जा, मैं तुझे नहीं पढ़ता!

-----------

-----------

image

और भी अनगिनत स्रोत हैं इंटरनेट पर पढ़ने के लिए!

-----------

-----------

1 Response to "जा, मैं तुझे नहीं पढ़ता!"

  1. सही बातहै. आजकल फ़ैशन सा चल नि‍कला है इस धंधे का. सानूं की, दुनि‍या बहुत बडी है, अपना नुक्‍सान कर रहे हैं

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.