टेढ़ी दुनिया पर रवि रतलामी की तिर्यक, तकनीकी रेखाएँ...

नई टेक्नोलॉजी की तो ऐसी की तैसी!

clip_image002

रसों पहले जब अपने ब्लैक एंड व्हाइट टीवी की दुनिया से कलर टीवी की दुनिया में आने के लिए प्लान बनाए थे तब भी यही समस्या थी.

और अब भी यही समस्या है.

पहले जब अपने श्वेत-श्याम टीवी से छुटकारा पाकर रंगीन टीवी खरीदना चाहा था, तो बड़ी मुश्किलें आई थीं.

मैं जैसे ही बाजार की ओर रूख करता कि आज तो मैं रंगीन टीवी लेकर ही आऊंगा, परंतु विधाता – ओह, विधाता नहीं, ये नित नई टेक्नोलॉजी लांच करने वाले शातिर निर्माता मेरे टीवी दर्शन के भाग्य में कुछ और ही लिख रखते थे!

मैं जिस दिन मन बनाकर बाजार जाता कि आज तो रंगीन टीवी लेकर ही आऊंगा, ठीक उसी दिन कंपनी ये धुंआधार घोषणा करती कि वो जल्द ही नया, नई टेक्नोलॉज़ी वाला टीवी ला रही है.

जब मैं 51 सेंटीमीटर की टीवी लेने जाता तो बाजार में उससे भी बढ़िया 53 सेंटीमीटर, फ्लैट स्क्रीन टीवी जल्द ही आने वाला होता. लिहाजा, बेहतर, उच्च और नई टेक्नोलॉजी पाने के फेर में मैं वापस लौट आता. और फिर, जब बाजार में 53 सेंटीमीटर का फ्लैट स्क्रीन टीवी आ जाएगा तो फिर कौन बेवकूफ़ पुरानी टेक्नोलॉजी के वर्तमान भोंडे 51 सेंटीमीटर की टीवी में कोई प्रोग्राम देखेगा? कॉमेडी सर्कस और कॉमेडी नाइट्स जैसे फूहड़ और सड़ियल प्रोग्रामों को देखने का असली मजा तो उच्च टेक्नोलॉजी के टीवी में ही है. बहरहाल, जब मैं 53 सेंटीमीटर टीवी खरीदने गया तो पता चला कि अगले कुछ महीनों में तो 72 इंची टीवी सेट आने वाले हैं, लिहाजा फिर इंतजार करने लगा.

उन्नत टेक्नोलॉजी युक्त 72 इंची टीवी जब तक आता और बाजारों सहति मेरे घर में छा जाता, शातिर टीवी निर्माताओं ने एलसीडी और प्लाज़्मा टीवी घोषणा कर डाली. अब आप बताइए, मैं कोई मूर्ख था जो अपने पैसे 72 इंची टीवी में फंसाता? मुझे तो एलसीडी टीवी का इंतजार करना ही था.

पर, इधर बड़ा धर्मसंकट था – एलसीडी या प्लाज्मा? कुछ समय तो इसी में उलझा रहा. कोई बताता एलसीडी बढ़िया है, दिन में भी बढ़िया दिखता है, तो कोई कहता (हाँ, भाई, किसी रीव्यू में ही, अब इंटरनेट जो आ गया है!) प्लाज्मा से बढ़िया पिक्चर क्वालिटी कोई नहीं. ऊपर से एलसीडी और प्लाज्मा में टीवी के आकारों के अनगिनत रूप. आदमी 32 इंची ले कि 40 ले कि 55 या फिर 16 में ही संतोष करे!

इस बीच एचडी, फुल एचडी और एचडी कंपेटिबल टीवी ने बहुत हाजमा खराब किया कि ये लें या वो लें!

तो, जनाब ऐसे ही किसी एक दिन मैंने सोच ही लिया कि बहुत हो चुका. एलसीडी टीवी ले ही लिया जाए. और बाजार चला गया. वहां पहुँचा तो – हाँ, आपने ठीक ठीक अंदाजा लगाया – पता चला कि एक कंपनी का नया एलईडी टीवी जल्द ही आने वाला था.

और, जब मैंने एक खास कंपनी का बढ़िया एलईडी टीवी खरीदने का मन बनाया तो, तब तक उसकी टेक्नोलॉज़ी पुरानी पड़ गई थी. बाजार में नया स्मार्ट टीवी जो आ गया था जो कि इंटरनेट से जुड़कर तमाम ऑनलाइन मनोरंजन भी परोस सकता था.

और, इधर जब मैं स्मार्ट टीवी लेने गया तो पता चला कि बस, कुछ ही दिनों में स्मार्ट-2 टीवी आ रहा है जो कि आपके हाव-भाव तथा आपकी आवाज को पहचान कर अपना काम करेगा. यानी आप कहेंगे कि स्टार प्लस लगा, तो वो स्टार प्लस लगा देगा और जब कहेंगे कि कोई ढंग का चैनल लगा तो वो फैशन टीवी लगा देगा.

इस बीच, 3 डी टीवी भी घुस आया, जिसे मैं तो हर हाल में लेने ही वाला था, परंतु तभी यह निर्णय करना बड़ा कठिन हो गया कि पैसिव वाला लें या एक्टिव शटर वाला?

और जब आज मैंने सोचा कि नव वर्ष पर अपने आप को शानदार गिफ़्ट दिया जाए, एक बढ़िया सा स्मार्ट टीवी खरीदा जाए तो पता है क्या हुआ?

बाजार में कर्व्ड टीवी आने की घोषणा हो गई. वो भी 4के वाला! यानी एचडी से भी उन्नत!

अब जब कर्व्ड स्क्रीन युक्त टीवी आने वाला है तो फिर पुरानी टेक्नोलॉज़ी के सड़ियल फ्लैट स्क्रीन टीवी में प्रोग्राम देखने में न तो किसी हास्य प्रोग्राम का पंच हास्य पैदा कर सकेगा न कोई डेली सोप देखने के लिए प्रेरित कर सकेगा.

जाहिर है, अभी भी इंतजार करने में ही भलाई है.

नई टेक्नोलॉजी की तो...

--

छींटें और बौछारें के सभी पाठकों को नववर्ष की शुभकामनाएं!

एक टिप्पणी भेजें

बड़ी अच्छी जानकारी।

अरे ईहै कारण हम भी पिछले तीन साल से अपना स्मार्ट फ़ोन खरीदने का निराने दबाएँ बैठे हैं ......... किसी से कहियेगा नहीं !

हा हा हा.... जी अब तो फोल्डेबल स्क्रीन वाले टीवी आने वाले हैं.... ;-)

मजेदार... ऐसा मोबाईल में भी होता है।
सुना है लोग मजाक में कहते हैं कि "गाड़ी, लाड़ी और मोबाइल लाने के बाद हर आदमी पछताता है कि कुछ दिन और रुक जाते तो और अच्छा मॉडेल मिल जाता।

बि‍ल गेट्स को यह बहुत पहले ही पता था इसीलि‍ए उसने कम्‍प्‍यूटर का नाम लेकर कहा था कि‍ यदि‍ आप यह सोच कर कम्‍प्‍यूटर ख़रीदना टाल रहे हैं अभी और सस्‍ता और उन्‍नत तकनीक वालाा आने को है तो आप शर्ति‍या कभी कम्‍प्‍यूटर नहीं ख़रीद पाएंगे :)

नई टेक्नोलॉजी की तो...

:)

Smart Tv gimmick hai.. Do not fall in that trap.. aur mujhe lagta hai ki koi bhi achha aur sasta LED TV (OLED aane mein abhi bahut time hai) jo HDMI aur USB ports ke saath aaye.. ek achhi choice hai.. Weston bhi dekh sakte hain.. aur Chromecast se bahut kuch 'smart' banaya ja sakta hai..

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

अन्य रचनाएँ

[random][simplepost]

व्यंग्य

[व्यंग्य][random][column1]

विविध

[विविध][random][column1]

हिन्दी

[हिन्दी][random][column1]
[blogger][facebook]

तकनीकी

[तकनीकी][random][column1]

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

[random][column1]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget