टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

रेडहैट लिनक्स हिंदी में

रेडहैट लिनक्स हिंदी समेत 5 भारतीय भाषाओं में जारी
*-*-*
रेडहैट का फेदोरा कोर 3, हिंदी समेत 5 भारतीय भाषाओं, यथा- बंगाली, पंजाबी, गुजराती तथा तमिल में जारी किया जा चुका है तथा यह संपूर्ण सर्वर ऑपरेटिंग सिस्टम अपने साथ ढेरों अन्य अनुप्रयोगों सहित मुफ़्त डाउनलोड हेतु अब यहाँ सेः http://fedora.redhat.com/download/mirrors.html उपलब्ध है. फेदोरा कोर 3 में प्रारंभिक संस्थापना स्क्रीन से लेकर प्रायः सभी प्रकार के अनुप्रयोगों तक पूर्णतः आपको भारतीय भाषा का वातावरण प्राप्त होगा. इसमें केडीई 3.2 , एक्सएफसीई 4.2 के लगभग सभी मॉड्यूल्स तथा साथ ही गनोम 2.8 सहित कुछ अन्य अनुप्रयोग जैसे कि गेम इंसटैंट मैसेंजर के प्रायः अधिकतर हिंदी अनुवादों का कार्य हमारी टीम ने किया है. यूँ इससे पूर्व रंगोली नाम से भारतीय भाषाओं का एक जीवंत लिनक्स सीडी का बीटा संस्करण भी जारी किया जा चुका है जिसमें ऊपर दी गई भाषाओं के अलावा मराठी, कन्नड़, मलयालम इत्यादि भाषाओं के आंशिक समर्थन भी हैं. उड़िया तथा तेलुगु भाषा में भी कार्य जोरों से जारी है. शायद लिनक्स में भारतीय भाषाओं की सक्रियता को देखते हुए माइक्रोसोफ्ट की भी नींद उड़ी है और वह भी अगले साल हिंदी में विंडोज़ एक्स पी का कम कीमत का स्टार्टर वर्जन निकालने जा रहा है, तथा उसने यह भी घोषणा की है कि अन्य 14 भारतीय भाषाओं में भी शीघ्र ही उसका संस्करण निकलेगा. डेबियन लिनक्स का संस्थापक भी अब हिंदी में अनुवादित किया जा चुका है और प्रारंभिक जाँच पड़ताल के बाद डेबियन में हिंदी समर्थन जारी होने की संभावना है. मेनड्रेक लिनक्स संस्थापक तो पहले से ही हिंदी में उपलब्ध है ही.
अब वह दिन आ गया है जब भारतीय कंप्यूटरों के संपूर्ण डेस्कटॉप वातावरण भारतीय भाषाओं में ही रहेंगे.
स्क्रीन शॉट देखें:
हिंदी में

मराठी में

बंगाली में

ਪੰਜਾਬੀ ਮੇੰ

ગુજરાતી મેં


एक टिप्पणी भेजें

वाह यह तो बहुत ख़ुशी की बात है। क्या आपने कभी लॅप्टॉप पर लिनक्स स्थापित किया है?

मेरे पास जो लॆपटॉप है वह बाबा आदम के जमाने का है (33 मे.ह., 486, 8 मे.बा. रैम) उसमें लिनक्स टेक्स्ट मोड में चलता है. मित्रों ने सेंट्रिनो और 128 मे बा. रैम में ग्राफ़िकल लिनक्स चलाया है. बढ़िया चलता है.
रवि

आप तो एकदम पुराने उस्ताद हैं कम्प्यूटर के मामले में। इतने दिनों से कम्प्यूटर का साथ है जब पैदा ही नहीं हुए थे…

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget