शनिवार, 23 सितंबर 2017

फ़ेसबुक फ़र्ज़ी है...

आज विभिन्न समाचार पत्रों में फ़ेसबुक ने पूरे पन्ने का विज्ञापन छपवाया है और सोशल मीडिया, खासकर फ़ेसबुक में फैल रहे फर्जी खबरों से आगाह किया ...

शुक्रवार, 22 सितंबर 2017

दिल को बहलाने के लिए ग़ालिब, खयाल अच्छा है...

ओह, अब पता चला आज सुबह सुबह सिर घुटवा के क्यों चले आए....

फ़ेसबुक कौन जात हौ?

फ़ेसबुक का धर्म, उसकी जाति क्या है? किसी को पता है? आपको भले ही फ़ेसबुक का धर्म, उसकी जाति पता हो न हो, फ़ेसबुक आपकी जाति और आपके धर्म के बा...

पायरेसी जिंदाबाद!

और, ये आखिर किस ने कह दिया भाई कि पायरेसी नुकसानदायक होती है. आजतक हमें तो फायदा ही फायदा मिलता रहा है, नुकसान कभी हुआ ही नहीं!

मंगलवार, 12 सितंबर 2017

व्यंग्य जुगलबंदी - 51 – आलोकित जुगाड़

(2007 में आलोक पुराणिक ब्लॉगों में इस तरह हंसते-हंसाते हुए पाए गए थे) सूचना – यह आलोक पुराणिक पर संस्मरण भी है. इसे जुगाड़ का व्यंग्य भी कह ...

शनिवार, 2 सितंबर 2017

व्यंग्य जुगलबंदी 50 : नोटबंदी, जीडीपी और आर्थिक विकास

अस्वीकरण – यह टोटल व्यंग्य (परिपूर्ण व्यंग्य भी लिख मार सकता था, पर, फिर कितने लोगों को समझ में आता?) है. अतः तद्नुसार ग्रहण करें. नोटबंदी प...

शुक्रवार, 1 सितंबर 2017

इतना सस्ता मेरे किस काम का?

12 लाख के बजाए 15 होता और अपने हिस्से का परसेंटेज भी इतना ही बढ़ता तो बात फिर भी ठीक थी!

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---