क्या कभी आप भी गाय की सवारी करना चाहेंगे...?

image

कूल काऊ ट्रैकिंग - एक विज्ञापन की तस्वीर. असली. कोई फ़ोटोशॉप्ड नहीं, कोई नकली नहीं.

सवार के मुख पर प्रसन्नता की लकीरें बताती हैं कि यह कितना आह्लादकारी होगा! तो चलें, अपन भी ऐसी सवारी करने?

नहीं?

वैसे, अपने यहाँ भी लोग-बाग अक्सर गाय की सवारी अपने राजनीतिक लाभ के लिए करते रहे हैं. पर, वो आपको भी पता है कि अलग किस्म की अलहदा सवारी होती है, और उसका विजुअल इफ़ेक्ट नहीं, कुछ और इफ़ेक्ट होता है. हाँ, आह्लादकारी तो अवश्य होता होगा - राजनीतिक लाभ की तरह.

गऊ भक्तों से अग्रिम क्षमा याचना सहित. स्ट्रिक्टली नो ऑफ़ेंस टू एनीबडी!

टिप्पणियाँ

  1. ईमेल से प्राप्त टिप्पणी -
    सुरेश चन्द्र करमरकर

    वाह ,रविजी ,मजा आ गया, गोभक्तों और गौरक्षको से क्षमा ली यह अच्छा किया, एक बात मैं कहना चाहता था की उक्त गे के आलावा एक नील गाय हमारे इलाके में होती है। जो बड़ी ताकतवर ,होती है,दौड़ने में तेज होती है गरीब होने का प्रश्न ही नहीं ''गरीब ''विशेषण जो गाय के आगे लगता है वह इसके काबिल नहीं। उलटे किसानों की फसलों को उजाड़ देती है। इस नस्ल को काबू करने के लिए इनकी नसबंदी आवश्यक है, किन्तु रक्षकों से डर लगता है. एक बात और कहानी थी लंबे समय से कोई ब्लॉग नहीं लिखा तो मेरा ब्लॉग गूम हो गया.अब मैं नया बनाओं या उसीको खोजूं?

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें