शनिवार, 2 अप्रैल 2005

असुविधा के लिए खेद है...

परिवर्तन का दूसरा नाम जिंदगी है... *-*-* ब्लॉगर के इस ब्लॉग को नया होस्ट भाई ईस्वामी की महती कृपा से मिला है, जो थोड़ा सा तेज़ तो है ही, ज्य...

शुक्रवार, 1 अप्रैल 2005

मलाई चाटने का आपको भी निमंत्रण - और कोई अप्रैल फूल नहीं!

ये देश मलाईदार! *-*-* सदियों पहले भारत, सोने की चिड़िया कहलाता था. जब वास्को डि गामा, भारत के लिए समुद्री रास्ता ढूंढ कर वापस पुर्तगाल पहु...

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------