बुधवार, 24 जुलाई 2013

कौन है इसका चितेरा














दोपहर में धूप बड़े दिनों के बाद निकली थी तो मौसम थोड़ा सुहाना हो चला था। परंतु शाम होते होते, देखते ही देखते घनघोर काली घटा छा गई और वो इतना झूम कर बरसी कि लगा दुनिया का सारा पानी आज यहीं उंडेल देगी। बीच बीच में बिजली चमका कर देखती भी जा रही थी कि कहीं कोई कोना सूखा तो नहीं रह गया।
आज जैसी बारिश कभी देखी नहीं।
खुदा खैर करे, कल के अखबार रंगीन न हों।

8 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. हम पुकारते रहे और आप ले उड़े
    छींटे और बौछारें!

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्षण-क्षण नवीन चित्रों का एक ही तो चितेरा है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल मैने भी बारिश का आनंद लिया मैने आज तक इतनी जोरदार कडकती बिजली की आवाज भोपाल में पहली बार लगातार नही सुनी थी, विजय मार्केट बरखेडा भोपाल से सब्जी खरीदी, फिर रात 9 बजे घर आया जैसे ही बिस्तर पर बच्चे और मै सोने के लिये तैयारी कर रहे थे अवधपुरी भेल के दोनो Transformers उड गये toll-free phone number 18004203300 पर 2 बार कम्पलेंड की तब जाकर रात 1 बजे बिजली के दर्शन हुये जो कि बच्चो को मच्छर और गर्मी से बचाती है। मैने देखा की कैसे लाइनमैन और पूरी टीम बारिश में खम्भे पर चढकर नंगे हाथों से के तार जोड रहे थे

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति की चित्रकारी के आगे सभी बौने हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---