टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

व्यंग्य जुगलबंदी 47 : साराह से छेड़छाड़

साराह से प्राप्त संदेशों को दुनिया सगर्व अपने फ़ेसबुक, वाट्सएप्प, ब्लॉग आदि आदि पर डाल रही है. प्रकटतः बड़ी ईमानदारी से. परंतु हमारे पास एआई (कृत्रिम बुद्धि) युक्त एक ऐसी हैकिंग मशीन आ गई है जिससे उनके साराह संदेशों में की गई छेड़छाड़ का पता लग जाता है. हमारी मशीन ने ये पता लगा लिया है कि अब तक सार्वजनिक प्रकाशित साराह संदेशों में से अधिकांश में छेड़छाड़ की गई है और नक़ली संदेश छापे गए हैं. हमारी हैकिंग मशीन ने साराह में सेध लगा ली है और असली संदेशों को प्राप्त कर लिया है.

प्रस्तुत है बिना छेड़छाड़, साराह से प्राप्त कुछ असली संदेश, जिसे, जाहिर है, लोगों ने सार्वजनिक जाहिर नहीं किया.


(दिया गया कोई भी)

एक वरिष्ठ कवि -

image


एक और -

image


एक वरिष्ठ व्यंग्यकार -

image


एक वरिष्ठ कहानीकार -

image


एक वरिष्ठ समीक्षक -

image


एक और -

image


एक वरिष्ठ उपन्यासकार -

image


एक वरिष्ठ संपादक -

image


एक और -

image

(क्रमशः अगले अंकों में - साराह से छेड़छाड़ जारी है...)

एक टिप्पणी भेजें

मस्त हो रही है छेड़छाड़ सभी से साराह के माध्यम से....बेहतरीन!!

बेहतरीन लेख ... तारीफ-ए-काबिल ... Share करने के लिए धन्यवाद!! :)

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget