इस ब्लॉग में खोजकर पढ़ें :

Custom Search

सोमवार, 17 दिसंबर 2012

क्या आप भी 'हरित' होना नहीं चाहेंगे?

सड़क पर चलते चलते एक पेड़ के तने पर रखे इस उपकरण ने मेरा ध्यान खींचा -

Image013 (Small)

यह एक सोलर पैनल था जिसे बड़े तरतीब से पेड़ के तने पर इस तरह से रखा गया था कि दिन भर उस पर धूप पड़ती रहे.

उसे देख मैं रुका. पास ही एक पान का ठेला था. सोलर पैनल से तार का कनेक्शन पान के ठेले तक जा रहा था जहाँ पर एक बैटरी व चार्जर जुड़े थे.

और पान के ठेले पर मौजूद था - घनश्याम साहू. 'हरित पुरुष' - घनश्याम साहू -

Image014 (Small)

पेड़ के तने पर रखे सोलर पैनल को लेकर मेरी जिज्ञासा बढ़ी तो घनश्याम साहू ने बताया -

पहले वो आस पास से वैध-अवैध कनेक्शन लेकर और इमर्जेंसी लाइट जैसे साधनों से अपनी गुमटी को रात में रौशन रखता था. परंतु एक बार कहीं से पता चला कि 3 हजार रुपए (किसी गुमटी धारक के लिए यह रकम बड़ी है) में यह सोलर पैनल मिलता है जिससे इन सबकी जरूरत नहीं रहती तो पैसे जमा कर यह खरीद लिया और अब उसे अपनी गुमटी को रौशन करने के लिए किसी चीज के लिए एक पैसा भी खर्च करने की जरूरत नहीं रहती. उसने गुमटी को रौशन करने के लिए बेहद कम खपत करने वाले एलईडी लैंप की पट्टी भी लगवा ली है. उसका सोलर पैनल बरसात के दिनों में भी उसकी गुमटी को 5 घंटे तक भरपूर रौशन करने लायक बैटरी तो चार्ज कर ही लेता है.

क्या आप भी घनश्याम साहू की तरह हरित नहीं होना चाहेंगे?

मैंने अपने घर को सोलर पैनल से ऊर्जित करने के लिए कुछ समय पूर्व कुछ सोच-विचार किया भी था, परंतु इसकी उच्च आरंभिक लागत (750 वॉट के लिए कोई 80-90 हजार, वह भी 30 प्रतिशत सरकारी सबसिडी के उपरांत) ने मेरे पांव वापस खींच लिए. यदि इसकी कीमतें और भी कम हों - 750 वॉट के लिए 30-35 हजार के रेंज पर - तो मुझे लगता है कि मेरे जैसे ढेरों लोग इस पद्धति को अपनाएंगे और फलस्वरूप न सिर्फ वातावरण का भला होगा, बिजली की कमी से जूझ रहे देश को भी राहत मिलेगी.

Recent Posts