रविवार, 20 अप्रैल 2014

राजा और उसका राजमुकुट

फलों का राजा, और राजाओं का महाराजा अल्फांसो - अपने सलमा-सितारे सहित राजमुकुट 👑 के साथ।

5 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. देख कर ही स्वाद ले लेते हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. लग तो अच्छा रहा है ,कच्चा तो नहीं होगा !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अल्फांसो की बात ही क्या? सरस और मधुर स्वाद पर हर एक की पहुँच से बाहर

    उत्तर देंहटाएं
  4. अल्फ़ांसो भी खूब खाया है, जब मुम्बई में थे तो पूरी पेटी रत्नागिरी के अल्फ़ांसो की दिल्ली लाए थे घर वालों के लिए। ऑफ़िस के पास ही थोक मंडी थी मुम्बई इलाके की, लेने के साथ में कुछ सहकर्मी भी गए थे और हुआ ये कि गाड़ी की डिक्की भर कर आम आए थे!

    लेकिन अपनी पसंद आज भी यूपी का लंगड़ा आम ही है, कोई अन्य आम चाहे फिर वह अल्फ़ांसो हो या दश्हरी या तोता-परी या कोई अन्य, कोई भी लंगड़े के आगे बेस्वाद है! और अपना तो बड़े ही लंगड़ा खा के हुए हैं, पिताजी को वही सबसे अधिक पसंद रहा है! :D

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---