संदेश

May, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

क्रोमकास्ट हिंदी में!

चित्र
क्रोमकास्ट हिंदी में




हिंदी वालों को गूगल क्रोमकास्ट का उपयोग करने का एक बहाना और मिल गया है. क्रोमकास्ट हिंदी मय हो गया है.

इसकी सेटिंग में जाकर भाषा हिंदी सेट करें. आप देखेंगे कि महज कुछ ही महत्वपूर्ण भाषाओं के बीच हिंदी भी यहाँ शान से बैठी हुई है.

इसके बाद क्रोमकास्ट में आमतौर पर तमाम संवाद, सेटिंग व हेल्प आदि हिंदी में उपलब्ध होते हैं.
क्रोमकास्ट क्या क्या कर सकता है?

यह आपका भरपूर मनोरंजन कर सकता है. इसके अपने ऐप्प भी हैं जो आपका चौबीसों घंटे मनोरंजन करने को तैयार बैठे रहते हैं.

हाँ, इसके लिए एक अदद स्मार्टफ़ोन (एंड्रायड 4.4 या अधिक हो तो बढ़िया) और एक एचडीएमआई इनपुट वाला टीवी आवश्यक होता है. यदि आपके पास दोनों हैं (यदि स्मार्टटीवी है तब भी, ) तो इस डिवाइस पर खर्च किया जा सकता है. इसकी उपयोगिता अनंत है, जो आप पर निर्भर है कि आप इससे क्या क्या कर सकते हैं. हाँ, इसी तरह के सस्ते ईजैडकास्ट जैसे उपकरणों से बचकर रहें. वे आमतौर पर ज्यादा काम नहीं आते.

रात में जाम!

चित्र
यहाँ, डिनर के साथ लिए जाने वाले जाम की बात नहीं हो रही है. 
दुनिया में भोपाल ही एकमात्र ऐसा शहर है जहाँ रात में, ऑफ पीक अवर में, जब जनता सो रही होती है, तब वाहनों का जाम होता है. 
दरअसल यहां बीआरटीएस कॉरिडोर बनाया गया है जिसमें बसें दिन में चलती हैं. अन्य वाहनों का इस लेन में प्रवेश वर्जित है . 
और रात में चूंकि बसें नहीं चलतीं, लिहाजा लेन खाली रहती थीं तो कुछ भाई लोग इस लेन में रेसिंग करने लगे. जाहिर है कुछ लोगों की मौत हो गई. 
अब, भोपाल की मूर्ख नौकरशाही ने नया, नायाब तरीका निकाला. बीआरटीएस लेन को रात ११ बजे के बाद चैनल गेट लगा कर बंद करना चालू कर दिया. 
है ना गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज होने लायक कारनामा? और हाँ, दुनिया में भोपाल ही एकमात्र ऐसा शहर होगा, जहाँ की सड़कों को सुरक्षा के लिहाज से रात में तालाबंद कर दिया जाता है! इस नायाब खोज के लिए तो यहाँ की नौकरशाही/अफसरशाही नोबुल पुरस्कार से सम्मान करने लायक है!

येल्लो! ४के अभी ठीक से पैदा हुआ नहीं, ५के का जन्म हो गया!!

चित्र
टेक्नोलॉजी की जय हो.
और, मैं बाल बाल बचा. ४के लेने ही वाला था, अब जब ५के आ गया है तो फिर इस पुराने ऑब्सलीट टेक्नोलॉजी को कौन पूछता है भला!

बस, पांच साल और, फिर मेरा बुढ़ापा दूर!

चित्र
पर,  सवाल यह है कि ये पांच साल कटेंगे आखिर कैसे?

इंटरनेट ऑफ़ एवरीथिंग और दुकालू

चित्र
यह तो ख़ैर एक अलग सा मसला है कि इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स और अंततः इंटरनेट ऑफ़ एवरीथिंग के जमाने में जब इंटरनेट के फ़ेसबुक पर तलाक होने लगे हैं, तो शादी ब्याह का मामला आमंत्रण-निमंत्रण से लेकर फेरे तक व्हॉट्सएप्प वेब स्ट्रीमिंग पर लाइव होगा, पार्टियाँ, पिज्जा हट और डोमिनोज़ के ‘30 मिनिट्स ऑर फ़्री’ के ऑनलाइन ऑर्डर से, अपने-अपने घरों के कम्फ़र्ट में होंगे, और शायद हनीमून भी लोकल लोकेशन में, खूबसूरत सेज के बाजू में 56 इंची टीवी सेट पर आ रहे वेनिस/स्विटज़रलैंड की खूबसूरत वादियों के यूट्यूब स्ट्रीमिंग के बीच ही होंगे. मगर अपने दुकालू के साथ मसला जरा दूसरे किस्म का रहा.इंटरनेट ऑफ़ एवरीथिंग के जमाने में, जब दुनिया की अधिकांश आबादी ने अपने आप को एक अदद स्मार्टफ़ोन और एक अदद इंटरनेट डेटा पैक से लैस कर लिया तो दुकालू ने सोचा कि वो भी क्यों पीछे रहे. नतीजतन उसने भी अपने इधर-उधर के बजट में कटौती की और अपने हिसाब से, इंटरनेट डेटा पैक युक्त एक बढ़िया स्मार्टफ़ोन ले ही लिया. अब बढ़िया स्मार्टफ़ोन खरीदने-बेचने का भी एक अलग मसला है. कंपनियाँ 100 का माल पाँच सौ, हजार, पचास हजार तक में बेचने का अपना-अपना स्मा…

लो जी अब गौ-हत्या प्रतिबंध तो कौनो जरूरत नाहीं...

चित्र
इब जीवदया एक्टिविस्टों का क्या होगा?

गूगल डिस्क (गूगल ड्राइव) / गूगल डॉक्स से हिंदी पीडीएफ़ / इमेज फ़ाइलों को ओसीआर करें व पाएं यूनिकोड टैक्स्ट

चित्र
अब आपको हिंदी ओसीआर की सुविधा ऑनलाइन मिल गई है. वह भी बहुत ही उम्दा. गूगल डिस्क के सौजन्य से. यदि आपकी हिंदी की इमेज फ़ाइल या पीडीएफ़ फ़ाइल की गुणवत्ता अच्छी है तो आपको लगभग 99% शुद्धता का ओसीआर किया यूनिकोड (जैसे कि मंगल फ़ॉन्ट में ) टैक्स्ट मिल सकता है जिसका उपयोग आप अन्यत्र कर सकते हैं.कैसे करें?गूगल डिस्क (अंग्रेज़ी में गूगल ड्राइव) पर जाएं. आपका जीमेल खाता होना चाहिए. वहाँ नया पर क्लिक करें.अपनी हिंदी की इमेज फ़ाइल या पीडीएफ फ़ाइल अपलोड करें.अपलोड होने के बाद उस इमेज पर दायाँ क्लिक करें, इसमें खोलें > गूगल दस्तावेज़  चुनें.आपकी इमेज फ़ाइल गूगल दस्तावेज़ के साथ खुलेगी. इमेज / पीडीएफ फ़ाइल के नीचे हिंदी टैक्स्ट यूनिकोड में आपको मिलेगा. इंस्टैंट. जैसा चाहें उपयोग करें.ऊपर इमेज फ़ाइल है, नीचे यूनिकोड में टैक्स्ट.रचनाकार पर यहाँ - http://www.rachanakar.org/2015/05/lav-par-diskaunt.html प्रकाशित आलोक पुराणिक का व्यंग्य - लव पर डिस्कांउट इसी विधि से डिजिटाइज कर प्रकाशित की गई है.बेस्ट, हिंदी ओसीआर!

# अच्छे दिन?

चित्र
यह तो, निश्चित तौर पर अच्छे दिनों के संकेत हैं. अब भले ही कर्म किसी का हो,  तकदीर किसी की!जिस देश में अंडरफ्रिक्वेंसी लोडशेडिंग होती थी,  और ओवरलोड से नेशनल ग्रिड फेल होने की घटनाएं आम थीं, वहाँ यह हो रहा है तो वाकई ईश्वर का चमत्कार है!

कंप्यूटर केवल ५४० रूपये में!

चित्र
टेक्नोलॉजी की जय हो!
बीस साल पहले का मेरा कंप्यूटर ४० हजार रुपये से अधिक का था जिसे मैंने अपने जीपीएफ खाते से ऋण लेकर खरीदा था. उसमें उस समय के हिसाब से टॉप स्पेसिफिकेशन था ३३ किलोहर्त्ज का प्रोसेसर और १६ मेगा हर्ट्ज का रैम. और हार्ड डिस्क? १ जीबी. और अब ये. धन्य धन्य.

अब, और भी कुछ बचा है स्मार्ट बनाने को?

चित्र
शायद आदमी की सोच ही रह जाएगा अंततः!!

गौवध प्रतिबंध की बातें तो अब ये भी करने लगे हैं...

चित्र
मानव, चेत जा!

येल्लो! अब इंटरनेट की भी राशनिंग!

चित्र
और देखो यूट्यूब वीडियो! & $?

गीत संगीत के दीवानों के लिए एक नया चैनल इनसिंक

चित्र
गीत संगीत के दीवानों के लिए एक नया चैनल - इनसिंक.अगर आप मेरी तरह गीत-संगीत के दीवाने हैं, तो अब तक इनसिंक के बारे में जान ही चुके होंगे, और शायद सप्रयास यह चैनल लगवा भी चुके होंगे. यदि नहीं, तो आइए, इसके बारे में कुछ जानकारी लें कि क्यों यह नया चैनल आपकी गीत-संगीत की दीवानगी में एक नया आयाम जोड़ने की क्षमता रखता है.पहली बात - भारत में जितने भी गीत-संगीत के चैनल हैं, वे सभी अपने दर्शकों को मूर्ख समझते हैं. वे ज्यादातर तो प्रोमो गाने ही बजाते-दिखाते हैं, और उनका संग्रह बेहद सीमित होता है, जिसमें वे बारंबार एक ही किस्म के कंटेंट दिखा-दिखा कर दर्शकों को सड़ा डालते हैं. एक संगीत के चैनल में हर दूसरे घंटे चिकनी चमेली दिखता है. ऊपर से इन चैनलों में ध्वनि की क्वालिटी मोनो / 18-20 केबीपीएस होती है, क्योंकि सेटेलाइट चैनल अधिकाधिक न्यूज़ चैनल भरने के चक्कर में आवाज की गुणवत्ता को मार ही डालते हैं. ऐसे में, शास्त्रीय संगीत आधारित, भारत का यह पहला (और शायद अब तक का अकेला?) चैनल है, जिसमें इस किस्म की समस्या अभी नहीं दिखती है. इसकी सलाहकार समिति में पंडित हरिप्रसाद चौरसिया, उस्ताद राशिद खान, नीलाद्…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें