मंगलवार, 3 अक्तूबर 2006

हिन्दी पखवाड़े की भेंट

हिन्दी पखवाड़े की भेंट - ओपन-ऑफ़िस.ऑर्ग हिन्दी में

पिछले सप्ताह हिन्दी पखवाड़ा हर साल की तरह शांति से बीत गया. पूरे देश में हिन्दी की शान में कहीं कसीदे पढ़े गए तो कहीं हिन्दी की बदहाली का रोना रोया गया.

संयोग की बात यह रही कि हिन्दी सॉफ़्टवेयर जगत में एक महत्वपूर्ण कदम की शुरूआत इस पखवाड़े में हुई. ओपन-ऑफ़िस.ऑर्ग जो कि माइक्रोसॉफ़्ट ऑफ़िस की तरह का ऑफ़िस सूट है, जो कि मुक्त व मुफ़्त इस्तेमाल के लिए उपलब्ध है, के नए संस्करण 2.04-rc2 में हिन्दी भाषा का भी पैक 13 सितम्बर 2006 को जारी किया गया है, जिसमें रेड हैट के राजेश रंजन द्वारा अनूदित यूज़र इंटरफ़ेस (मेन्यू इत्यादि) तथा मेरे द्वारा अनूदित मदद फ़ाइलों का समावेश किया गया है.

हिन्दी का पैक विभिन्न प्लेटफ़ॉर्म - यथा विंडोज, लिनक्स इत्यादि के लिए भी अलग अलग उपलब्ध है जिसे अलग से संस्थापित किया जा सकता है. इसके लिए आपके कंप्यूटर पर ओपन-ऑफ़िस.ऑर्ग संस्करण 2 पहले से संस्थापित होना आवश्यक है.

.

.

ओपन-ऑफ़िस.ऑर्ग का हिन्दी का पैक आप यहाँ से डाउनलोड कर सकते हैं-

http://oootranslation.services.openoffice.org/pub/OpenOffice.org/2.0.4rc2/

सॉफ़्टवेयर का डेवलपमेंट तथा अनुवाद साइकल अलग अलग होने के कारण अकसर यह होता है कि जब तक आप किसी संस्करण के अनुवादों को पूरा कर लेते हैं, नया संस्करण आ जाता है जिसमें पुराने अनुवादों में कुछ परिवर्तन परिवर्धन करने होते हैं. ऐसे अनुवाद फ़जी (कच्चा अनुवाद) श्रेणी में डाल दिए जाते हैं. तो हो सकता है कि आपको बहुत सी जगह (20 प्रतिशत तक) हिन्दी के बजाए अंग्रेज़ी ही दिखाई दे, मगर आगे के कार्यों के लिए यह आधार तो रहेगा ही.

ओपन-ऑफ़िस.ऑर्ग मदद के कुछ स्क्रीनशॉट :



3 blogger-facebook:

  1. बेनामी5:09 pm

    चलिये हिन्दी पखवारे की एक उपलब्धि तो हुई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या इसमें गलत शब्दो को स्वतः ही सुधारने की क्षमता है?
    -संजय
    (sanjaybengani एट gmail डॉट com)

    उत्तर देंहटाएं
  3. उन्मुक्त,

    हाँ, यह कह सकते हैं, जो कि अनायास ही हुआ. अनुवाद फ़ाइलें पहले जमा की जा चुकी थीं, परंतु डेवलपमेंट साइकल में 13 सितम्बर को ही जारी हो सका.

    संजय,
    अभी तो नहीं है, परंतु इसमें जोड़ा जा सकता है. इसमें आप अपना स्वयं का शब्द भंडार भी बना सकते हैं :)

    देखते हैं, कहीं कोई परियोजना हासिल होती है, तो यह काम प्राथमिकता में करेगें :)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------