अपना भारत नं 1...

.


भारत के खाते में एक और तमगा


नं1 की स्थिति में रहने पर हम सबको आनंद आता है. श्रेष्ठ और सर्वश्रेष्ठ की चाहत सबको होती है. दुनिया इसी धुरी पर चलती है नहीं तो कब का विराम हो जाता.

अपना प्यारा देश भारत भी कई मामलों में विश्व में नं1 है. हर्ष का विषय है कि एक बार फिर यह नं1 की स्थिति पर है. इस खुशी के मौके पर आप सबको बधाइयाँ व आने वाले वर्षों में यह स्थान बरकरार रहे इसके लिए शुभकामनाएँ. आखिर हम आप सभी के सद्प्रयासों से यह स्थान हासिल हुआ है. अतः बधाईयों व शुभकामनाओं के असली हकदार तो हमीं हैं.

.

.

**-**

आज का व्यंज़ल चिट्ठाचर्चा में पूर्वप्रकाशित

कैसा है तेरे भीतर का आदमी झांक जरा
फल यहीं है, प्रयास को पहले आंक जरा

रोते रहे हैं भीड़ में अकेले पड़ जाने का
मुखौटा छोड़, दोस्ती का रिश्ता टांक जरा


फिर देखना कि दुनिया कैसी बदलती है
चख के देख अनुराग का कोई फांक जरा

दौड़ कर चले आने को लोग बैठे हैं तैयार
दिल से बस एक बार लगा दे हांक जरा


जनता समझेगी तेरे विचारों को भी रवि
अपने अबूझे चरित्र को पहले ढांक जरा

**-**

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

लेने वाला खुश. देने वाला खुश. भारत नं. 1 बन के खुश. फिर टेंशन फ्री व्यंजल का मजा लो ना यार.

जनता समझेगी तेरे विचारों को भी रवि
अपने अबूझे चरित्र को पहले ढांक जरा


-सारे व्यंजल एक जगह कर लें, Index के साथ किसी ब्लाग पर. सभी बेहतरीन हैं.

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget