आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

रेवडियाँ

समझदार की रेवड़ी
-----------
दोस्तों, एक दोहा तो आपने भी सुना - पढ़ा होगा. अंधा बाँटे रेवड़ी... परंतु अब रेवड़ी समझदार लोग देख-परख कर बाँटा करते हैं (रेवड़ी, वह भी बाँटने के लिए, भाई, आजकल समझदारों के पास ही होती है) और जाहिर है समझदार रेवड़ी किसको किसको बाँटेगा?



दो जजों की कमेटी ने जाँच के उपरांत पाया है कि जब बीजेपी सरकार में थी, तो उस दौरान जितने भी पेट्रोल पंपों के आबंटन हुए थे, उनमें से ७० प्रतिशत का आबंटन बीजेपी सरकार के सदस्यों के सम्बन्धियों और दोस्तों को अवैध रूप से दिए गए थे.

यह कोई नई बात है? यह तो जग जाहिर है कि सरकार में रहने के लिए, सरकार बनाने के लिए अधिसंख्य लोग लालायित क्यों रहते हैं? देश सेवा के लिए? क्या मज़ाक है!

-------------------------------

---
ग़ज़ल
***

अपने अपने हिस्से काट लीजिए
अपनों को पहले जरा छाँट लीजिए

हाथ में आया है सरकारी ख़जाना
दोस्तों में आराम से बाँट लीजिए

प्याले भ्रष्टाचार के मीठे हैं बहुत
पीजिए साथ व दूरियाँ पाट लीजिए

सभी ने देखी हैं अपनी संभावनाएँ
फिर आप भी क्यों न बाँट लीजिए

सार ये बचा है रवि कि देश को
काट सको जितना काट लीजिए

*-*-*
**
*

टिप्पणियाँ

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें