संदेश

June, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं
आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

द्वि-भाषी खोज

चित्र
एक फ्लिप में। टेक्नोलॉजी की जय हो!

तो, रवि रतलामी किस खेत की मूली है!

चित्र
जब हैकरों ने इन्हें भी नहीं बख्शा!

बढ़िया पित्जा खाना है? तो पहले ठीक से गणित पढ़ो!

चित्र

हमारी मांगें पूरी करो! व्हाट्सएप्प पर प्रतिबंध लगाओ!!

चित्र
यूँ तो इस तरह की मांग घोर-मूर्खता है, और उस मांग को सुनवाई के लिए स्वीकार करना उससे भी बड़ी, मैं चाहे जिस ऐप्प का इस्तेमाल करूं मेरी मर्जी,  किंतु  परंतु फिर भी, व्हाट्सएप्प पर बैन होना ही चाहिए. भला क्यूँ?इसलिए -व्हाट्सएप्प वैसे तो एक शानदार, नो-फ्रिल, मुफ़्त, सुंदर और बेहद काम का और बेहद आसान मैसेंजिंग टूल है जिसमें कुछ समय से वाइस कॉल की सुविधा भी हासिल हो गई है और वीडियो कॉल की सुविधा भी आने वाली है. फिर भी, इसे बैन होना चाहिए.सबसे पहले तो इसलिए कि यह भले ही शानदार, नो-फ्रिल, मुफ़्त, सुंदर और बेहद काम का और बेहद आसान मैसेंजिंग टूल हो, मगर इसकी डिजाइन तकनीकी तौर पर बेहद घटिया (जानबूझ कर बनाया गया) है. यह डिफ़ॉल्ट रूप में सभी मीडिया को ऑटोमेटिक डाउनलोड कर लेता है और जल्दी ही आपका स्मार्टफ़ोन मरने (माने मेमोरी लॉस के मामले में ) लग जाता है. मैंने दर्जनों मासूमों को अपने स्मार्टफ़ोन को हैंग होते और वाट्सएप्प नहीं चलने का रोना रोते देखा है - उनके स्मार्टफ़ोन वाट्सएप्प द्वारा स्वचालित डाउनलोड किये मीडिया से इतने पैक होते हैं कि वे सांस भी नहीं ले पाते हैं. और, मीडिया भी क्या? तमाम समूहो…

बहरे तो हो ही गए हैं, अंधे और सही!

चित्र

तो, क्या मैं भी गवर्नरी कर सकता हूँ?

चित्र
और, सबसे बड़ी बात, मैं भारत में ही जन्मा हूँ, और मेरी शिक्षा दीक्षा भारत में ही हुई है. इतना ही नहीं, आज तक मैंने कोई विदेश यात्रा भी नहीं की है!

कौन है सलमान खान, मैं नहीं जानता

चित्र
;)

डिजिटल लाइब्रेरी की लाखों किताबों को पीडीएफ़ ईबुक के रूप में निःशुल्क डाउनलोड करें

चित्र
डिजिटल लाइब्रेरी में लाखों किताबें स्कैन कर अपलोड की गई हैं जिनमें हिंदी भाषा में भी तमाम उपयोगी व मनोरंजक किताबें हैं. अधिकांश पुरानी किताबें स्कैन कर अपलोड की जा चुकी हैं. बहुत संभव है कि पचास सौ साल पुरानी कोई किताब यदि आप किसी संदर्भ के लिए खोज रहे हों तो वह यहाँ स्कैन किया हुआ मिल जाए.परंतु इस लाइब्रेरी की सबसे बड़ी समस्या यह है कि स्कैन की हुई बहुमूल्य किताबें ऑनलाइन पठन पाठन के लिए ही उपलब्ध हैं और आमतौर पर एक विशेष प्लगइन को इंस्टाल किये बगैर इन्हें पढ़ पाना मुश्किल होता है.यहाँ किताबों को डाउनलोड कर ऑफलाइन उपयोग करने की सुविधा प्रदान नहीं की गई है जिससे इस खूबसूरत प्रयास का लाभ अधिकांश लोग नहीं ले पाते.इस समस्या को कुछ उत्साही, व समाज के लिए समर्पित डेवलपरों ने ठीक करने की कोशिश की है.आप डिजिटल लाइब्रेरी की इन किताबों को एक टूल के जरिए पीडीएफ फ़ाइल के रूप में डाउनलोड कर सकते हैं. यह टूल निःशुल्क है.इस टूल का नाम है डीएलआई डाउनलोडरइसे आप यहाँ से -http://www.shunyafoundation.com/अथवा यहाँ से -http://www.sanskritdocuments.org/scannedbooks/dlidownloader/डाउनलोड कर सकते हैं.यह टूल…

आलू खाओ दिमाग बढ़ाओ!

चित्र
आलू के दाम, लगता है अब और आसमान छुएंगे!

क्रिकेट मेरा पैशन है

चित्र
क्या मैंने पैशन कहा? आपने शायद गलत सुना. मैंने फ़ैशन बोला था. फैसन.

लेखन की दुनिया का अंत - वाया फेसबुक!

चित्र

तो, रामायण, महाभारत और पुराण सचमुच में सच हो सकते हैं?

चित्र

क्या आपको भी बीयर और कॉफी पसंद है?

चित्र

फेसबुक : मुफ़्त का चंदन, ऐसे ही तो घिसना होगा नंदन!

चित्र

ओह तो विंडोज 10 इसलिए मुफ़्त है!

चित्र
पूरी कहानी यहाँ पढें-
http://www.digitaltrends.com/computing/windows-10-monetization-free/

अब तो जिम जाना छोड़ भी दो!

चित्र

किसी खूबसूरत दिन, मेरा स्मार्टफ़ोन कार भी बन जाएगा

चित्र
अब तो पूरी उम्मीद है!

रिलायंस सीडीएमए से रिलायंस 4 जी अपग्रेड : उपभोक्ताओं से धोखा!

चित्र
पिछली पोस्ट में मैंने एक अच्छी, बढ़िया टेक्नोलॉज़ी - रिलायंस सीडीएमए के अवसान का मर्सिया पढ़ा था, और क्या खूब पढ़ा था.और, रिलायंस सीडीएमए से रिलायंस 4 जी में मुफ़्त अपग्रेड के लिए पंजीकरण भी करवाया था.इससे पहले मेरा रिलायंस सीडीएमए हाई स्पीड डांगल 1x स्पीड में मर मर कर चल रहा था, वो अब 1x स्पीड में भी मर गया - यानी बंद हो गया.यह है डायलर का स्क्रीनशॉट -तो मैंने रिलायंस से लाइव चैट पर संपर्क किया.पता चला कि 4 जी लांच ही नहीं हुआ है, और सीडीएमए सेवा को बंद कर दिया गया है.जबकि सीडीएमए सेवा तब बंद होनी चाहिए थी, जब 4 जी सेवा पूरी तर लांच हो जाए और वर्तमान सीडीएमए ग्राहक बिना किसी परेशानी के 4जी में आसानी से त्वरित पोर्ट कर सकें.नीचे प्रस्तुत है लाइव चैट का इतिहास जिससे पता चलता है कि रिलायंस सीडीएमए किस तरह से अपने ग्राहकों को फ्री 4 जी अपग्रेड के नाम से धोखा दे रही है - क्योंकि सपोर्ट को भी पता नहीं है कि 4 जी कब आएगा और सीडीएमए सेवा पहले ही बंद किये दे रहे हैं!ravi: Hi Reliance Live Chat: Connection established. Reliance Live Chat: Initiating Call, Please Wait. Reliance Live Chat: Welco…

एमएलएम ऐप्प से जरा बचके!

चित्र
ऐसा हो नहीं सकता कि आज का, वर्तमान का कोई बंदा एमएलएम - यानी मल्टीलेवल मार्केटिंग के चक्कर में न फंसे. और, फंसे क्यों न? ये मार्केटियर एक से एक नायाब फंडे जुगाड़ते हैं चारा फेंकने को. इंटरनेट पर कई स्कीमें बाबा आदम के जमाने से चलती चली आ रही हैं, नई आती हैं पुरानी बंद होती हैं, लोग अपना पॉकेट जला लेते हैं एक दूसरे को आगाह करते हैं मगर फिर ट्रैप में फंस जाते हैं.अब एमएलएम के तो ऐप्प भी बन गए हैं. पता नहीं कैसे और क्यों ये ऐप्प प्ले स्टोर में स्वीकार कर लिए गये हैं! ऐसे ऐप्प कहीं आपको भी दिखें तो दुर्व्यवहार की रिपोर्ट करें.एक ऐसे ही ऐप्प का विज्ञापन इस ब्लॉग के एक पोस्ट में टिप्पणी के रूप में आया. आप भी देखें और सम्भल जाएं!

देवलिश - भारत में एक नई भाषा की खोज!

चित्र
ग्लोबलाइज़ेशन और इंटरनेशनलाइज़ेशन के चक्कर में भाषाएँ गड्ड मड्ड होती जा रही हैं. खासकर भारत में!और, सबसे ज्यादा गड्ड मड्ड  अंग्रेज़ी-हिंदी हो रही है.कहीं हिंग्लिश (हिंदी में इंग्लिश )  दिखता है, कहीं रोहिंदी (माने रोमन हिंदी). शुद्ध हिंदी तो आजकल दिखती ही नहीं.नीचे चित्र में जो भाषा नजर आ रही है, वह एक बहुत पड़े ब्रांड के नई कार के आज के विज्ञापन की हिंदी भाषी अखबारों  की है. वैसे, इस विज्ञापन को हिंदी में जारी कर हिंदी भाषियों पर एक तरह से एहसान किया गया है, इसकी शायद जरूरत ही नहीं थी. ये डॉयलाग शायद ठीक रहता - एक अहसान करना कि कोई अहसान न करना.पर, शायद इससे भला ही हो गया है. इस एहसान में एक नई भाषा खोज ली गई है.देवलिश - देवनागरी-इंग्लिश.नमूना आपने शायद पहले ही देख लिया हो -यह नई भाषा तो वाकई लाजवाब है. दमदार है. ट्रूली इंटरनेशल अपील है. मास एडॉप्टिबिलिटी की पूरी संभावना है. सरल सहज तो इतनी है कि अनपढ़ भी इसे सहजता से स्वीकार लें. ऐसी सुंदर सहज सरल भाषा आखिर बीसवी सदी में ही तो खोजी जा सकती थी, वो भी भारत भूमि पर.शायद अन्य प्रमुख भारतीय भाषाओं में भी आज इसी तरह की खोज हुई हो - तमिल म…

नॉर्वे जिंदाबाद

चित्र
क्या कभी भारत में ऐसे निर्णय की कल्पना कोई कर सकता है?

अलविदा रिलायंस सीडीएमए

चित्र
रिलायंस सीडीएमए - अलविदाहर खूबसूरत चीज को एक दिन अपने अवसान का सामना करना ही पड़ता है.रिलायंस सीडीएमए. जब यह सुविधा प्रारंभ हुई थी, तो पूरे भारत में इसके जैसी कनेक्टिविटी, डेटा बैंडविड्थ की सुविधा किसी भी अन्य मोबाइल सेवा प्रदाता में नहीं थी. मात्र 25 रुपए महीने में असीमित मात्रा में रिलायंस वेब मीडिया (?) से समाचार, वीडियो, ऑडियो आदि बहुत कुछ मिला करता था. हम अकसर आजतक के लाइव वीडियो से अपने मोबाइल फ़ोन में समाचार देखा करते थे और आसपास की जनता दांतों तले उंगली दबाए आश्चर्य करती थी कि वाह - टेक्नोलॉजी इतनी आगे बढ़ चुकी है! और कनेक्टिविटी की तो क्या कहें. कॉल ड्रॉप का तो नामोनिशान नहीं था और मैंने तो चलती ट्रेन में एल जी रिलायंस सीडीएमए फ़ोन के डेटा कनेक्शन का उपयोग करते हुए विश्व का पहला, चलती ट्रेन से हिंदी में ब्लॉग पोस्ट लिखा और प्रकाशित किया था बहरहाल.रिलायंस सीडीएमए अब बंद हो रही है. पिछले कुछ समय से इस सेवा में व्यवधान आने लग गए थे और इसकी पैन इंडिया कनेक्टिविटी में सेंध लग गई थी. मैंने इसका हाई स्पीड डांगल भी लिया हुआ था और उसमें 1 जीबी प्रतिमाह का लाइफ टाइम वैलिडिटी का पैक लिय…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें