गुरुवार, 26 मार्च 2015

प्रारब्ध - एक सत्य लघुकथा

image

लेखक आज सुबह से ही प्रारब्ध पर एक तड़कता भड़कता लेख लिखने पर तुला था.

कंप्यूटर पर उसकी उंगलियाँ मानों नाच रही थीं. टॉपमोस्ट गीयर पर, फुल थ्रॉटल में.

उसका आलेख लगभग पूरा होने को था.

एकाध लिंक लगाने थे, एकाध शब्दों वाक्यों को दुरुस्त करना था. बस.

यह एक ऐसा आलेख था, जो वायरल हो सकता था. फ़ेसबुक, ट्विटर में नया ट्रैंड चलता और हिट होता.

हर ओर कॉपी-पेस्ट होता. कई कई बार रीसरफेस होकर लौटकर आता. इतना कि लोगबाग इस आलेख को 'अज्ञात' के नाम से संदर्भित करते.

.

.

पर, ये क्या?

लेखक सोशल मीडिया पर 'पब्लिश' का बटन दबाता इससे पहले ही उसका वर्डप्रोसेसर क्रैश हो गया.

ऑटो सेव ऑप्शन लागू कर रखने, क्लाउड में काम करने के बावजूद प्रारब्ध पर लिखा वह धाँसू आलेख कबाड़ हो गया. नॉन रिट्रीवेबल हो गया.

 

प्रारब्ध?

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------