संदेश

March, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

माइक्रोसॉफ़्ट डॉस और वर्ड के आरंभिक संस्करणों के सोर्स कोड सार्वजनिक जारी

चित्र
(एमएस-डॉस वातावरण में अक्षर नामक सॉफ़्टवेयर के जरिए कंप्यूटरों हिंदी टाइपिंग की सुविधा एक बड़ी बात थी)वैसे तो ब्लैक-इंटरनेट (यानी इंटरनेट की काली दुनिया) में यह बहुत पहले से तथाकथित रूप से उपलब्ध था, परंतु माइक्रोसॉफ़्ट द्वारा स्वयं, आधिकारिक रूप से डॉस संस्करण 1 तथा 2 और वर्ड के आरंभिक संस्करण के सोर्स कोड को सार्वजनिक उपयोग के लिए जारी कर दिया गया है. हालांकि ये सोर्स कोड निजी उपयोग / अवलोकन / शिक्षा के लिए ही हैं, और इनका व्यवसायिक उपयोग नहीं किया जा सकेगा.हमारे जैसे लोगों के लिए, जिन्होंने डॉस और वर्डस्टार के जमाने से कंप्यूटिंग की दुनिया में कदम रखा है, यह एक बड़ी नॉस्टेल्जिक किस्म की खबर है. डॉस को 20/33 मेगा हर्त्ज गति के (आज के सामान्य मोबाइल में 1.2 गीगा हर्त्ज के ड्यूएल प्रोसेसर होते हैं!) 1 मेगाबाइट रैम वाले 286 कंप्यूटरों पर हमेशा खराब होने की आशंका वाली फ़्लॉपी में चलाना - - जिसमें किसी किसी में 20/40 मेगा बाइट की हार्डडिस्क (पुनः - आज के सामान्य मोबाइल में भी 512 मेगा बाइट का रैम होता है तथा 32 गीगाबाइट तक बढ़ा सकने वाली मेमोरी होती है) भी होती और ढेरों कमांड याद रख कर उ…

नई तकनीक, नए गॅजेट्स, नई बीमारियाँ!

चित्र
वाट्सएप्पाइटिस :-)

आप स्मार्ट हो रहे हैं या नहीं?

चित्र
ये लीजिए. एक और. पहले फ़िलिप्स लेकर आया था, अब एलजी का बल्ब भी स्मार्ट हो गया. रोज ही नई नई खबरें आती हैं कि आज ये स्मार्ट हो गया, कल वो स्मार्ट हो गया. बुद्धू बक्सा – यानी टीवी से लेकर आपका दुपहिया-चौपहिया वाहन और आपका टूथब्रश सब तो स्मार्ट होते जा रहे हैं. यहाँ तक कि आपका आधुनिक कपड़े धोने का पाउडर भी स्मार्ट हो गया है क्योंकि उसमें भी एक्टिव स्मार्ट कण होते हैं जो धूल से प्यार करते हैं और उन्हें प्यार से खा कर धो डालते हैं. ठीक है, दुनिया स्मार्ट होती जा रही है. यहाँ दुनिया का अर्थ दुनिया का आदमी न निकालें. कृपया. गॅजेट्स और उपकरण स्मार्ट होते जा रहे हैं, मगर लगता नहीं कि आदमी की स्मार्टनेस (यदि कोई उपलब्ध हो) खोती जा रही है? उसका स्मार्टनेस डाउन होता जा रहा है. मेरी बात से इत्तेफ़ाक नहीं हो तो जरा अपने हाथ के मोबाइल फ़ोन पर निगाह मार लें. आपके पास भी मोबाइल फ़ोन है. स्मार्ट वाला. ठीक है. अब बिना संपर्क सूची देखे, अपने किसी मित्र को सीधे कोई नंबर डायल कर दिखा दें जरा? हो गई न आपकी स्मार्टनेस हवा? लैंडलाइन के जमाने में या जब इनमें मेमोरी नहीं होती थी तो आपको अपने दस पंद्रह मित्रों…

