शनिवार, 13 मई 2017

मेरा स्मार्टफ़ोन कैसा हो? बिलकुल इसके जैसा हो...

image

कोदसेक साल पहले मैंने कुछ कल्पना की थी कि मेरा स्मार्टफ़ोन कैसा हो. मेरी बहुत सी इच्छाएँ पूरी हो गई है. परंतु इच्छाओं का क्या. एक पूरी हो तो दूसरी. और, इच्छाएं ऐसी हों कि हर इच्छा पे सांस फूले. बहरहाल, आने वाले समय के लिए मेरी स्मार्टफ़ोनी इच्छाएँ कुछ ऐसी हैं –

1 स्मार्टफ़ोन रीयल स्मार्ट हो नाम के नहीं

जी हाँ! अभी का, आपके हाथों का स्मार्टफ़ोन, भले ही फ्लैगशिप किस्म का हो, मार्केट में हाल ही में नया नकोर उपलब्ध हाई एंड कॉन्फ़िगुरेशन, डेका-कोर और 8 जीबी रैम, 128 जीबी रोम वाला हो, मगर है तो वो बिलकुल डम्ब ही. आप पूछेंगे कि भला कैसे? तो भइए, जरा ये बताओ, आपके वाट्सएप्प पे आने वाला हर दूसरा संदेश, वही, सड़ाऊ, पकाऊ, ठीक तीन संदेश ऊपर आया, और अनंत बार फारवर्ड मारा हुआ क्यों आता है? क्या इसीलिए आपने स्मार्टफ़ोन खरीदा है? क्या आपका स्मार्टफ़ोन ये बता नहीं सकता है फारवर्ड मारने वाले को कि भइए, इस सड़ेले, फेक संदेश को फारवर्ड मत मार, तेरी बड़ी किरकिरी होने वाली है. या कि, स्मार्टफ़ोन यह तो कर ही दे कि जिस संदेश को आप एक निगाह मार कर मुंह बिसूर कर तुरंत मिटा चुके हैं, उसे वो आपके स्मार्टफ़ोन में किसी सूरत दोबारा डिलीवर ही न होने दे? समय और श्रम की तो बचत होगी ही, फ्री डेटा के जमाने में भी डेटा की भी बचत होगी. यही हाल फ़ेसबुक का है. आपका, नाम का स्मार्टफ़ोन न ये बता सकता है कि सामने वाले की प्रोफ़ाइल फेक है या असली, जो प्रोफ़ाइल पिक के पीछे चेहरा है वो असली है या नकली या कि, जेंडर ही चेंज है! फिर, फ़ेसबुक स्टेटस में जो लेखन शैली की, मौलिक लेखन की वाह-वाही मिल रही है वो कहां से किस तरह से उड़ाई हुई है. हद है! और आप कहते हैं कि ये स्मार्टफ़ोन है!

2 स्मार्टफ़ोन दिखने में भी स्मार्ट हों, मूर्ख चौकोर डब्बे नहीं.

गोल्ड स्मार्टफ़ोन ले लो, डायमंड स्टडेड ले लो, ब्लू या फिर सिल्वर ले लो. अथवा सेरेमिक बैक वाला ले लो, और अपनी पसंदीदा बैक-कवर या बम्प कवर ले लो या कोई रंगीन, बोल्ड तस्वीर वाली स्किन लगा लो. आपका स्मार्टफ़ोन वही चपटा सा, आयताकार, बेहद बदसूरत और हाथों में पकड़ने में घटिया, दर्दयुक्त फ़ीलिंग देने वाला होता है. इस मामले में दो-हजार के स्मार्टफ़ोन और दो-लाख के स्मार्टफ़ोन में कोई अंतर नहीं होता. बल्कि महंगे स्मार्टफ़ोन में बदसूरती थोड़ी महंगी ही मिलती है. तो, सवाल ये है कि स्मार्टफ़ोन दिखने में कैसे हों? भाई, स्मार्ट हों. फ़ैंसी हों. कुछ टिप कैशियो जी-शॉक घड़ियों के मॉडलों से लिया जा सकता है. भई, डायल भी वही, घड़ी के कांटे भी वही, मगर घड़ी जी-शॉक जैसी दिखती तो है. और, आपका स्मार्टफ़ोन? आईफ़ोन और शियामी में कोई अंतर बता तो दो मुझे! अब यहाँ झगड़ा मत करिएगा. मैंने लुक और फ़ील में अंतर की बात कही है. ये नहीं कि आप 8 जीबी रोम वाले आईफ़ोन और 128 जीबी रोम वाले शियामी की कीमत और परफ़ॉर्मेंस में अंतर बताने लग जाएं!

3 स्मार्टफ़ोन में ट्रू-स्मार्ट प्रेडिक्शन हो.

ठीक है, कि आपका स्मार्टफ़ोन भविष्यवाणी कर देता है कि शाम को आपके क्षेत्र में बारिश होगी या नहीं, आज धूप निकलेगी या आसमान में बादल छाए रहेंगे, और आजकल के डेटा-माइनिंग के दौर में आपका स्मार्टफ़ोन सटीकता से ये भी बता देता है कि आपके कार्यालय से निकल कर घर जाने के रास्ते में कहां-कहां ट्रैफ़िक जाम हैं और जाम है तो कितना, और कितने देर में आप घर पर पहुँच जाएंगे – जिस पर रीयल टाइम में आप पर निगाह घर से रखी जा रही होती है और आप कतई बहाना नहीं मार सकते कि आप जाम में फंसे होने के कारण लेट हो गए. मगर, आपका स्मार्टफ़ोन यह बताने में असमर्थ रहता है कि आखिर, क्यूं, आपके समय पर, बल्कि कभी समय से पहले, और साथ में एक अदद गुलाब का फूल लेकर जाने के बावजूद किसी अच्छे खासे खुशनुमा शाम को, आपकी बीवी का मुंह फूला हुआ क्यों मिलता है और उस दिन जम कर झगड़ा क्यों हो जाता है. यदि आपका स्मार्टफ़ोन वाकई स्मार्ट होता तो वो आपको पहले ही आगाह कर देता कि भइए, आज जरा बचके रहना. हो सके तो वो क्राउड-सोर्स के जरिए, आपको दो-चार बचाव के अनुभूत नुस्खे भी सुझा दे, तब तो सही स्मार्टनेस होगी. अन्यथा क्या तो स्मार्टफ़ोन और क्या फ़ीचरफ़ोन! और, ये भी भला कोई स्मार्टनेस हुई कि दिनभर, किसी आदमी के कदमों का हिसाब लिखते रहो कि भाई, आज तुम डेढ़ हजार कदम चले और पचीस कैलोरी बर्न किए. या फिर, भाई, आज आपके दिल की धड़कन थोड़ी असामान्य थी – अरे भई, नई, खूबसूरत इंटर्न ने आज ही तो ज्वाइन किया और वहाँ से एक दिलकश मुस्कान मिलेगी तो अच्छे से अच्छा भला चंगा दिल एक बीट स्किप तो मारेगा ही.

यूँ तो मैं कोई दर्जन भर और ऐसे फ़ीचर गिनवा सकता हूँ, जो कि एक स्मार्टफ़ोन की न्यूनतम आवश्यकताओं में होने चाहिए, मगर पहले ऊपर दी गई सुविधाएँ हासिल तो हों! आपकी भी कोई इच्छा सूची है क्या? यदि हो, तो कृपया हमें भी बता कर उपकृत करने का कष्ट करें.

0 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---