शुक्रवार, 24 जनवरी 2014

इंटरनेट ईश्वरीय वरदान है, तो फ़ेसबुक संक्रामक वायरल रोग जो 2017 में ओरकुट की तरह भस्म हो जाएगा!

 

भई, ये बातें बड़े-बड़े पंडित और शोध-कर्ता कह रहे हैं, तब तो मानना पड़ेगा!

image

image

जय हो!

(सलमान और उसके फ़िल्म की नहीं!)

7 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. यह तो होना ही है.किसी भी कार्य के निरंतर चलने में समरसता नहीं रहती. फैफबूक भी अब अपना चारम खोती जा रही हैं. और आये दिन होने वाले अपराधिक कृत्यों ने भी इसे लांछित कर दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पता नहीं २०१७ में देखेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्‍लॉगिंग जिन्‍दाबाद :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन राष्ट्रीय बालिका दिवस और ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बात सत्य है ..
    जय हो ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुझे नहीं लगता। पुराने ऊब कर भागेंगे, नये जुड़ते चले जायेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---