बुधवार, 12 दिसंबर 2012

90% हिन्दी ब्लॉगों व 60% हिन्दी वेबसाइटों में हिन्दी की ढेरों वर्तनी की गलतियाँ होती हैं...




अब यह बात मैं नहीं कर रहा हूँ. नहीं तो लोग मुझ पर पिल पड़ेंगे और मेरी खुद की पोस्टों में से वर्तनी की सैकड़ों गलतियाँ निकाल कर दिखा देंगे. भई, यह बात मैं नहीं, स्पेलगुरू कह रहे हैं. और यदि वे स्पेलगुरू हैं, तो जरूर सही ही कह रहे होंगे. यह स्क्रीनशॉट देखें -



और, यदि सचमुच में ऐसा है तो आपको निराश होने की जरूरत नहीं है. अब आप मात्र 399 रुपए में अपनी वर्तनी सुधार सकते हैं. यह ऑफर सीमित समय के लिए ही है.

वैसे तो यह बेहद सस्ता मगर काम का सॉफ़्टवेयर वर्तनी जांच में आपकी सचमुच में सहायता करेगा, मगर पूरी तरह नहीं. क्योंकि कहाँ कि का प्रयोग करना है और कहाँ की का, वो ये नहीं बता पाएगा (आखिर यह भी तो एक तरह की गलत वर्तनी हुई ना)! फिर भी यह है तो काम का.

स्पेलगुरू की एक विस्तृत समीक्षा पहले भी दी जा चुकी है.

11 blogger-facebook:

  1. आप में से बहुत अच्छा किया गया है. उपहार आप सब समय की संख्या.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मतलब हिन्दी ब्लॉग और बेवसाइट स्पेलगुरु के लिये रोजी-रोटी का जुगाड़ है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने को तो अपने दिमाग वाले स्पेलगुरु पर ज्यादा भरोसा है, जिसने ३ वर्ष हिन्दी साहित्य पढ़ा और फ़िर सतत पढ़ ही रहा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने मेरी पसन्‍द की बात बताई और औजार सुझाया। मैं इसे लेना चाहूँगा। आपकी सहायता लगेगी मुझे। आपसे फोन पर बात करूँगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच है, सुधरते रहना सतत प्रक्रिया हो जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सही कहा है स्पेल्गुरु !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामी11:24 pm

    हास्यापद बात तो यह है की इस बात को अंग्रेजी में लिखा गया है

    उत्तर देंहटाएं
  8. तो ये हिन्दी वर्तनी के मात्रा गुरु हैं -गुरु या गुरू ?

    उत्तर देंहटाएं
  9. भाई साहब आपने आवश्यक जानकारी दे दी यह मिलेगा कैसे मेल करें या ३९९ रूपया कैसे भेजूं बतलाएं .मोबाईल नंबर ९८२७८८३५४१.रमाकांत सिंह

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही अच्छी जानकारी दी है सर जी, कभी इधर आकर मेरी कमियां बता दो ताकि मैं अपने ब्लॉग में आवश्यक सुधार कर सकूँ ..धन्यवाद

    एचटीएमएल हिन्दी में



    अपना-अंतर्जाल

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---------------------------------------------------------

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------