बुधवार, 25 मार्च 2015

जीमेल को 1,00,000 धन्यवाद

भाई, अचानक, क्यों?

जरा ये स्क्रीनशॉट देखें -

image

एक लाख ईमेल. जब से जीमेल चालू हुआ, लगभग तभी से इसका उपयोग प्रारंभ है. तब केवल आमंत्रितों के लिए हुआ करता था. और तब आपके इनबॉक्स में केवल 2 एमबी तक माल मसाला रखने की सुविधा हुआ करती थी, और आपको अपने इनबॉक्स को जब तब खाली करना होता था. पढ़े अनपढ़े पुराने धुराने सभी ईमेलों को हटाना होता था नहीं तो सामने वाला बंदा हड़काता था - अबे! तू अपने इनबॉक्स को तो खाली कर, मेरा भेजा ईमेल बाऊंस हो रहा है. जी-मेल ने इसे पूरी तरह बदल दिया था - आपको ईमेल हटाने की जरूरत ही नहीं. रखे रहो. चाहे जब तक. और फेयर यूज किया तो इसकी कैपेसिटी नित्य बढ़ती ही रहेगी. अभी मेरे खाते में 15 जीबी है, जिसमें 10 जीबी तक माल भरा है. यानी चिंता की कोई बात नहीं, एक लाख ईमेल और आ जाए!

याहू (वेब आधारित ईमेल की शुरूआत मैंने इसी से की थी, और खाता अभी भी सक्रिय है), एओएल और पता नहीं कौन कौन से ईमेल इस बीच आए, ललचाए, और चले गए, परंतु जीमेल - तेरा जवाब नहीं!

फिर से धन्यवाद. लाख लाख.

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------