संदेश

April, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं
आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

व्यंग्य की जुगलबंदी - हवाई चप्पल की घर वापसी

वुडलैंड, अडीडॉस, नाईकी आदि-आदि को कॉम्प्लैक्स हो गया है। बात ही कुछ ऐसी है। हवाई चप्पल घर वापस आ गया है और क्या खूब वापस आया है। हवाई चप्पल की घर वापसी हो गई है, उसके दिन फिर गए हैं। मोची और खादिम की रत्न जड़ित चप्पलों में अब वो मजा नहीं रहा जो अब हवाई चप्पलों में है। हवाई चप्पल आज के युग का नया फैशन स्टेटमेंट है। नई टेक्नोलॉजिकल क्रांति है। अब तक आप हवाई चप्पल डाल कर कहीं निकलते थे, भले ही चिकित्सकीय मजबूरीवश ही सही, लोग-बाग आपकी फटीचरी हैसियत का अंदाजा दूर से ही लगा लेते थे। तब के युग में, भले ही आपकी जेब में लाख रुपये हों, वो भी असली और नए वाले, अगर आपके पैरों में हवाई चप्पल होता था तो उस रकम की असल फ़ेस वैल्यू कोई मानता ही नहीं था, वह शून्य होता था, और उसे नोट बंदी के ठीक बाद के नोटों के जैसा महज कागज का टुकड़ा माना जाता था। यूं कहें कि माथे पर कोहिनूर हीरा भले ही लटका लो पर यदि आपके पैरों में हवाई चप्पल रहता था तो कोहिनूर हीरे की भी कोई पूछ परख नहीं होती थी । पर अब हवाई चप्पल में हैसियत के पंख लग गए हैं। कल ही की तो बात है। दुकालू अपनी एकमात्र फटीचर हवाई चप्पल, जिसकी बद्दी…

इट कैन हैप्पन ओनली इन इंडिया

चित्र
फुल रीसेल वैल्यू।
फुल्ली रीसाइकल्ड प्रॉडक्ट।

मोदी भक्त बिल गेट्स और गूगल अंग्रेज़ी-हिंदी अनुवाद

चित्र
आप कहेंगे कि इनका क्या संबंध है? संबंध है भाई. पर, पहली बात. मोदी भक्तों में एक बड़ा नाम जुड़ा है. और कोई हवा हवाई नहीं. महान् बिल गेट्स. तमाम फैक्ट शीट और 360 डिग्री वर्चुअल रीयलिटी वीडियो सहित. आप उनका मूल ब्लॉग अंग्रेज़ी में यहाँ पढ़ सकते हैं. [ads-post] अब आगे. हाल ही में गूगल ने अपने मशीनी भाषाई अनुवाद तंत्र में अच्छा-खासा सुधार किया है. और यह वाकई बड़ा आश्चर्यकारी है. मैंने बिल गेट्स के पोस्ट को गूगल के नए अनुवाद तंत्र से हिंदी में अनुवादित किया और उसे जस का तस नीचे छापा है. आप मूल अंग्रेज़ी पढ़ें (शायद जरूरत भी नहीं है!) और नीचे अनुवाद पढ़ें. चमत्कारी. --- (बिल गेट्स के मूल अंग्रेज़ी ब्लॉग पोस्ट का गूगल मशीनी स्वचालित हिंदी अनुवाद - )भारत मानव अपशिष्ट पर इसका युद्ध जीत रहा है बिल गेट्स द्वारा | 25 अप्रैल, 2017 लगभग तीन साल पहले, भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सार्वजनिक स्वास्थ्य पर एक दमदार टिप्पणी की जिसमें मैंने कभी एक निर्वाचित अधिकारी से सुना है। आज भी इसका एक बड़ा प्रभाव रहा है। उन्होंने भारत के स्वतंत्रता दिवस की स्मृति के दौरान अपने पहले भाषण के दौरान टि…

ओह, तो अब, बिल गेट्स भी 'भक्त'!

