कैसा होगा आपका स्मार्ट शहर?

clip_image002

मेरा स्मार्ट शहर

जब से भारत में स्मार्ट शहर बनने की खबरें आई हैं, मेरे मन में भयंकर स्मार्ट सी उम्मीदें जग रही हैं. स्मार्ट शहर में रहने का कितना मजा रहेगा. हमारे ये स्मार्ट शहर, स्मार्टफ़ोन की तर्ज पर हमें हर एंगल से स्मार्ट बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रखेंगे. क्या इन स्मार्ट शहरों में रहने के लिए आदमी का स्वयं का स्मार्ट होना भी एक जरूरी न्यूनतम क्वालिफ़िकेशन होगा और क्या हम जैसे कम स्मार्ट – रतलामी, भोपाली टाइप के लोगों को इन शहरों में घुसने-रहने से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा? वैसे, अभी तो कोई रतलामी होता है, कोई भोपाली, कोई मुंबइया तो कोई कानपुरी. कल को इन प्रतीकों और तखल्लुसों के वजूद पर स्मार्ट शहरों का बड़ा खतरा आने वाला है. कल को अधिकतर लोगों के तखल्लुस उनके अपने स्मार्ट शहरों के नाम पर स्मार्टी, स्मार्टी प्लस और या स्मार्टी 1, 2, 3 होने वाले हैं.

अब सवाल ये है कि अपने अतुलनीय भारत का स्मार्ट शहर क्या और कितना अतुलनीय स्मार्ट होगा? क्या वो इतना स्मार्ट होगा कि सड़क पर खुले आम गुटखा खाकर थूकने वालों का ऑटोमेटिक चालान काट देगा, या, अधिक बेहतर – थूक और गुटखा की पन्नी को ऑटोमेटिक रूप से तुरंत साफ कर देगा. शहर इतना स्मार्ट होगा कि इधर आपने कहीं पान खाकर पीक थूका नहीं और उधर वो स्वचालित तरीके से साफ हुआ नहीं. यानी, कूड़ा-कचरा, पन्नी-पॉलीथीन और धूल-गर्दी रहित स्मार्ट शहर! अगर ऐसा हो तो कितना अच्छा हो!

शहर को ट्रैफ़िक के मामले में तो स्मार्ट होना ही चाहिए, नहीं तो काहे का स्मार्ट. स्मार्ट शहर में ट्रैफ़िक जाम जैसी चीज का नामोनिशान न हो. और, अगर ट्रैफ़िक ही न हो तो क्या बात. काम करने के लिए ऑफ़िस जाने जैसी बेतुकी बात न हो. घर से ही काम करने की सुविधा हो. ऑनलाइन मॉल की सुविधा हो, जिसमें स्वचालित ड्रोन से पिज्जा आदि की डिलीवरी की सुविधा हो. कभी कहीं जाना भी पड़े तो सड़कें चमचमाती, साफ सुथरी, ट्रैफ़िक रहित हों, चौराहे बत्ती रहित हों और, खालिस भारतीय अंदाज में कोई भी वाहन कभी भी कहीं से आ जा सके. दरअसल, सड़कें इतनी स्मार्ट हो कि यदि कोई बाइक वाला सामने से कट मारकर निकलने का प्रयास करे तो सड़क स्वयं एलीवेट होकर इसकी स्मार्ट व्यवस्था करे ताकि किसी को कोई नुकसान न हो और इस तरह से सड़कें स्मार्ट तरीके से दुर्घटना रहित बन सकें. और, वैसे भी, कोई शहर तभी स्मार्ट कहलाएगा जब उसकी सड़कें स्मार्ट होंगी – सेल्फ़ हीलिंग सड़कें – आपने इधर गड्ढा खोदा नहीं, और उधर वह गड्ढा स्वचालित तरीके से भरा नहीं. अभी तो हर कोई, कोई न कोई काम से सड़कों में गड्ढा खोद कर चला जाता है और भरना भूल जाता है. इस समस्या को दूर करने के लिए वैसे भी भारत की तमाम सड़कों का स्मार्ट होना बहुत जरूरी है.

शहर, मकानों से बनता है. और स्मार्ट शहर, जाहिर है, स्मार्ट मकानों से ही बनेगा. आपके स्मार्ट शहर के स्मार्ट मकान को इतना स्मार्ट तो होना ही चाहिए कि यदि दिन में 12 घंटे भी बिजली न मिले तो इसमें मौजूद इलेक्ट्रॉनिक उपकरण चिल्ल-पों न मचाएं, बल्ब की बत्ती गुल न हो, पंखे की हवा कम न हो. पानी 24 घंटे न सही, 24 घंटे में एक बार कम से कम घंटे भर के लिए तो आए.

और, खुदा खैर करे, यदि आपको कभी एक स्मार्ट शहर से दूसरे स्मार्ट शहर को जाना हो तो महीने भर पहले ट्रेन में रिजर्वेशन करवाने पर कन्फ़र्म सीट मिले, और आप ट्रेन में चोरी-डकैती-चूहे-के-काटने आदि के भय के बिना अपनी यात्रा स्मार्ट तरीके से पूरी कर सकें.

आपको आपके स्मार्ट शहर के लिए अग्रिम स्मार्ट शुभकामनाएं!

टिप्पणियाँ

  1. स्मार्ट लोगों को बधाई व शुभकामनाऐं । हम तो शायद ही घुस पायें इस स्मार्ट सिस्टम में ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. khuda khair kare........."is-mat sahron se"


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  3. चिंता कोई ना

    शहर ही स्मार्ट होंगे, इंसान नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut Khub,

    Smart Sahar to banega jab banega, par aapne vartamaan saharon ki halat achchi bayan ki.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें