बुधवार, 30 दिसंबर 2015

फेसबुक उपयोग करने के फायदे

क्या सही मायने में आपको कुछ फायदा हुआ भी है?

सोमवार, 28 दिसंबर 2015

आकाशीय चित्रकारी

कल भोपाल शहर में (संभवतः अन्य शहरों में भी दिखा होगा) अद्भुत नजारा दिखा. अंतर्राष्ट्रीय उड़ान की जेट प्लेनें ऊपर आकाश में अपेक्षाकृत कम ऊंचा...

शुक्रवार, 25 दिसंबर 2015

स्मार्टफ़ोन की स्मार्ट समस्याएँ

हाल ही में, दुनिया को देखते हुए और उसके पीछे चलते हुए, मैंने भी अपना स्मार्टफ़ोन अपग्रेड कर लिया. और इस तरह एप्पल, सेमसुंग और एलजी आदि आदि ...

गुरुवार, 24 दिसंबर 2015

दुनिया में कहीं नहीं मिलती फोकट की दारू, क्या सही में फ्री है फ़ेसबुक फ्रीबेसिक्स?

फ़ेसबुक का फ्रीबेसिक्स का भ्रामक गोयबल्सिया अभियान जारी है.  आज भी अखबारों में पूरे दो पन्नों का विज्ञापन है. फ़ेसबुक के पास इफरात पैसा होने...

बुधवार, 23 दिसंबर 2015

इंटरनेट मतलब फ्री-बेसिक्स!

फ़ेसबुक का और अधिक कमाई करने का महा विज्ञापन अभियान जारी है. आज तो मामला हाईप्रोफ़ाइल एनबीए (नर्मदा-बचाओ-आंदोलन) की तरह नजर आ रहा है. फ़ेसब...

मंगलवार, 22 दिसंबर 2015

मंगलवार, 15 दिसंबर 2015

म्यूजिक्समैच : गानें सुनें ही नहीं, गाने पढ़ें भी - वो भी हिंदी में!

अंग्रेज़ी गानों के लिए लिरिक यानी गीतों के बोल पढ़ने की सुविधा तो बहुत पहले से है. परंतु हिंदी में, वो भी देवनागरी में किसी प्लेयर में गीत ...

सोमवार, 14 दिसंबर 2015

स्कार्प लेजर रेजर - सदियों पुराने रेजर ब्लेड से छुटकारा

वह भी एक झटके में ! अब हमें अपने सदियों पुराने रेजर ब्लेड से छुटकारा मिल जाएगा। क्योंकि अब एकदम नई टेक्नॉलजी का लेजर रेजर ब्लेड आ गया है।...

रविवार, 13 दिसंबर 2015

इट कैन हैप्पन ओनली इन इंडिया

इट  हैप्पन्स ओनली इन इंडिया ! 

डॉल्बी ऑडियो अब आपके ब्राउज़र में!

यदि आप गीत-संगीत के दीवाने हैं, तो डॉल्बी को जानते होंगे. और अच्छी तरह से. अभी तक तो मैं समझता रहा था कि डॉल्बी ऑडियो के लिए न्यूनतम हा...

विंडोज़ लाइव राइटर की मौत और ओपन लाइव राइटर का जन्म

खांटी ब्लॉगरों को विंडोज लाइव राइटर का नाम न केवल मालूम होगा, बल्कि वे इसकी उपयोगिता से वाकिफ भी होंगे. मेरे लिए यह औजार जीमेल से भी बढ़...

शनिवार, 12 दिसंबर 2015

डिफ़ीट टेक्नोलॉज़ी तो हम भारतीयों के जीन में है

फ़ॉक्सवैगन (या वॉक्सवैगन?) कारों में प्रदूषण का स्तर वास्तविक से कम दिखाने के लिए डिफ़ीट टेक्नोलॉज़ी (चीटिंग या मूर्ख बनाने वाली भी क...

बस इंक्रीमेंट? मलाईदार पोस्ट क्यों नहीं!

वी वांट बेस्ट आफ बोथ वर्ल्ड!

गुरुवार, 10 दिसंबर 2015

बुरा हो तेरा इंटरनेट, तूने मुझे बहुत बुद्धिहीन बनाया!

मुक्त स्रोत सॉफ़्टवेयरों के अच्छे दिन तो समझो आ ही गए!

भारत सरकार ने सरकारी कार्यालयों में मुक्त स्रोत (ओपन सोर्स) सॉफ़्टवेयरों का उपयोग अनिवार्य कर दिया है .   कोई तेरह वर्ष पहले, मुक्त स्रोत ...

बुधवार, 9 दिसंबर 2015

शनिवार, 28 नवंबर 2015

अपने एम एस वर्ड में लगाएँ कृतिदेव 010 से यूनिकोड फ़ॉन्ट परिवर्तक का मैक्रो

कृतिदेव 010 से यूनिकोड परिवर्तन हुआ और आसान - बस, एक क्लिक में!   तकनीकी हिंदी समूह के सक्रिय सदस्य श्री अनुनाद सिंह ने एम एस वर्ड के लिए ...

शुक्रवार, 27 नवंबर 2015

असहिष्णुता से भरा-पूरा मेरा एक दिन

सु बह-सुबह मेरे असहिष्णु स्मार्टफ़ोन का उतना ही असहिष्णु अलार्म बजा. अलार्म वैसे भी सहिष्णु कभी भी कतई भी नहीं हो सकते. वैसे भी, मेरा स्मार...

क्या सही है : सेटिंग, सेटिंग्स या सेटिंग्ज़ ?

कंप्यूटर और मोबाइल फ़ोनों के भारतीय बाजार को देखते हुए कंपनियाँ भी तेजी से स्थानीयकरण को अपना रही हैं . स्थानीयकरण माने अपने उपकरणों और सॉफ...

लीजिए, पेश है - केवल 300 रुपल्ली में कंप्यूटर!

जी हाँ, केवल 5 डॉलर यानी 300 (लगभग) रुपए में एक डेस्कटॉप श्रेणी का कंप्यूटर. हाँ, डिस्प्ले की व्यवस्था आपको करनी होगी . वैसे भी, आजकल मल्टी...

शनिवार, 21 नवंबर 2015

रविवार, 15 नवंबर 2015

क्या आप अपडेट हैं?

इतवार की अलसाई सुबह जब मैंने अपनी रेकॉर्डिंग सुविधा युक्त टीवी को खोलना चाहा यह देखने के लिए कि कपिल शर्मा अपने फूहड़, रोस्टिया अंदाज में द...

शुक्रवार, 13 नवंबर 2015

वैसे भी, फेसबुक को अब केवल नकली दिमाग वाले ही झेल सकते हैं!

क्या आपके पास नकली दिमाग है? तब तो फेसबुक आपके काम का है अन्यथा नहीं। 😀

गुरुवार, 12 नवंबर 2015

फेसबुक तूने बहुत दर्द दीना

क्या आप फिर से खुश रहना चाहते हैं? तो फिर देर किस बात की!

शुक्रवार, 6 नवंबर 2015

ये ल्लो, अब आवाज़ (आपके मीडिया प्लेयर से निकलने वाली,) भी ऑब्जैक्ट ओरिएंटेड हो चली...

यदि आप गीत संगीत के दीवाने हैं, तो जाहिर सी बात है कि अच्छे स्पीकर, अच्छे एवी प्लेयर-रिसीवर का भी थोड़ा बहुत शौक रखते होंगे, और बहुत संभव ह...

इंटरनेट पर ही सही, हिंदी के दिन तो फिरे!

यदि गूगल की मानें तो, हिंदी के दिन तो फिर गए हैं . जरा एक नजर इस जानकारी-चित्र पर डालें - वैसे, पूरा विवरण, (हालांकि 2 महीने पुराना है) आ...

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------