मंगलवार, 30 जुलाई 2013

वाह जिंदगी, वाह!

image

image

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियां आपने पढ़ी ही होंगी. इनमें से चुनिंदा 333 कहानियों का संकलन वाह जिंदगी वाह!  सुंदर जीवन के 333 प्रसंग के नाम से प्रभात प्रकाशन ने पॉकेटबुक आकार में प्रकाशित किया है. इन प्रेरणाप्रद कहानियों को पढ़ने के लिए अब आपको कंप्यूटिंग / मोबाइल उपकरणों की आवश्यकता नहीं है - बल्कि इन्हें पुस्तक में पढ़ सकते हैं, और अपने प्रियजनों को उपहार स्वरूप भेंट कर सकते हैं. पुस्तक की कीमत बेहद कम रखी गई है - 150 रुपए मात्र. पुस्तक सीधे प्रभात प्रकाशन से मंगाया जा सकता है. उम्मीद है कि कुछ दिनों में यह फ्लिपकार्ट और इन्फ़ीबीम जैसे जाल स्थलों पर भी अच्छे खासे डिस्काउंट में उपलब्ध हो जाए.

11 blogger-facebook:

  1. आपके ही ब्लॉग पर पढ़ीं थीं, बहुत अच्छी भी लगीं। शुभकामनायें, सुनील हांडाजी को।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी5:31 pm

    I couldn't find this book on Prabhat Prakashan site, can you please publish a link. Thanks!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. लिंक तो अभी नहीं है, परंतु आप प्रभात प्रकाशन की साइट पर हमसे संपर्क करें खंड में जाकर ईमेल भेजकर पुस्तक मंगा सकते हैं. भारत में वीपीपी की भी सुविधा है.

      हटाएं
  3. आपकी पुस्तक के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ। आशा करता हूँ कि ये "बेस्ट सेलर" साबित हो!!

    नये लेख : ब्लॉग से कमाई का एक बढ़िया साधन : AdsOpedia

    ग्राहम बेल की आवाज़ और कुदरत के कानून से इंसाफ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. लिंक तो अभी नहीं है, परंतु आप प्रभात प्रकाशन की साइट पर हमसे संपर्क करें खंड में जाकर ईमेल भेजकर पुस्तक मंगा सकते हैं. भारत में वीपीपी की भी सुविधा है.

      हटाएं
  5. अच्‍छी खबर है। काम की। आपका नाम देखकर आत्‍मीय प्रसन्‍नता हुई। बधाइयॉं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. पुस्तक प्रकाशन के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------