राजेश रंजन का आलेख - अपना कंप्यूटर अपनी भाषा में - अंतिम भाग - कंप्यूटरों का स्थानीयकरण

चित्र
(पिछले भाग 6 से जारी) 11. स्थानीयकरणकाईंधन – फ़्यूल(FUEL)लगातार सॉफ़्टवेयर लोकलाइज़ेशन के लिए काम करते हुए जो ज़रूरत सबसे ज़्यादा महसूस की गई वो यह कि अंग्रेज़ी की तुलना में हमारे कामों में जो सबसे ज़्यादा भिन्नता जहाँ है वह है मानकीकरण व एकरूपता की. जहाँ अंग्रेज़ी में कमोबेस सारे तकनीकी शब्द फिक्स हो गए हैं वहीं हिन्दी तथा अन्य भारतीय भाषाओं में एक अराजकता की स्थिति है. इसका एक कारण है कि सभी अपने-अपने स्तर पर काम कर रहे हैं और उनके काम के बीच तालमेल व बातचीत का अभाव है. फ़्यूल की शुरुआत इसी उद्देश्य से की गई. चूँकि मुक्त स्रोत के अंतर्गत अनुवाद अलग अलग जगहों से आते हैं अलग अलग भाषा रूपों को अपने में रखते हुए इसलिए यहाँ यह और जरूरी हो जाता है कि उनके कामों के बीच कम से कम एक न्यूनतम मानक रहे जो उनके लिए दिशानिर्देश का काम करे. इसी क्रम में ऐसा ख्याल आया कि क्यों न सबसे पहले उन शब्दों व प्रविष्टियों को लिया जाए जो सबसे पहले व प्रयोग में बार-बार सामने आते हैं. जैसे उन सारे अनुप्रयोगों के मेन्यू व सबमेन्यू आदि. इस प्रकार का काम न केवल प्रारंभिक स्तर पर विसंगतियों की सारी स्थितियों को दूर कर…

राजेश रंजन का आलेख - अपना कंप्यूटर अपनी भाषा में - भाग 6 : ऑफ़िस सूट, इंटरनेट ब्राउज़र, ईमेल तथा मैसेंजर

चित्र
(पिछले भाग 5 से जारी...)8.ऑफ़िससूइट – ओपनऑफ़िसओपनऑफ़िस कार्यालय में उपयोग में आने वाले अनुप्रयोगों का समूह है जिसका स्रोत कोड भी स्वतंत्र रूप से उपलब्ध है. ओपनऑफ़िस को OpenOffice.org या OOo के रूप में भी जाना जाता है. इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि ओपनडाक्यूमेंट मानक को आँकड़ा विनिमय के लिए प्रयोग करने के साथ ही साथ यह माइक्रोसॉफ़्ट ऑफ़िस के कई संस्करणों के साथ बहुतेरे दूसरे प्लेटफ़ॉर्म पर उपयोग किया जाता है. यह मुख्यतया माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज, लिनक्स, सोलारिस, बीएसडी, ओपनवीएमएस, OS/2, और IRIX पर समर्थित है. ओपनऑफ़िस स्टारऑफिस (http://www.sun.com/software/star/staroffice/index.jsp) पर आधारित है जिसे बाद में सन माइक्रोसिस्टम (http://sun.com) के द्वारा अगस्त 1999 में अधिगृहीत कर लिया गया. ओपनऑफ़िस एक मुक्त सॉफ़्टवेयर है जो जीएनयू लेसर जनरल पब्लिक लाइसेंस के अधीन उपलब्ध कराया गया है. हालांकि इसे ओपनऑफ़िस के रूप में ज़्यादा लोकप्रिय रूप से जाना जाता है लेकिन यह ट्रेडमार्क किसी दूसरे के नाम से पंजीकृत है इसलिए इसका औपचारिक नाम Openoffice.Org रखना वैधानिक ज़रूरत हो गई है. इसका वेब साइट विधिवत …

राजेश रंजन का आलेख - अपना कंप्यूटर अपनी भाषा में - भाग 5 : ऑपरेटिंग सिस्टम और डेस्कटॉप वातावरण

चित्र
(पिछले भाग 4 से जारी...)6. फ़ेडोरासामान्य रूप से हर ओपन सोर्स प्रोजेक्ट में काम करने का बुनियादी तरीका सामान्य रहता है। मेलिंग लिस्ट, चैट आदि के जरिए जानकारी ली जाती है और जहाँ इच्छा हो वहाँ आप अपना योगदान कर सकते हैं। फ़ेडोरा एक ऑपरेटिंग सिस्टम है। इस पर काम करके आप अपनी भाषा में एक संपूर्ण ऑपरेटिंग सिस्टम पाते हैं. फ़ेडोरा का स्थानीयकरण भी ओपनसोर्स के दूसरे प्रोजेक्ट के समान शुरू करना होता है. सबसे पहले यह जानकारी ले लीजिए कि कौन सी भाषाओं पर काम हो रहा है. इसके लिए https://fedora.transifex.com/projects/p/fedora/ पर देखें. यदि आप जिस भाषा में काम करने को रूचि रखते हैं और उस पर पहले से ही काम हो रहा है तो फिर आप टीम कोऑर्डिनेटर से https://fedoraproject.org/wiki/L10N_Teams पर संपर्क कीजिए और उन्हें अपनी रूचि को बताकर निर्देश अनुसार काम शुरू कीजिए।. यदि यदि आपकी भाषा इस सूची में नहीं है तो फिर http://fedoraproject.org/wiki/L10N/Maintainer पृष्ठ आपके काम की है. इस पृष्ठ पर बताए निर्देश के मुताबिक़ आप अपनी नई भाषा में काम शुरू कर सकते हैं. http://fedoraproject.org/wiki/L10N/Join पृष्ठ पर ब…

राजेश रंजन का आलेख - अपना कंप्यूटर अपनी भाषा में - भाग 4 - अनुवाद के औजार

चित्र
(भाग 3 से जारी)5.अनुवादकेऔज़ारअनुवाद का काम काफ़ी बड़ा काम होता है और इसे चुस्त-दुरूस्त तरीक़े और एकरूपता के साथ करने के लिए ऐसे औज़ारों की ज़रूरत होती है जो कंप्यूटर की मदद से इसके काम को काफ़ी सरल बना दे. कंप्यूटर की मदद से किए जाने वाले अनुवाद कंप्यूटर एसिस्टेड ट्रांसलेशन (CAT) कहे जाते हैं और इसके लिए तैयार किए गए औज़ार कैट टूल्स. ख़ासकर अनुवाद स्मृति डेटाबेस आदि के प्रयोग से बार-बार आनेवाली पंक्तियों को ख़ुद-ब-ख़ुद अनुवाद करके यह एक अनुवादक के काम को आसान बना देता है. इसके लिए मुक्त स्रोत की दुनिया में दो औज़ार काफ़ी लोकप्रिय हुए हैं. एक है केबैबेल एवं लोकलाइज़ और दूसरा है पीओएडिट. केबैबल(kbabel) औरलोकलाइज़(Lokalize)केबैबल (http://kbabel.kde.org) और लोकलाइज़ (http://userbase.kde.org/Lokalize) पीओ प्रारूप में दी गई फ़ाइल के अनुवाद का सबसे बेहतर औज़ार है. यह कई उपयोगी विशेषताओं से लैस है जो स्मृति के आधार पर अनुवाद करने से लेकर वाक्यरचना त्रुटि तथा कई अन्य तकनीकी अनुवाद संबंधी ग़लतियों को सुधारने में भी सहायक होता है. जब आप केबैबेल अपने कंप्यूटर में संस्थापित करने के बाद पहली दफ़ा चलाते ह…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें