रविवार, 13 मार्च 2005

हिन्दी में ऑफ़िस सूट

हिन्दी में ऑफ़िस सूट: ओपन-ऑफ़िस हिन्दी

(ऑन लाइन हिन्दी समाचार पत्रिका प्रभासाक्षी में दि. 13 मार्च 05 को पूर्व प्रकाशित )

माइक्रोसॉफ़्ट के ऑफ़िस सूट के हिन्दी संस्करण के पिछले साल जारी होने के साथ ही कम्प्यूटर अनुप्रयोगों के स्थानीय भाषाओं में स्थानीयकरण की होड़ मच गई है. जहाँ व्यवसायिक उत्पाद तो इस दौड़ में शामिल हो ही चुके हैं, मुक्त सॉफ़्टवेयर/ओपनसोर्स भी इस दौड़ में पीछे नहीं हैं. बहुत से स्तरों पर, बहुत से स्थानों पर बहुत से लोग भिड़े हुए हैं – लगे हुए हैं स्थानीय भाषाओं में कम्प्यूटर और उनके अनुप्रयोगों को लाने हेतु ताकि कम्प्यूटरों के उपयोग को स्थानीय लोगों तक पहुँचने-पहुँचाने में अँग्रेज़ी की अनिवार्यता को खत्म किया जा सके. माइक्रोसॉफ़्ट का तमिल और हिन्दी भाषा में ऑपरेटिंग सिस्टम तो है ही, ऑफिस सूट भी इन भाषाओं में है. ओपन सोर्स का लिनक्स इस मामले में थोड़ा सा धनवान है जहाँ इसके पास छ: भाषाओं में ऑपरेटिंग सिस्टम – हिन्दी, तमिल, गुजराती, पंजाबी, मराठी और बंगाली में है तथा ऑफ़िस सूट हिन्दी और तमिल में है. और ढेरों अन्य भारतीय भाषाओं में काम जोरों से जारी है – व्यवसायिक प्लेटफ़ॉर्म में भी और ओपनसोर्स में भी.

ओपनसोर्स प्लेटफ़ॉर्म में उपयोग तथा वितरण हेतु मुफ़्त उपलब्ध ओपनऑफ़िस.ऑर्ग का ऑफ़िस सूट तमिल में तो कुछ समय से उपलब्ध था ही, हिन्दी में भी उपलब्ध हो गया है. इसके हिन्दी अनुवाद का कार्य सीडैक की बैंगलोर टोली ने किया है. हिन्दी ओपनऑफ़िस को यहाँ से डाउनलोड किया जा सकता है:: http://trinetra.ncb.ernet.in/bharateeyaoo/ यहाँ से ओपन ऑफ़िस का तमिल, मराठी, गुजराती और कन्नड़ संस्करण भी डाउनलोड किया जा सकता है. और, तारीफ की बात यह है कि ओपनऑफ़िस ऑफ़िस सूट विंडोज़ तथा लिनक्स दोनों में ही बख़ूबी काम करता है. इस सूट में ऑफ़िस राइटर, स्प्रेडशीट, प्रेजेंटर, ड्राइंग, एचटीएमएल संपादक इत्यादि सब कुछ हैं, जो कि आपको व्यवसायिक उत्पाद माइक्रोसॉफ़्ट ऑफ़िस सूट में आपको मिलते हैं. यही नहीं, ओपनऑफ़िस के द्वारा आप माइक्रोसॉफ़्ट ऑफ़िस दस्तावेज़ों पर भी आसानी से काम कर सकते हैं. वैसे तो ओपनऑफ़िस हिन्दी में आप तमाम तरह के हिन्दी फ़ॉन्ट जैसे कि कृतिदेव से लेकर सुषा और नई-दुनिया तथा यूनिकोड सभी में काम कर सकते हैं, परंतु ओपनऑफ़िस हिन्दी स्प्रेडशीट में अगर आप हिन्दी यूनिकोड में काम करते हैं तो हिन्दी में इंडेक्सिंग / छंटाई इत्यादि भी आपके लिए बहुत आसान होगा. साथ ही इसका शब्दों का ऑटोकम्प्लीशन जो कि जैसे जैसे आप टाइप करते जाते हैं, यह स्वयं सीखते हुए चलता है, अत्यंत उपयोगी है जो आपकी उंगलियों को काफ़ी राहत पहुँचाता है.

संस्थापना से लेकर मेन्यू – सभी हिन्दी में:
जब आप ओपनऑफ़िस हिन्दी को अपने कम्प्यूटर में संस्थापित करते हैं तो यह देखकर बड़ी प्रसन्नता होती है कि आपका स्वागत प्रारंभिक संस्थापना मेन्यू में भी हिन्दी से होता है, चूँकि इसके इंस्टालर को भी हिन्दी में अनूदित किया जा चुका है. अन्य सभी संस्थापना निर्देश, सिर्फ लाइसेंस एग्रीमेंट को छोड़कर, हिन्दी में ही हैं.
संस्थापना के पश्चात् जब आप ओपनऑफ़िस हिन्दी प्रारंभ करते हैं तो आप पाते हैं कि प्राय: इसके सभी मेन्यू हिन्दी भाषा में ही हैं. कहीं-कहीं कुछ अनुवाद की ग़लतियाँ मिलती हैं, जिन्हें उम्मीद है कि इसके अगले संस्करणों में सुधार लिया जाएगा. इसमें ख़ूबी यह भी है कि कुंजीपट शॉर्टकट को हिन्दी अक्षरों से ही जोड़ा गया है जिससे कि हिन्दी वातावरण में कार्य करते समय शॉर्टकट कुंजियों के लिए अंग्रेजी वातावरण में जाने की आवश्यकता नहीं होती. हालाकि, तब फिर पुराना ट्रेडिशनल फ़ाइल सहेजने का शॉर्टकट कंट्रोल एस की बजाए कोई नया, हिन्दी का शॉर्टकट याद रखना होगा. कुंजीपट शॉर्टकट के लिए अलग-अलग माहौल में अलग-अलग व्यवस्थाएँ की गई हैं जिसके कारण हिन्दी में भिन्न-भिन्न माहौल में कार्य करने में हो सकता है कि हमें थोड़ी परेशानी आए. उदाहरण के लिए माइक्रोसॉफ़्ट ने कापी/कट/पेस्ट के लिए अँग्रेज़ी के पारंपरिक शॉर्टकट को बनाए रखा है. हिन्दी लिनक्स में अँग्रेज़ी के शॉर्टकट को ही रखा गया है जबकि ओपनऑफ़िस में सारे के सारे शॉर्टकट हिन्दी अक्षरों के हैं. नतीजतन कुछ शॉर्टकट काम नहीं करते तो कुछ असमंजस पैदा करते हैं. मगर, संपूर्ण अनुवाद तथा हिन्दी भाषा में संपूर्ण कम्प्यूटर माहौल के लिए यह प्रयास सराहनीय तो है ही, कालांतर में सभी अनुप्रयोगों/ऑपरेटिंग सिस्टम को इसे अपनाना ही होगा.

ओपनऑफ़िस की हिन्दी अलग?

ओपनऑफ़िस हिन्दी में माइक्रोसॉफ़्ट तथा लिनक्स के हिन्दी से बिलकुल अलग प्रयोग किया गया है. ओपनऑफ़िस में भाषा का सीधा, अनौपचारिक प्रयोग किया गया है जैसे कि काटो, चिपकाओ, खोलो इत्यादि. जबकि माइक्रोसॉफ़्ट तथा लिनक्स में औपचारिक, आदर सूचक तरीका इस्तेमाल किया गया है जैसे कि काटें, चिपकाएँ, खोलें इत्यादि, जो कि समृद्ध हिन्दी के लिए ज्यादा उपयुक्त है. संभवत: यह ऐसा इसलिए हुआ है कि हमारे पास हिन्दी फ़ॉन्ट की तरह कम्प्यूटर टर्मिनॉलॉज़ी तथा मेन्यू इत्यादि के लिए अभी भी कोई मानक शब्दावली नहीं है. जिसके कारण हर कोई अपनी सहूलियत के अनुसार हिन्दी के शब्दों का प्रयोग कर रहा है. इससे हिन्दी का भला होने के बजाए नुकसान होने की संभावना प्रबल है. उम्मीद करते हैं कि आने वाले समय में इस क्षेत्र में विशेष ध्यान दिया जाएगा.
अभी फिलहाल, ओपनऑफ़िस के जीयूआई तथा इसके बहुत सारे टिप्स और त्रुटि संदेश हिन्दी में उपलब्ध हैं. ओपनऑफ़िस में मदद अभी भी अँग्रेज़ी में ही है. मदद फ़ाइलों को हिन्दी में लाने में कुछ समय लग सकता है, चूँकि इनका अनुवाद करने में खासा वक्त और बहुत से कार्यघंटों की आवश्यकता होती है. ओपनऑफ़िस पर हिन्दी फ़ॉन्ट और इंटरफ़ेस चाहे वह विंडोज़ में हो या लिनक्स में, बहुत सुघड़ प्रतीत होता है और हिन्दी माहौल में ओपनऑफ़िस राइटर में हिन्दी का यह आलेख लिखने में आनन्द की अनुभूति होती है. हालाकि अभी इसमें माइक्रोसॉफ़्ट हिन्दी ऑफ़िस की तरह वर्तनी जाँचक तो नहीं है, जिसकी सख्त आवश्यकता है, और कहीं-कहीं मेन्यू और संदेशों में संस्कृत के कठिन शब्दों का उपयोग हताशा पैदा करता है.
कुल मिलाकर, अगर आपको अपनी हिन्दी भाषा में एक ऐसा आधुनिक ऑफ़िस अनुप्रयोग मुफ़्त में इस्तेमाल करने के लिए मिले जिससे आप कम्प्यूटर पर अपने दैनंदिनी के ढेरों काम निपटा सकते हैं, तो फिर छोटे मोटे गुणदोषों को तो माफ किया ही जा सकता है.

3 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. लेख पढ्कर बहुत उत्साह मिला । जानकारी बहुतों के लिये सीधे उपयोगी है ।

    अनुनाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे यह जानकर बहुत खुशी हुई कि ओपन ऑफि़स का हिंदी अनुवाद हो चुका है। हालॉंकी, कई शब्‍द जैसे काटो, चिपकाओ, आदि का मानकीकरण बहुत जरुरी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब तो फ्यूल ने मानकीकरण की दिशा में कदम बढ़ाया है। काटें , चिपकाएँ की जगह काटो, चिपकाओ देखकर लगता है कि कोई बुजुर्गवार बच्चों से बतिया रहे हैं। हालाँकि अनुवाद में तमाशा भी होता रहता है। प्ले के लिए चलाएँ और रन के लिए भी चलाएँ। जबकि दृश्य-श्रव्य को बजाया जाता है। फिर भी माइक्रोसाफ्ट वालों ने चलाएँ ही बरकरार रखा। कई बार व्यक्ति और उसका स्थान भी भारी पड़ जाते हैं। विंडोज 7 के लिए आपने जब बताया था, हम भी कुछ सुझाव दे आए थे। उसी के बारे में कह रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---