चित्र
बेचारे वामिए, और, बहुत - बहुत बेचारे आपिए!

वो तो ठीक है, पर, जनता इसका करेगी क्या?

चित्र
विंडोज वाली घड़ी। जब क्रैश होगी तब शायद समय थम सा जाएगा और बार बार थमेगा।

व्यंग्य जुगलबंदी–31 : लाल बत्ती में परकाया प्रवेश

चित्र
(चित्र – साभार – डॉ. अरविंद मिश्र का फ़ेसबुक पृष्ठ) परकाया प्रवेश विधा का उपयोग कर मैं एक वरिष्ठ आईएएस अफ़सर के शरीर में घुस गया था. बड़े दिनों से तमन्ना थी कि लाल-बत्ती वाली गाड़ी का आनंद लूं. परंतु ये क्या! इधर मैंने परकाया प्रवेश किया और उधर नोटबंदी की तरह लाल-बत्ती बंदी हो गई. मैंने सोचा, चलो, एक वरिष्ठ आईएएस के शरीर में प्रवेश किया है जो अब तक लाल-बत्ती वाली गाड़ी का आनंद उठाता फिरता था, उसके नए, गैर-लाल-बत्ती वाले अनुभव को एक दिन जी कर देख लिया जाए – “आज सुबह जब मैं उठा तो मुंह सूजा और आँखें फूली हुई थीं. मैंने मन में ही सोचा क्या शक्ल हो गई है एक वरिष्ठ अफसर की. पूरी रात करवटें बदलते गुजरी जो थीं. पूरी रात सपने में लाल-बत्ती वाली गाड़ियां अजीब अजीब शक्लों में, रूपाकारों में आती रहीं और डराती रही थीं तो नींद बार बार टूट जो जाती थी. जैसे लाल-बत्ती ने मुंह का पूरा नूर नोच लिया है लगता था. वैसे भी आज आफिस जाने का बिलकुल भी मन नहीं हो रहा था. जैसे तैसे आलस्य को त्यागकर तैयार होकर बाहर निकला, तो बिना लाल-बत्ती के अपनी सरकारी गाड़ी को देख कर दिल धक्क से हो गया और बुझ गया. लगा, जैसे…

याहू! थोड़ा सा सीख जा स्पैम फिल्टर करना!

चित्र
ऊपर जो स्क्रीनशॉट है वह याहू मेल में आया है। सभी लिंक यह बयान कर रहे हैं कि बड़ा फर्जीवाड़ा हो रहा है मगर याहू सो रहा है। इस ईमेल की भाषा ऐसी है कि कोई भी धोखा खा जाए।

नीचे का स्क्रीनशॉट भी कम नहीं है -


शायद इसीलिए याहू के बुरे दिन चल रहे हैं। 😕

तिरस्कृत, बहिष्कृत भगवान

चित्र
शायद ये भगवान अब किसी के धेले भर काम के नहीं!

द टिक टैक टो गॉड

चित्र
ईश्वर, तेरे रूप अनेक!

चलिए, बिना सिक्के के सिक्का उछालते हैं....

चित्र
टेक्नॉलजी की जय हो!
काल्पनिक सिक्के की असली उछाल 😀

ईवीएम में छेड़छाड़ के ये हैं पूरे सौ, आईआईटीयाना तरीके….

चित्र
ईवीएम से छेड़छाड़ के आपको कितने तरीके पता हैं?
[ads-post] 
यदि आप एक आईआईटी इंजीनियर हैं तो शर्तिया आपको ये दस तरीके तो पता होंगे ही–

1. एक हथौड़ी लें, ईवीएम पर दन्न से दे मारें. बल्कि हथौड़ा ठीक रहेगा. वो भी लुहार वाला.

2. एक प्लायर लें, ईवीएम के बटनों को, फिर सर्किट को और अंत में प्रोसेसर व रोम को प्लायर की सहायता से क्रम से उखाड़ें. बेतरतीब से उखाड़ने में न तो ईवीएम को मजा आएगा न देखने वालों को.

3. ईवीएम के बैटरी कंपार्टमेंट को खोलें और उसमें सीधे 440 वोल्ट का करेंट दें. करेंट कैसे दें यदि नहीं पता तो आईआईटी में फिर से एडमीशन लें. इस बार सब्जैक्ट मेटलर्जी लें. इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में करेंट कैसे देना यह नहीं सिखाया जाता. वैसे, सीखकर भी क्या हासिल होगा? थ्योरी और प्रैक्टिक में जमीन आसमान का अंतर होता है. आजकल करेंट वैसे भी फेज़ में नहीं आती, आती भी है तो बार बार जाती है जबकि न्यूट्रल और अर्थ में आती है तो फिर जाती नहीं. 

4. गैस बर्नर को चालू करें. सब्सिडी छोड़ी गई वाली गैस से छेड़छाड़ अच्छी होगी. हाँ, तो गैस जलाएँ, उस पर चाय की पतीली जिस तरह रखी जाती है उस तरह ईवीएम को…

लिनक्स (लाइनक्स) एंड्रॉयड युग्म जिंदाबाद!

चित्र
लिनक्स उपयोग करने का एक और ठोस कारण।
अब आप चलाएँ लाखों एंड्रॉयड ऐप्प अपने लिनक्स डेस्कटॉप या लैपटॉप में। और यह वर्चुअल मशीन जैसी व्यवस्था में नहीं बल्कि नेटिव यानी मूल रूप में चलते हैं।

अपने फ़ोन को ठीक से पकड़ने की आपको तमीज़ है भी या नहीं?

चित्र

व्यंग्य जुगलबंदी - सेल्फ़ीज़ फ्रॉम एनीमल एंड डेड वर्ल्ड

चित्र
सेल्फ़ियों का जमाना है. जित देखो तित सेल्फियाँ.
मैंने पेड़ पौधों, जानवरों और निर्जीव दुनिया में खींची जा रही सेल्फ़ियों पर कुछ शोध किया और मेरा चित्रमय शोधपत्रक आपके अवलोकनार्थ प्रस्तुत है-


गिरगिटिया सेल्फ़ी – शायद राजनेताओं ने इनसे सीख ले ली है. राजस्थान जाएंगे तो राजस्थानी पगड़ी पहन कर सेल्फ़ी, चेन्नई गए तो लुंगीदार सेल्फ़ी.


झूला सेल्फ़ी. ऐसी मनोरंजक राइड कि डिज्नीवर्ल्ड की 10जी राइडें भी पानी मांगे.


मंदिर इन मेकिंग सेल्फ़ी – ईश्वर ने मनुष्य को बनाया, अब मनुष्य ईश्वर को यत्र-तत्र-सर्वत्र बना रहा है. बनाए जा रहा है. यह एक सर्वथा नए ईश्वर की सगर्व, सर्वथा प्रथम सेल्फ़ी है.


वृक्ष सेल्फ़ी. किराए पर झाड़. जब इस नवीन दुनिया में किराए पर कोख मिल रही है तो फिर पेड़ों  को तो किराए पर चढ़ना ही था…


कटा झाड़ या गंदा नाला सेल्फ़ी? पाठकों के निर्णय पर…


निर्जीव, निर्लिप्त सेल्फ़ी. या फिर, काला और गेहुंआ सेल्फ़ी. जो भी हो, शर्तिया, नस्लवादी सेल्फ़ी.


एक नया शिकार सेल्फ़ी 1

एक नया शिकार  सेल्फ़ी 2. (वैसे तो यह अनटाइटल्ड सेल्फ़ी है, सेल्फ़ एक्सप्लेंड. पीरियड.)


मोहल्ला आईपीएल सेल्फ़ी. इस तरह के, बेहद …

आइए, एक अदद बिटक्वाइन क्यों न अपन भी खरीद लें

चित्र
शायद बुढ़ापे का सहारा बन जाए

ट्विटर तो गया, अब किसी दिन फेसबुक की बारी!

चित्र

जिंदगी कैसी रोबॉटिक है हाय!

चित्र

व्यंग्य की जुगलबंदी -28 : लेखकीय और साहित्यकीय मूर्खता

चित्र
यूँ, देखा जाए, तो इस जग का आधार है मूर्खता. कल्पना कीजिए कि यदि दुनिया में मूर्खता नहीं होती तो क्या कैसा होता? मूर्खता के बगैर दुनिया का दृश्य क्या होता? एक ऐसी रसहीन, आनंदहीन, अति-जहीन दुनिया होती जहाँ जीने का कोई मज़ा, कोई स्वाद ही नहीं होता. एक तरह से, दुनिया बनाने वाले ने भी एक बड़ी भारी मूर्खता की है और इस दुनिया को बना डाला. या, उसके किसी मूर्खतापूर्ण कार्य की वजह से कहीं कुछ बिगबैंग जैसा गड़बड़ हो गया और दुनिया का निर्माण हो गया. इसीलिए तो कहीं आग उगलते सूरज है तो कहीं ठंडे चाँद और कहीं सबकुछ खा जाने वाले विशाल श्याम विवर हैं तो कहीं नित्य नए सूर्य बनाती नीहारिकाएँ.  फिर, जरा याद करें, ट्रम्प के बगैर, अभी साल भर पहले अमरीका कैसा था? किम जोंग उन के बगैर  उत्तरी कोरिया कैसा लगेगा? परंतु आज एक अलग तरह की मूर्खता के बारे में बात हो रही है. लेखकीय मूर्खता. वह भी, खासतौर पर हिंदी भाषाई. आदमी (औरत भी समझा जाए, और थर्ड जैंडर भी, पढ़ने वाले अपनी सहूलियत और प्रेफ़रेंस से जैसा समझना चाहें, बवाल न काटें) जब तक लेखक नहीं होता या बनता या सिद्ध नहीं होता कि वो एक लेखक है, मूर्खता का प्रमाण उ…

चोर पुलिस मौसेरे भाई!

चित्र

थंडरबर्ड (आउटलुक की तरह एक बेहद लोकप्रिय ईमेल क्लाएंट) में हिंदी वर्तनी जांच सुविधा जोड़ें

चित्र
थंडरबर्ड आउटलुक की तरह ही एक बेहद लोकप्रिय व काम का ईमेल क्लाएंट है, जिसका प्रयोग मैं पिछले दशक भर से करता आ रहा हूँ. यह विंडोज पर भी है और लिनक्स पर भी. इसका नो-नॉनसैंस इंटरफ़ेस व कार्यक्षमता बाकी अन्य दूसरे ईमेल क्लाएंट से अलग करता है. यह जीमेल से बढ़िया जुड़ जाता है और आमतौर पर मैं जीमेल का इस्तेमाल इसी, थंडरबर्ड क्लाएंट से ही करता हूँ.(ऊपर का चित्र - थंडरबर्ड में हिंदी वर्तनी जांच की सुविधा)इसमें हिंदी वर्तनी जांच की सुविधा अरसे से उपलब्ध थी, अभी यह थोड़ा और उन्नत है और बढ़िया है.आइए, सीखें कि इसे कैसे इंस्टाल करें.टूल्स > ऑप्शन्स मेनू में जाएं और वहाँ पर कंपोजिशन टैब पर क्लिक करें.फिर डाउनलोड मोर डिक्शनरीज़ पर क्लिक कर लिंक खोलें.हिंदी (भारत) डिक्शनरी डाउनलोड करें व इंस्टाल करें. वर्जन इनकम्पेटिबलिटी की चेतावनी आ सकती है, उसे अनदेखा करें. थंडरबर्ड में जोड़ें का विकल्प आएगा, उसे स्वीकारें और बस हो गया आपका थंडरबर्ड तैयार शुद्ध हिंदी लिखने को.आप अपने सही शब्द जोड़कर इसके शब्दभंडार को और समृद्ध बना सकते हैं.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें