आदमी को और कितना अलाल बनाओगे?

-----------

-----------


वैसे, वैज्ञानिकों का बहुत बहुत धन्यवाद। झुककर जूते के फीते बांधने में, नेताओं की तरह मुझे भी बहुत अलाली आती है। अब ये बात जुदा है कि मुझे चमचों, सहायकों की कोई सुविधा हासिल नहीं है।

-----------

-----------

0 Response to "आदमी को और कितना अलाल बनाओगे? "

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.