टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

July 2016

2016-07-27-16-04-31

 

एक आसान सा जुगाड़ है. परंतु इसके लिए आपका डिवाइस रूट किया हुआ होना चाहिए. महज एक क्लिक में रूट करने के लिए आप किंगरूट या आईरूट का उपयोग कर सकते हैं. ये दोनों प्रोग्राम आपके विंडोज पीसी से भी चल सकते हैं और ऐप्प के रूप में आपके फ़ोन से भी चल सकते हैं.

साथ ही रूट फ़ाइल मैनेजर / रूट एक्सप्लोरर भी इंस्टाल होना चाहिए.

 

आपको क्या करना होगा?

आपको कृतिदेव फ़ॉन्ट (या दूसरा कोई भी फ़ॉन्ट जिसके मैटर को आप देखना चाहते हैं, जिस फ़ॉन्ट में आप काम करते हैं, और सीमित मात्रा में आप संपादन आदि का भी काम कर सकते हैं,) वर्ड ऐप्प के फ़ॉन्ट फ़ोल्डर में इंस्टाल करना होगा.

यदि आपके एंड्रायड में माइक्रोसॉफ़्ट वर्ड इंस्टाल नहीं है तो पहले ऐप्प स्टोर से वह इंस्टाल कर लें.

कृतिदेव (या अन्य जो आप चाहें) एंड्रायड फ़ोन के किसी फ़ोल्डर में कॉपी या डाउनलोड कर लें.

 

अब आप अपने रूट किए हुए एंड्रायड उपकरण के निम्न (नए संस्करण में, पुराने में किसी अन्य फ़ोल्डर में हो सकता है) फ़ोल्डर में जाकर कृतिदेव फ़ॉन्ट को पेस्ट कर दें -

/data/data/com.microsoft.word/files/data/fonts

 

अब आप वर्ड चालू करें.

देखेंगे कि एडिट विंडो में फ़ॉन्ट चयन में कृतिदेव (या अन्य फ़ॉन्ट जो आपने पेस्ट किया है) दिखाई दे रहा है. अब आप चाहें तो कृतिदेव में टाइप कर सकते हैं या कृतिदेव फ़ॉन्ट में तैयार वर्ड डाक्यूमेंट खोल कर उपयोग कर सकते हैं.

आज मित्र कमल शर्मा जी का ईमेल मिला जिसमें उन्होंने अपनी पीड़ा बयान की है :

हिंदी इंडिक इनपुट जो bhashaindia.com पर है वे केवल विंडो 8 तक के हैं। विंडो 10 के लैपटाप में कैसे हिंदी  में वर्क करे। जबकि,हिंदी इंडिक इनपुट में मुझे cbi and gail key board hi aata hai. dusre main dikkat ho rahi hai. आप कोई रास्‍ता बताएं।

कुछ दिनों पहले, सुप्रसिद्ध पत्रकार मनीषा पांडेय ने अपने फ़ेसबुस पर अपनी पीड़ा बयान करते हुए यह स्टेटस डाला:

 

“कोई आईटी, कंप्यूटर वाला मदद करेगा प्लीज. नए लैपटॉप में यूनीकोड में रेमिंग्टन कीबोर्ड नहीं आ रहा है और इस उमर में मैं नया की-बोर्ड नहीं सीख सकती.
बिना उसके हिंदी लिख भी नहीं सकती. मतलब हिंदी लिखना बंद.
विंडोज 10 है. विंडोज 10 में रेमिंग्टन की बोर्ड कैसे आएगा. कोई मदद करो प्लीज.

Bina Hindi ke ye laptop lohe ke kabad se jyada kuch nahi.
Kya kkarun mai isaka?

 

तो यह है असली डिजिटल इंडिया की हकीकत.

तो, सबसे पहले, समस्या का समाधान :

इस लिंक से हिंदी टूलकिट 2 को डाउनलोड कर इंस्टाल करें -
https://www.mediafire.com/folder/vkp1ff4ip1f33z8,ht7calttrxq89dc,vqt60uxziyy9vag,9vaw77mejdtvqrr/shared

अब विंडोज 10 भाषा कीबोर्ड सेटिंग में जाकर हिंदी आईएमई कीबोर्ड एनेबल करें. फिर ट्रे आइकन में क्लिक कर हिंदी आईएमई चुनें और वहाँ कीबोर्ड आइकन को क्लिक कर गेल/रेमिंगटन कीबोर्ड चुनें. चूंकि यह एक जुगाड़ है, अतः इसमें एक बग (खामी) है. आपको हर बार हिंदी में काम करते समय ट्रे आइकन में कीबोर्ड आइकन को क्लिक कर फिर रेमिंगटन कीबोर्ड चुनना होगा.

 

अब दूसरी बात.

मैं कोई पिछले पच्चीस वर्षों से भाषाई कंप्यूटिंग का हिस्सा रहा हूँ, और दुःख के साथ कह रहा हूँ कि मनीषा पांडेय और कमल शर्मा की पीड़ा में मेरी भी पीड़ा दर्ज है. मैंने अपने विद्यार्थी जीवन में रेमिंगटन में हिंदी में काम करना सीखा. शुरूआती कंप्यूटिंग के दिनों में रेमिंगटन फ़ॉन्ट और कीबोर्ड ही हिंदी में होते थे. इस बीच सीडैक के कुछ विजनरी लोगों ने (या फिर प्रोप्राइटरी कीबोर्ड कंपनियों के इंटरेस्ट व उत्पादों को बरकरार रखने?) इनस्क्रिप्ट कुंजीपट लाद दिया, और यूनिकोड में टाइपिंग के लिए तब इनस्क्रिप्ट के अलावा कोई दूसरा कीबोर्ड था ही नहीं. तब मैंने झख मार कर रेमिंटन को भुला कर इनस्क्रिप्ट सीखा था L लोगों ने तमाम जुगाड़ लगाए रेमिंगटन कुंजीपट से टाइप करने के लिए. अभी भी रेमिंगटन कुंजीपट बेहद प्रचलित कुंजीपट है हिंदी में क्योंकि तमाम डीटीपी कार्य आदि अभी भी इसी कुंजीपट में ही किए जाते हैं.

हाल ही में जब मैंने भी विंडोज 10 का लैपटैब खरीदा तो आधा किलो वज़नी लैपटॉप-सह-टैबलेट को लेकर प्रसन्न था कि राह चलते कंप्यूटिंग कार्यों में यह साथी रहेगा और काम आसान हो सकेंगे. परंतु यह क्या? इसमें हिंदी कुंजीपट केवल इनस्क्रिप्ट है, और आधिकारिक माइक्रोसॉफ़्ट की भारतीय भाषाई साइट भाषा इंडिया से जो विविध किस्म के कुंजीपट जैसे कि रेमिंगटन, फ़ोनेटिक आदि को शामिल करने के आईएमई टूल इसमें इंस्टाल तो हो जाते हैं परंतु ये सेटिंग में इनेबल ही नहीं हो पाते. तो जो लोग अरसे से रेमिंगटन आदि कुंजी पट इस्तेमाल करते हैं उनके लिए यह उपकरण तो बेकार सा ही है, और इसे चलाने के लिए तमाम जुगाड़ लगाने पड़ते हैं. मैं तो खैर इनस्क्रिप्ट कुंजीपट इस्तेमाल करता हूँ, मगर मेरी पत्नी रेमिंगटन कीबोर्ड में पारंगत है, ऐसी स्थिति में यह लैपटैब उनके लिए – मनीषा पांडेय की तरह – कबाड़ ही बना रहा था. बड़ी मेहनत और जुगाड़ और बहुत कुछ अपने सुदीर्घ अनुभव से मैंने इसमें रेमिंगटन कीबोर्ड का जुगाड़ डाला तो वह भी आधा अधूरा काम करता है. हर बार सेटिंग में जाकर उसे सलेक्ट करना पड़ता है – डिफ़ॉल्ट सेटिंग इनस्क्रिप्ट ही पकड़ लेता है. जैसा कि आपने ऊपर देखा, मेरे पास लोगों के ईमेल व संदेश आते ही रहते हैं जिनमें इस तरह की समस्याओं से जूझते लोग अपनी पीड़ाएँ बयान करते हैं और हल पूछते हैं.

आप में से बहुत से भी इन समस्याओं से जूझ रहे होंगे. सोशल मीडिया में कहीं भी हिंदी पृष्ठों पर चले जाएं – आधे से अधिक जनता अभी भी इस तरह की अपठनीय, झेलाऊ और उबाऊ रोमन हिंदी – mai kya kar raha hoon का प्रयोग कर हिंदी में अपनी बात रखने को अभिशप्त है और इधर धड़ल्ले से कंपनिया नए नए उत्पाद और नए नए संस्करण बना रही हैं परंतु मूल समस्या के हल की ओर उनका ध्यान ही नहीं है. फ़ेसबुक ने हाल ही में हिंदी के लिए नया कीबोर्ड जारी किया – फ़ेसबुक पन्नों पर हिंदी में लिखने के लिए. परंतु वहाँ भी फ़ोनेटिक जमा हुआ है और रेमिंगटन नदारद है!

ऐसा नहीं है कि इन समस्याओं से स्थानीय माइक्रोसॉफ़्ट के मार्केटिंग प्रबंधक अंजान हैं. दरअसल वे इन समस्याओं की ओर आँखें मूंदे हुए हैं. भोपाल में पिछले विश्व हिंदी सम्मेलन के समय माइक्रोसॉफ़्ट इंडिया के मार्केटिंग प्रमुख को व्यक्तिगत रूप से इन बातों की ओर खासतौर पर ध्यान दिलाया गया था. और उन्होंने आश्वासन भी दिया था कि जल्द ही वे इस समस्या को समाप्त करने का प्रयास करेंगे – परंतु साल बीतने को आ रहा है और समस्या न केवल जस की तस है – बल्कि विंडोज के नए संस्करण 10 में यह और गंभीर होकर उभरी है. लिनक्स एप्पल आदि में भी ऐसा ही है – आपको जुगाड़ लगाना ही होगा. कितने दुःख की बात है कि बेहद लोकप्रिय रेमिंगटन कुंजीपट में कंप्यूटिंग उपकरणों में टाइप करने के लिए तमाम जुगाड़ लगाते लोग आज भी मिल जाते हैं. कोढ़ में खाज ये है कि अभी भी वस्तुस्थिति ये है कि अति प्रचलित मोबाइल उपकरणों चाहे वो एंड्रायड हो, विंडोज हो या एप्पल हो – में एक्सटर्नल कीबोर्ड से रेमिंगटन टाइप करने की सुविधा किसी में नहीं है. न कोई ऐप्प है और न ही कोई जुगाड़. ले देकर इनस्क्रिप्ट और गूगल इनपुट टूल जैसे विकल्पों से फ़ोनेटिक टाइपिंग कर जनता काम चलाती है. हिन्दी समेत भारतीय भाषाई भौतिक कीबोर्ड की बात करना तो खैर वैसे भी बेमानी है – सवा अरब जनता के लिए ऐसे हार्डवेयर कीबोर्ड के बारे में कोई सोचता क्यों नहीं!

इस बीच खबर आई थी कि भाषाई कंप्यूटिंग के खासे जानकार और डेवलपर बालेंदु दाधीच ने माइक्रोसॉफ़्ट को अपनी सेवाएँ देनी शुरू की हैं. परंतु उनके पदभार ग्रहण करने के अच्छा खासा समय बीत जाने के बाद भी स्थिति ज्यों की त्यों है. दरअसल रेमिंगटन कुंजीपट अलग से इंस्टाल किया जाता है, यह इनस्क्रिप्ट की तरह ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ इंटीग्रेट होकर नहीं आता. जब जुगाड़ से इसे इंस्टाल करते हैं तो तमाम और दीगर किस्म की समस्याएँ इसमें आती हैं. कभी संयुक्ताक्षरों में हलन्त दिखने लगते हैं तो मात्राएँ टूटने फूटने लगती है, कहीं टाइप होता है तो कहीं नहीं. और तो और यूनिकोड में रेमिंगटन कीबोर्ड से टाइप किया दस्तावेज भी कभी कभी दूसरे कंप्यूटर पर फ़ॉर्मेटिंग बिगड़े रूप में नजर आता है.

इधर सरकार भी डिजिटल इंडिया डिजिटल इंडिया चिल्लाए जा रही है. भारत के हर आदमी के हाथ में एक अदद कंप्यूटिंग डिवाइस होगा, सस्ता, बढ़िया इंटरनेट होगा, और वो या तो अंग्रेज़ी में या फिर रोमन हिंदी में टाइप करने को अभिशप्त होगा. लोकप्रिय रेमिंगटन कुंजीपट तो है ही नहीं. कमोबेश यही स्थिति अन्य दीगर भारतीय भाषाओं में भी है. क्या इससे भारतीय भाषाई कंप्यूटिंग का भला होगा?

जबकि किया ये जाना चाहिए कि इनस्क्रिप्ट की तरह रेमिंगटन जैसे प्रचलित कुंजीपटों को भी ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ इंटीग्रेट कर जारी किया जाना चाहिए और भाषाई उपयोगकर्ता के सामने हिंदी कुंजीपट का विकल्प चुनते समय ये विकल्प आने चाहिए कि वो इनस्क्रिप्ट चुने या रेमिंगटन या फिर फ़ोनेटिक. कंप्यूटिंग और प्रोग्रामिंग के स्तर पर यह बेहद आसान सा काम है, परंतु इसे लागू करने में किसी को कोई रूचि क्यों नहीं है यह आश्चर्य का विषय है.

कोई सुनेगा? शायद नहीं. तब तक जुगाड़ से टाइप कर लें, रोमन में चलने दें, या फिर इनस्क्रिप्ट सीख लें – पर, जैसे कि मनीषा ने कहा – अब इस उम्र में तो नया कीबोर्ड नहीं सीख सकती! और वे अपने फ़ेसबुक स्टेटस अंग्रेजी में करने लगी हैं. डिजिटल इंडिया जिंदाबाद!

मेरी तरह, आप भी पोकेमॉन गो खेलने के लिए मरे जा रहे हैं?

कोई बात नहीं. यहाँ आपके लिए जुगाड़ दिया जा रहा है. कोशिश कर देखें, शायद काम बन जाए.

परंतु पहले चेतावनी – यह आधिकारिक प्लेस्टोर से डाउनलोड कर इंस्टाल करने का तरीका नहीं है. इसमें खतरा हो सकता है जिसके लिए यह साइट किसी सूरत जिम्मेदार नहीं है.

अपने एंड्रायड फ़ोन में सिक्योरिटी में जाएँ

clip_image002

और अननोन सोर्स से ऐप्प इंस्टाल करना इनेबल कर दें.

ऐप्प मिरर की साइट से पोकेमॉन गो का ऐप्प डाउनलोड कर इंस्टाल करें

वर्तमान में .29.2 संस्करण उपलब्ध है. नवीनतम संस्करण के लिए वहाँ सर्च कर सकते हैं. इसके लिए लिंक है –

http://www.apkmirror.com/apk/niantic-inc/pokemon-go/pokemon-go-0-29-2-release/pokemon-go-0-29-2-android-apk-download/

इंस्टाल हो जाने के बाद इसे चालू करें और खेलें. बस, आसान है.  एरर मैसेज आने पर घंटे-2घंटे बाद फिर से कोशिश करें. पोकेमॉन के सर्वर अधिक लोड के कारण बैठते जा रहे हैं Sad smile

खेलने के लिए अधिक जानकारी यहाँ से प्राप्त करें, जहाँ से मूलतः इस टिप को लिया गया है –

http://www.cnet.com/how-to/how-to-play-pokemon-go/

पोकीमॉन Pokemon go क्या है? पोकीमॉन गो / जीओ कैसे खेलें? नीचे दिए गए गाइड में आपके सभी बारंबार पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर हैं जिनको पढ़कर आप भी पोकीमॉन (पोकीमोन या पॉकीमोन या पॉकीमॉन या पोकीमान?) गेम गुरु बन सकते हैं.

clip_image001

मूल अंग्रेज़ी आलेख जोशुआ रोट्टर. Joshua Rotter का साभार हिंदी तर्जुमा

 

पोकीमॉन गो नामक एंड्रायड और आईओएस (एप्पल) गेम जबर्दस्त हिट हो गया है, और यह पारंपरिक काउच पोटैटो किस्म के वीडियो गेम के उलट, खिलाड़ियों को बाहरी दुनिया में निकल कर अच्छी तरह से हाथ पाँव हिलाकर घूम फिर कर लघु दैत्यों पिकाचू और कैंडी पाइंट को ढूंढने और पकड़ने को बाध्य करता है. यदि आपने नब्बे के दशक के मूल पोकीमोन वीडियो गेम को नहीं खेला है और पोकीमोन गो खेल में मास्टरी हासिल करना चाहते हैं तो यह गाइड आपके लिए है. यदि आप खेलना भी नहीं चाहते तो, जानकारी के लिए कि पोकीमान गो इतना लोकप्रिय क्यों और कैसे हो रहा है कि हर ओर इसकी चर्चा हो रही है, यह गाइड आपके काम आएगा.

पोकीमॉन क्या है?

पोकीमॉन – पॉकेट मॉन्स्टर का संक्षेप है – पॉकेट मॉन्स्टर माने जेबी दैत्य. यह एक कल्पित एनीमेटेड प्राणी है जिसे आप पकड़ कर उसे पाल सकते हैं और जैसे कि भारत में (तथा विश्व के अन्य देशों में भी) प्राचीन समय से खेला जाता है - जैसे कि मुर्गों की लड़ाई – ठीक उसी तरह से आप इनकी लड़ाई करवा सकते हैं. आप अपने पोकीमॉन ट्रेनर के रूप में अपने पोकीमॉन पकड़ सकते हैं, उन्हें पाल सकते हैं उन्हें ट्रेन कर सकते हैं और अन्य पोकीमॉन (अन्य खिलाड़ियों के भी) से लड़वा सकते हैं. जिसका पोकीमॉन जीतेगा, वो सिकंदर. और इसमें जाहिर है, अंतहीन लेवल हैं – एक से एक मजेदार.

पोकीमॉन सीरीज के वीडियो गेम 1990 दशक के मध्य से जारी किए गए थे, और फिर यह प्राणी फ़िल्मों, कार्टून सीरीज और ट्रेडिंग कार्ड गेमों में भी आया.

.

पोकीमॉन गो का लक्ष्य क्या है?

इस आगुमेंटेड रीयलिटी मोबाइल गेम में आप असली दुनिया में घूम फिर कर अपने फ़ोन के कैमरा तथा जीपीएस का उपयोग जंगली पोकीमोन को ढूंढने और पकड़ने के लिए करते हैं ताकि उसे लड़ाई के लिए तैयार किया जा सके.

पोकीमॉन को कैसे ढूंढें और पकड़ें?

गेम चालू करने के बाद अपने आसपास के क्षेत्र में घूमें, जब तक कि आपके आसपास पोकीमॉन प्रकट न हो जाए. यदि आपने ध्यान नहीं दिया तो आपका फ़ोन वाइब्रेट होकर आपका ध्यान खींचेगा. विविध किस्म के दैत्यों को ढूंढने के लिए विभिन्न स्थानों का भ्रमण करें. आपको उन्हें अपनी ओर आकृष्ट करने के लिए उन्हें प्रेरित भी करना पड़ सकता है.

जब पोकीमॉन करीब आ जाएंगे तो वे करीबी पोकीमॉन खंड में दिखने लगेंगे जिसमें उनकी दूरी भी दिखेगी. उन्हें पकड़ने के लिए, गेम में अपने बैग को टैप करें जिसमें से पोकी गेंद बाहर आएगा. उस गेंद को दैत्य के चारों ओर दिख रहे गोले की ओर निशाना लगा कर फेंके ताकि पोकीमॉन पकड़ में आ सके.

clip_image002

आपके पोकीमॉन गो नक्शे में क्या-क्या वस्तुएँ हैं?

नीचे दिए गए हमारे टिप्पणी युक्त नक्शे में आप निम्न वस्तुएँ देख सकेंगे. शुरूआत ऊपरी दाएं कोने से घड़ी की दिशा में करें :

1. कम्पास The compass

2. पोकीस्टॉप A PokeStop

3. करीबी पोकीमॉन Nearby Pokemon

4. मुख्य मेनू Main Menu

5. प्रोफ़ाइल मेनू Profile Icon

6. पोकीमॉन ट्रेनर The Pokemon Trainer

7. जिम A Gym
clip_image003

वस्तुओं को आप कैसे एकत्र करेंगे?

जब आप आसपास घूमेंगे तो आपके नक्शे में पोकीस्टॉप दिखने लगेगा. जब आप किसी एक पोकीस्टॉप के पास पहुंचें, तो उस पर टैप करें और मुख्य मेनू बटन (बीचोंबीच दिए गए फ़ोटो डिस्क) को घुमाएं. ऐसा कर आप पोकीबॉल, पोशन (टॉनिक), अंडे, रीवाइव आदि वस्तुएँ प्राप्त कर सकते हैं जो आपके इस गेम में आगे बढ़ने के लिए आवश्यक होंगे.

clip_image004

आप अगले लेवल में कैसे जाएंगे और एचीवमेंट कैसे प्राप्त करेंगे?

अपना ट्रेनर लेवल बढ़ाने के लिए आपको अनुभव पाइंट एकत्र करने होंगे. अपने पाइंट बढ़ाने के लिए विविध पोकीमॉन समूह को लक्ष्य करें. मेडल प्राप्त करने के लिए माइलस्टोन प्राप्त करते रहें – जैसे कि 10 उड़ने वाले पोकीमॉन पकड़ना या पोकीडेक्स में 5 पोकीमॉन रजिस्टर करना आदि.

clip_image005

पोकीमॉन अंडे कैसे हैच करें?

पोकीमॉन के अंडे सेने के लिए एग इनक्यूबेटर चाहिए होगा. सभी खिलाड़ियों के पास उनकी इन्वेंटरी में बारंबार उपयोग में लिया जा सकने वाला एक इनक्यूबेटर होता है. इसके भीतर रखा अंडा ट्रेनर द्वारा तय दूरी (2 से 10 किमी) तक जाने के बाद हैच हो जाता है और उसमें से पोकीमॉन पैदा होता है. दूरी अंडे की विशिष्टता पर निर्भर होती है. जितना ज्यादा दूर जाना होगा, उतना ही दुर्लभ किस्म का पोकीमॉन पैदा होगा.

अपने पोकीमॉन को कैसे तैयार करें?

विशेष जाति के पोकीमॉन को पकड़ते रहें ताकि आपको उस विशिष्ट जाति के पोकीमॉन के कैंडी पाइंट मिलते रहें. अपने पोकीमॉन को तैयार करने के लिए नक्शा दृश्य में मुख्य मेनू को टैप करें फिर पोकीमॉन बटन पर टैप करें और फिर अपने संग्रह में एकत्र किसी एक पोकीमॉन को चुनें जिसे आप तैयार करना चाहते हैं.

आप किन टीमों से जुड़ सकते हैं?

लेवल 5 तक पहुंच जाने के बाद आपको इन तीन टीमों में से किसी एक में जुड़ने के लिए पूछा जाएगा – टीम मिस्टिक (नीला), टीम वेलर (लाल) तथा टीम इंस्टिंक्ट (पीला). टीम चुनने का अर्थ यह होगा कि भविष्य में खिलाड़ियों के बीच लड़ाई का खेल खेलने के लिए मित्र चुनना. परंतु इससे आपके नियमित खेल पर कोई प्रभाव नहीं होगा. जिम पर अधिकार जमाने तथा उसे नियंत्रित करने के लए टीमें आपस में लड़ाई का खेल खेल सकती हैं.

जिम क्या हैं?

जिम विशेष स्थान हैं जो कि आमतौर पर आपके क्षेत्र के विशेष प्रसिद्ध स्थल (लैंडमार्क) होते हैं, जहाँ विभिन्न टीमों के खिलाड़ी अपने पोकीमॉन के साथ लड़ाई का खेल खेल सकते हैं. यदि आप जिम पर अधिकार कर लेते हैं और उसका नियंत्रण प्राप्त कर लेते हैं तो आपको पोकीकॉइन का पुरस्कार मिलता है जिसे इस गेम में चीजें खरीदने के काम में लिया जा सकता है. विरोधी टीमें लड़ाई कर तथा जिम के प्रेस्टिज (स्वास्थ्य / हेल्थ) को कम करके जिम पर अधिकार करने का प्रयास कर सकती हैं. बचाव करने वाली टीमें अपने अपने पोकीमॉन को अपने अधिकृत जिम की रक्षा करने के लिए गार्ड के रूप में रख सकती हैं जिससे कि विरोधी टीमों के हमलों को विफल किया जा सके.

clip_image006

पोकीमॉन को प्रशिक्षित कैसे करें?

किसी फ्रेंडली जिम में किसी दूसरे पोकीमॉन से लड़ने के लिए अपने किसी एक पोकीमॉन को चुनें. इस ट्रेनिंग से आपको अधिक अनुभव पाइंट मिलेंगे और यह आपके जिम की प्रेस्टिज को भी बढ़ाएगा.

क्या आप औरों के साथ भी खेल सकते हैं?

टीम में शामिल होकर आप अन्य खिलाड़ियों के साथ खेल सकते हैं और जिम कैप्चर कर सकते हैं. आने वाले अपडेट में आप पोकीमॉन की ट्रेडिंग अन्य खिलाड़ियों और मित्रों के साथ कर सकेंगे.

क्या यह गेम मुफ़्त / निःशुल्क है?

पोकीमॉन गो हर किसी के खेलने के लिए निःशुल्क उपलब्ध है. हालांकि पोकीकॉइन खरीदने के लिए आपको अपनी जेब से रूपया खर्च करना होगा. पोकीकॉइन पोकीमॉन गो की करेंसी है जिससे आप गेम में आगे बढ़ने के लिए प्रीमियम आइटम खरीद सकते हैं.

क्या आपको भी पोकीमॉन गो कनेक्टिंग समस्या का सामना करना पड़ रहा है?

पोकीमॉन गो बनाने वाली कंपनी नियान्टिक का कहना है कि कुछ उपयोगकर्ताओं को कनेक्टिविटी की समस्या आ रही है और वे पोकीमॉन गो सर्वर से कनेक्ट नहीं हो पा रहे हैं. नियान्टिक का कहना है कि उन्हें समस्या की गंभीरता का पता है और वे इसे जल्द से जल्द सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं. यदि आपको अपने गेम में विचित्र अनुभव होते हैं, जैसे कि आपके एकत्रित या खरीदी गई वस्तुएं गायब हो जाती हैं तो आप गेम से एक बार लॉग आउट कर फिर से लॉगिन करें, और इससे भी काम न बने तो अपने उपकरण को रीस्टार्ट करें ताकि आपके गुम आइटम वापस गेम में आ सकें.

क्या यह गेम बहुत बैटरी खाता है?

जी हाँ. नियान्टिक का कहना है कि यह गेम कुछ स्मार्टफ़ोनों की बैटरी अधिक खाता है और वे इसको ठीक करने में जुटे हैं.

पोकीमॉन गो प्लस क्या है?

पोकीमॉन गो प्लस एक एड-ऑन है जिसे आप ब्रेसलेट की तरह अपनी कलाई में पहन सकते हैं. यह ब्लूटूथ से आपके स्मार्टफ़ोन से जुड़ जाता है और यह आपको तब सतर्क करता है जब आप किसी पोकीस्टॉप के पास पहुँच जाते हैं या जब कोई पोकीमॉन आपकी पहुँच में होता है. इससे, खेल के दौरान आपको पूरे समय अपने फ़ोन को हाथ में लेकर चलने की जरूरत नहीं होती है. यह 31 जुलाई को जारी होगा और अभी इसका प्रीआर्डर गेमस्टॉप.कॉम पर कर सकते हैं.

clip_image007

clip_image002

इलेक्ट्रॉनिकी और कंप्यूटिंग दुनिया में, जब भी आप सोचते हैं कि मौसम कुछ शांत सा हो चला है, अचानक ही कहीं से कोई अप्रत्याशित सा तूफान चला आता है.

निंटेंडो हैंडहेल्ड कंसोल, आईओएस और एंड्रायड के लिए, पोकीमॉन गो नामक एक तूफ़ानी गेम ऐसा ही आया है. ऊपर से, अभी यह केवल बेहद सीमित क्षेत्र – अमरीका, ऑस्ट्रेलिया आदि के लिए ही जारी किया गया है, और दुनिया दीवानी हो रही है. जब यह पूरी दुनिया के लिए जारी हो जाएगा तो यह क्या झंडे गाड़ेगा इसकी केवल कल्पना ही की जा सकती है.

पच्चीस साल पहले वीडियो गेम्स का जमाना आया और मारियो ब्रदर्स, सुपर मारियो ब्रदर्स ने वीडियो गेम कंसोल और डेस्कटॉप कंप्यूटरों पर धूम मचा दी थी. उस समय के कंप्यूटर के उपयोगकर्ताओं में से शायद ही कोई छूटा हो जिसने मारियो ब्रदर्स न खेला हो. वीडियो गेम्स खेलने वाले तो खैर अपने वीडियो गेमिंग के पाठ का प्रारंभ मारियो ब्रदर्स खेल कर ही करते थे. अभी भी मारियो ब्रदर्स बहुतों में लोकप्रिय है और हालिया खबर के मुताबिक इसका एक सुधरा कंसोल गेम रूप हाल ही में जारी हुआ है.

परंतु पोकीमॉन गो ने कंसोल-कंप्यूटर गेम की लोकप्रियता के सारे रेकार्ड ध्वस्त कर दिए हैं. इसे जारी हुए पखवाड़ा नहीं बीता है और इसके खेलने वालों की संख्या ने लोकप्रिय डेटिंग साइट टिंडर और उससे भी लोकप्रिय सोशल साइट ट्विटर के दैनिक उपयोगकर्ता आंकड़े को पार कर लिया है. सवाल ये है कि पोकीमॉन गो की लोकप्रियता के कारण आखिर क्या हैं?

पोकीमॉन गो की लोकप्रियता के चंद कारण –

पारंपरिक वीडियो – कंसोल गेम के उलट, पोकीमॉन गो को खेलने के लिए आगुमंटेड वर्चुअल रीयलिटी का भरपूर उपयोग होता है. इस गेम को खेलने के लिए आपको न केवल अपने स्मार्टफोन पर उंगलियां चलानी होगी, बल्कि थोड़ी कसरत भी करनी होगी. इस गेम की खासियत यह है कि यह आपके जीपीएस लोकेशन के साथ संबद्ध हो जाता है और आपको गेम खेलने के लिए पाइंट एकत्र करने और पोकीमॉन चरित्र एकत्र करने के लिए गेम में दिए टास्क पूरा करने के लिए उसमें दिए गए नक्शे में दर्ज स्थान पर भौतिक रूप से जाना होगा और वहाँ पर फिर आपके आसपास वर्चुअल रूप से प्रकट होने वाले पिकाचू और कैंडीज़ को एकत्र करना होगा.

उदाहरण के लिए, यदि आपके गेम में भोपाल ताल के बोट क्लब पर कोई पिकाचू मिल रहा होगा तो आपको वाकई वहाँ जाकर उसे अपने स्मार्टफ़ोन के कैमरे से कैप्चर कर पकड़ना होगा. और न्यूमार्केट जाकर वर्चुअल कैंडी एकत्र करना होगा. आप जब तक वहाँ नहीं जाएंगे, आप अपना गेम आगे खेलने के लिए ये पाइंट एकत्र ही नहीं कर पाएंगे. आपको वहां जाना ही होगा. यानी इस गेम को खेलने के लिए आपको वास्तविक दुनिया में भी कुछ खेल खेलना होगा. है न मजेदार खेल? इसकी इसी खासियत ने इस गेम को रातोंरात लोकप्रिय बना दिया है.

अब तक तो आप वीडियो कंसोल या स्मार्टफ़ोन गेम खेलने के नाम पर अपनी उंगलियों का सत्यानाश करते थे, और काउच पोटैटो बने रहते थे, इस नए गेम से आप अपने घर के दरवाजे से बाहर निकलने को बाध्य हो जाएंगे और अपने हाथ पाँव हिलाने को भी. चूंकि गेम में स्थान विशेष के प्रसिद्ध स्थलों आदि का भरपूर उपयोग किया गया है, इसीलिए इसे वर्तमान में केवल कुछ ही क्षेत्रों के लिए जारी किया गया है. मगर उत्साही जनता इसे दूसरे तरीके से साइड लोड कर इंस्टाल कर रही है तो कुछ गेम डेवलपर इसकी लोकप्रियता को भुनाने नकली गेम तक रिलीज करने में लगे हैं.

भारत में अभी यह गेम रिलीज नहीं हुआ है. गेम प्रेमियों को इंतजार भारी पड़ रहा है. परंतु कंपनी इस गेम की लोकप्रियता को जल्द से जल्द भुनाना चाहेगी. इस गेम के कारण कंपनी के मार्केट कैप में कई गुना वृद्धि हो गई है, जो आश्चर्य का विषय है ही. देखना यह है कि भारतीयों को यह गेम कितना आश्चर्यचकित कर पाती है.

image

आप पूछेंगे कैसे?

ठीक है. एक उदाहरण लेते हैं.

अब अपने बागीचे भी स्मार्ट हो रहे हैं. अपने स्मार्ट बागीचे में बस आपको एक बार पौधा लगाना है, फिर उसके बाद उसके खाद-पानी का इंतजाम आपका स्मार्ट बागीचा खुद कर लेगा. यही नहीं, आपके पौधे को बढ़िया से फलने फूलने लायक रौशनी का इंतजाम भी ये करेगा, यदि चटख धूप न खिली हो. स्मार्ट बागीचा पौधों को सुबह-शाम बिला नागा पानी देगा, और वक्त जरूरत पर यदि गर्मी ज्यादा हो तो यह 24x7 मिट्टी की जांच करते रह कर बीच बीच में भी सिंचाई कर देगा. निराई-गुडाई की जरूरत ही नहीं क्योंकि यह खरपतवार को उगने ही नहीं देगा, और यदि उग भी गए तो विशेष लक्षित किरणों से उन्हें अकाल मौत दे देगा.

अब आप बताएँ, कि आप हो गए न अलाल? और बुद्धू? यदि आपको बाग़-बागीचे का शौक रहा है, पेड़ पौधों से प्यार रहा है तो अब तक आप अपना ढेर सारा समय और श्रम बागवानी में लगाते रहे होंगे. मगर स्मार्ट बागीचा आपका समय और श्रम दोनों ही बचाएगा और आपको पूरे समय आराम करने देगा. भविष्य के, कुछ अतिरिक्त किस्म के स्मार्ट बागीचे तो तय समय पर आवश्यकतानुसार इंटरनेट से खाद-एंजाइम तक ऑर्डर कर सकने की कूवत लिए होंगे जिससे आपका यह और अतिरिक्त समय और अतिरिक्त दिमाग-खपाऊ काम बचेगा. और नतीजतन?!

सही तरीके से दुनिया के स्मार्ट होने का सिलसिला मोबाइल फ़ोनों के स्मार्ट होने से शुरू हुआ था, और मामला गांवों, शहरों, कारों, सड़कों, बिजली के पोलों, आदि आदि के स्मार्ट होने से लेकर आपके टूथब्रश तक के स्मार्ट हो जाने पर ही खत्म नहीं होगा बल्कि और आगे जाएगा.

क्या कहा, टूथब्रश? और वो भी स्मार्ट?

हाँ जी. आपका टूथब्रश भी अब स्मार्ट हो जाएगा और वो ये बताएगा कि आपके बत्तीस दांतों में से किस किस दाँत में कैविटी है / होने की संभावना है, किस दाँत को कितनी देर तक इलेक्ट्रिक ऑयन और वाइब्रेशन और अल्ट्रासोनिक तरंगों के सम्मिलित पॉवर से साफ करना है, दिन में कितनी देर साफ करना है आदि आदि वो तय करेगा और आपके दांतों की पंक्तियों को सदा सर्वदा स्वच्छ साफ रखेगा, और जिसके लिए आपको अपने टूथब्रश को भयंकर रूप से दांतों में घिसना भी नहीं पड़ेगा – आपके लिये यह काम आपका स्मार्ट-टूथब्रश खुद ही करेगा. वो आपके जीभ की कोटिंग भी साफ रखेगा जिससे आपको अपने मुंह की दुर्गंध से छुटकारा मिलेगा. जरा रुकिए. मुंह की दुर्गंध? कुछ हाई पावर्ड उन्नत किस्म के स्मार्ट-टूथब्रशों में आपके मुंह की दुर्गंध को एनालाइज करने का सिस्टम भी होगा जिससे आपको पता चल सकेगा कि लहसुन और मूली कब खानी है कब नहीं और उन टूथब्रशों में माउथफ्रेशनर का स्प्रे भी इनबिल्ट रहेगा – बची खुची दुर्गंध को अगले ब्रश करने के समय तक दूर करने के लिए! क्या कहा? ये टूथब्रश कहाँ मिल रहा है? जरा सब्र करें, अभी यह प्रूफ़ ऑफ कॉन्सेप्ट के स्तर पर पहुँचा है और फौरन से पेशतर इसके लांच होने की संभावना है। साथ ही, संभवतः 251 रुपल्ली के स्मार्टफ़ोन की तरह इसकी भी कीमत, स्मार्ट होते हुए भी बेहद कम होगी. आधी दुनिया (नारी वादी लोग दूसरा अर्थ न निकालें कृपया,) इस स्मार्ट-टूथब्रश के पीछे दीवानी हो जाएगी.

अभी हाल ही का स्मार्ट वाकया आपको सुनाऊँ. डिजिटल होते इंडिया में जब मेरा ब्रॉडबैंड कनेक्शन सातवें दिन भी बंद पड़ा रहा और कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई तो मैं लिखित में एक आवेदन लगाने कंपनी के दफ़्तर पर पहुंचा. वहाँ एक फ़ॉर्म दिया गया. कंप्लेन फ़ॉर्म. वो भी स्मार्ट था. उसमें बार कोड भी एम्बेड था और क्यूआर कोड भी क्योंकि वो स्मार्ट फ़ॉर्म था, और काग़ज का होते हुए भी उसमें स्मार्ट चिप और डिस्प्ले एम्बेड था. जब मैंने उस फ़ॉर्म में अपना नाम पता और कनेक्शन नंबर भरा, तो आपको यकीन नहीं होगा, वो आवेदन फ़ॉर्म इतना स्मार्ट था कि उसने तत्काल ‘कारण और उपाय’ वाले खाने में ऑटोमेटिक अपडेट कर दिया और बताया कि भाई, अभी बारिश की वजह से कंप्लेन बहुत है, और आउट-ऑफ टर्न, प्रायरिटी में काम करवाना हो तो फलां फलां आदमी से संपर्क करो, उसे उसकी कुछ ऊपरी आमदनी हासिल करने में स्मार्ट मदद करो तो काम स्मार्ट तरीके से तत्काल हो जाएगा. ओह! इस स्मार्ट जमाने में मैं ठहरा निरा बुद्धू. पहले ही यह स्मार्ट काम कर लेता तो नौबत यहाँ तक नहीं आती! धन्य है स्मार्ट फ़ॉर्म! और स्मार्ट दुनिया!!

image

क्या आप घर बैठे चिड़ियों की चहचहाहट, बादलों की उमड़ घुमड़, घनघोर बरसात, हल्की-भारी पवन, सघन जंगल में वृक्षों की सरसराहट का आनंद लेना चाहते हैं?

शुक्र है कि आज हमारे पास इंटरनेट है, और हम इसका आनंद घर बैठे ले सकते हैं.

प्रकृति प्रेमियों ने हम जैसों के लिए इंटरनेट पर इस किस्म के प्राकृतिक संगीत का अच्छा खासा कंपोजिशन तैयार कर इंटरनेट पर स्ट्रीमिंग के लिए डाला है और इसका आनंद आप आराम से कहीं भी कभी भी ले सकते हैं और अपने आसपास के वातावरण को अच्छा खासा बाग़-बग़ीचा और सघन वन की तरह बना सकते हैं – कम से कम आवाजों के जरिए ही.

आइए, आज हम आपको ऐसे ही कुछ इंटरनेट रेडियो स्टेशन के बारे में बताते हैं जिन्हें सुन कर आप आनंदित तो हो ही सकते हैं, अपनी प्रकृति प्रेम में तड़का लगा सकते हैं और जान समझ सकते हैं कि प्राकृतिक संगीत के कंपोजिशन भी कितने सुमधुर और सुंदर हो सकते हैं.

इन रेडियो स्टेशनों को आप अपने कंप्यूटर पर तो सुन ही सकते हैं, अधिकांश मोबाइल उपकरणों पर भी सुन सकते हैं.

चिड़िया-संगीत :

बर्ड सांग के ये इंटरनेट स्ट्रीमिंग रेडियो स्टेशन हैं:

http://www.birdsong.fm/

http://listen.abacus.fm/birdsong.m3u

सागर संगीत :

http://listen.abacus.fm/ocean.m3u

प्राकृतिक संगीत :

http://listen.abacus.fm/nature.m3u

http://www.ambinatureradio.com/

http://www.radiotunes.com/nature

वर्षा संगीत :

http://listen.abacus.fm/rain.m3u

और, इन सब से भी आपको शांति न मिले तो फिर शांति संगीत सुनें -

शांति संगीत :

http://om.md/radio

http://www.planetradiocity.com/non-film/radiocity-wellness

इस वर्ग से संबंधित और भी दर्जनों इंटरनेटी रेडियो स्टेशन हैं, जिन्हें आप आसानी से खोजबीन कर ढूंढ सकते हैं और जांच परख कर अपने ब्राउज़र में बुकमार्क कर सकते हैं. सबसे बड़ी बात यह है कि आमतौर पर ये इंटरनेटी रेडियो चैनल सभी के सुनने के लिए निःशुल्क उपलब्ध हैं.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget