गुरुवार, 2 मई 2013

प्रकृति की इस गुत्थी को कौन सुलझाएगा?

10 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. नीम और पीपल की दोस्ती पुरानी है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गजब, गुत्थी तो गुत्थम गुत्था उपर से गांठ

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय प्रकृति के इस प्रगाढ़ प्रेम अर्थात गुत्थी को बान्दल कहते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. .....और फिर भी आदमी दम भरता है कि वह सब जानता है और सब कुछ सुलझा सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जनसंख्या, आतंकवाद, दुराचार, भ्रष्टाचार सभी दिख रहें हैं। इसे तो प्रकृति ही सुलझाएगी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्‍दर लेख
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रकृति की ये गुत्‍थी भी जीवन की गुत्‍थी की तरह है जिसे सुलझाना इतना आसान नही है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रकृति भी अपने प्रयोग कर रही है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रकृति की प्रयोगशाला में क्या-क्या चल रहा है- कौन जाने !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---