सोमवार, 5 नवंबर 2012

दाऊद इब्राहीम और आइंस्टाइन एक बराबर?

clip_image002

ये आईक्यू का फंडा बड़ा अजीब है. हो सकता है कि आपका आईक्यू ओसामा या अल-जवाहिरी के बरोबर हो! बहरहाल, ये आईक्यू का मामला गर्म इसलिए हुआ है कि भाजपाध्यक्ष नितिन गडकरी के मुताबिक स्वामी विवेकानंद और भाई दाऊद आईक्यू के मामले में एक समान हैं!

 

"...यह कहा था गडकरी ने -
गडकरी ने रविवार को भोपाल में ओजस्विनी समारोह में स्वामी विवेकानंद के आईक्यू की तुलना आतंकी दाऊद इब्राहिम से कर डाली। उन्होंने कहा कि दाऊद ने अपने आईक्यू का उपयोग अपराध के क्षेत्र में किया तो वह अपराधी बन गया, जबकि विवेकानंद ने समाज,देश के हित में अपने आईक्यू का इस्तेमाल किया तो वे महान बन गए। आईक्यू दोनों जगह समान है, पर महत्वपूर्ण ये है कि बुद्धिमत्ता, कौशल का उपयोग किस तरह होता है...."

समाचार स्रोत - पत्रिका

 

जो भी हो, इस वक्तव्य से तो नितिन गडकरी के आईक्यू का पता पूरी तरह से लग जाता है!

कुछ इस तरह जैसे कि बहुत से फेसबुकिए, ट्विटरिए, ब्लॉगरिये के पोस्टों-टिप्पणियों और स्टेटस अपडेट से उनके आई-क्यू का पता पूरी तरह से लग जाता है.

पर, अब जरा आप भी  अपनी पड़ताल कर लें कि आपका अपना आईक्यू कितना है, और किसके बराबर है!

9 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. हम तो जब अपना आइ क्यू चेक करने गये तो हमको आइ क्यू नापने वाला मीटर ही नहीं मिला। अब समय आ गया है कि नेता बनने के लिए शैक्षिणक योग्यता के साथ-साथ आइ क्यू परीक्षा भी ली जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. फेस बुक पर भा ज पा के दीवानों की कमी नहीं है जो मात्र
    इनके नेताओ के वाक्य चातुर्य व भाषण से प्रभावित
    रहते है चाल चेहरा चरित्र चिंतन में दूसरो से भिन्न रहने का
    दावा करने वाली पार्टी के अध्यक्ष महोदय ने विवेकानंद की
    आई क्यू का टेस्ट परीक्षण व दाउद का आई क्यू टेस्ट का परिणाम
    कहा मिला लिया जिसे सेम टू सेम कह कर यह बात कह डाली
    गडकरी अपने मूर्खता पूर्ण बयानों के लिए कई बार फस चुके है
    भा ज पा के नेताओं द्वारा उनका बचाव भी बचकाना है
    यदि यही बात किसी अन्य पार्टी के नेता द्वारा कही गई होती तो अब तक फेस बुक
    पर ज्वाला मुखी भभक उठता लेकिन यहाँ अभी सन्नाटा क्यों पसरा है विचारणीय है

    उत्तर देंहटाएं
  3. बडबोलापन खराब होता है इसका पता अब नितिन गडकरी को पता चला होगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. दाऊद ने अपने आईक्यू का उपयोग अपराध के क्षेत्र में किया तो वह अपराधी बन गया, जबकि विवेकानंद ने समाज,देश के हित में अपने आईक्यू का इस्तेमाल किया तो वे महान बन गए। आईक्यू दोनों जगह समान है, पर महत्वपूर्ण ये है कि बुद्धिमत्ता, कौशल का उपयोग किस तरह होता है।.

    yah kahne me galat kya hai?

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. विनय जी बहुत बहुत धन्यवाद.

      हटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---