हिन्दी वार्ता सक्षम करने के लिए कमांड दें
3 किस हिन्दी पाठ फ़ाइल को पढ़ना है उसके लिए कमांड दें
कमाण्ड सिण्टेक्स निम्नानुसार होगा:
$ festival
festival> (voice_hindi_NSK_diphone)
festival> (tts "/home/sample.txt" nil)
यहाँ पर /home/sample.txt यूनिकोड हिन्दी पाठ फ़ाइल का पथ है, जिसे कि पढ़ा जाना है.
प्रोग्राम को चलाकर देखने पर महसूस हुआ कि यह मशीनी आवाज में हिन्दी पढ़ता है तथा अगर आप अपने पाठ में उचित स्थल पर स्पेस या विराम चिह्न नहीं लगाते हैं तो यह पाठ को एक लय व गति में लगातार पढ़ता जाता है जो कि अजीब लगता है, व समझ में भी नहीं आता. इसके विपरीत विंडोज का वाचक प्रोग्राम ज्यादा अच्छा है, व उसकी आवाज भी मशीनी नहीं लगती. साथ ही यह कुछ शब्दों को जिनको यह पढ़ नहीं पाता, छोड़ देता है. फिर भी, चूंकि यह अभी अपने अल्फ़ा अवतरण में है, इन्हें नज़र अंदाज किया जा सकता है, और भविष्य में इसके एक बढ़िया सुघड़ हिन्दी स्पीच इंजिन के रूप में विकसित होने की पूरी आशा रखी जा सकती है.
जनभारती टीम को इस सराहनीय उपलब्धि के लिए बधाईयाँ!
मैंने निम्न पाठ (अभी यह सिर्फ text फ़ाइलों को समर्थित करता है) को इस स्पीच इंजिन से पढ़ाया और इसे रेकॉर्ड कर लिया. इसका एमपी3 फ़ाइल (1 मे.बा.) यहाँ है जिसे आप डाउनलोड कर या स्ट्रीम कर सुन सकते हैं.
पाठ:
एक घिसा पिटा चुटकुला सुनिए
एक ग्राहक - दूध वाले से पूछता है -- क्यों बे, दूध इतना पतला क्यों है
तो दूध वाला पलट कर जवाब देता है - क्या करूं साहब, अबकी मेरी गाय ही पतली हो चली है.
एक दूसरा घिसापिटा, चुटकुला सुनिए
विमल, अपने दोस्त से कहता है - यार, मैं उससे शादी करूंगा जो सुन्दर हो, बुद्धिमान हो, भली हो और सुघड़ हो.
विमल का दोस्त उसे समझाता है - वो तो ठीक है यार परंतु , अपने देश में चार - चार शादियों की मनाही है.
कर्मण्येवाधि कारस्ते मा फलेशु कदाचनः
ऊं भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गोदेवस्य धीमहि धियो योनः प्रचोदयात्
ऊं नमः शिवाय
या अली
वाहे गुरू
जय यीशु
---
अद्यतन : इसका ऑनलाइन, मुफ़्त संस्करण यहाँ से प्रयोग कर सकते हैं:

http://vozme.com/index.php?lang=hi

**-**
Tag ,,,
Add to your del.icio.usdel.icio.us Digg this storyDigg this

एक टिप्पणी भेजें

क्या यह मात्र लिनेक्स प्रयोक्ताओं के लिए है?

गिरिराज जी,
फ़ेस्टिवल एक क्रास प्लेटफ़ॉर्म स्पीच सिंथेसाइजर है जिसे विंडोज, लिनक्स, मॅक, बीएसडी, सन-स्पार्क इत्यादि सभी में इस्तेमाल किया जा सकता है.

अतुल शर्मा

ये तकनीकी बातें समझने में कुछ कठिन हैं, परंतु आज 15 जनवरी को दैनिक नईदुनिया में आपका 'आठवाँ सुर' बहुत सुरीला है। इसकी टिप्पणी के लिए मुझे सबसे आसान स्थान यह चिट्ठा लगा।

अतुल,
धन्यवाद!

अब गुगल translate पर भी ये उपलब्ध हे. (और वो अच्छा हे)

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget