जीमेल को 1,00,000 धन्यवाद

भाई, अचानक, क्यों?

जरा ये स्क्रीनशॉट देखें -

image

एक लाख ईमेल. जब से जीमेल चालू हुआ, लगभग तभी से इसका उपयोग प्रारंभ है. तब केवल आमंत्रितों के लिए हुआ करता था. और तब आपके इनबॉक्स में केवल 2 एमबी तक माल मसाला रखने की सुविधा हुआ करती थी, और आपको अपने इनबॉक्स को जब तब खाली करना होता था. पढ़े अनपढ़े पुराने धुराने सभी ईमेलों को हटाना होता था नहीं तो सामने वाला बंदा हड़काता था - अबे! तू अपने इनबॉक्स को तो खाली कर, मेरा भेजा ईमेल बाऊंस हो रहा है. जी-मेल ने इसे पूरी तरह बदल दिया था - आपको ईमेल हटाने की जरूरत ही नहीं. रखे रहो. चाहे जब तक. और फेयर यूज किया तो इसकी कैपेसिटी नित्य बढ़ती ही रहेगी. अभी मेरे खाते में 15 जीबी है, जिसमें 10 जीबी तक माल भरा है. यानी चिंता की कोई बात नहीं, एक लाख ईमेल और आ जाए!

याहू (वेब आधारित ईमेल की शुरूआत मैंने इसी से की थी, और खाता अभी भी सक्रिय है), एओएल और पता नहीं कौन कौन से ईमेल इस बीच आए, ललचाए, और चले गए, परंतु जीमेल - तेरा जवाब नहीं!

फिर से धन्यवाद. लाख लाख.

टिप्पणियाँ

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें