आसपास की कहानियाँ ||  छींटें और बौछारें ||  तकनीकी ||  विविध ||  व्यंग्य ||  हिन्दी || 2000+ तकनीकी और हास्य-व्यंग्य रचनाएँ -

महंगाई से कौन साला दुःखी होता है?

clip_image001

आज के जमाने में महंगाई से दुःखी तो सिर्फ और सिर्फ आपका सुबह का अख़बार होता है. वो भी कहीं दो कॉलम सेंटीमीटर के नामालूम से समाचार फ्लैश में. बाकी तो हर तरफ खुशी ही खुशी छलकती और झलकती नजर आती है.

महंगाई से सबसे ज्यादा खुश नेता होता है. महंगाई के चलते उसके भी रेट जो बढ़ जाते हैं. ट्रांसफर-पोस्टिंग और ठेके के लिए पहले चालीस प्रतिशत मिलते थे. मिलते तो अब भी चालीस प्रतिशत हैं, मगर चहुँओर महंगाई के चलते मामला लाखों से आगे बढ़ कर करोड़ों में पहुँच जाता है. अब, नेताजी खुश नहीं होंगे तो और कौन होगा?

महंगाई से अफसर भी बहुत खुश रहता है. उसे वैसे भी बाजार में घेला भर भी खर्च नहीं करना पड़ता. घर का सारा राशन, सब्जी-भाजी और दीगर सामान तो मातहतों के जिम्मे है. ऊपर से महंगाई बढ़ने से महंगाई-भत्ता भी हर छठे चौमासे बढ़ जाता है. फिर, मलाईदार पद में बढ़ी हुई महंगाई के मुताबिक महंगी चाँदी जो काटने को मिलती है.

महंगाई से उत्पादक और व्यापारी भी खुश रहता है. इधर पेट्रोल प्रति लीटर पाँच रुपए महंगा होता है तो व्यापारी के उत्पाद में एमआरपी में सात रुपए का इजाफ़ा हो जाता है. वो अपना उत्पाद दो रुपए महंगा कर खुश हो लेता है.

इधर ऑटो और टैक्सी वाले भी महंगाई से खुश रहते हैं. वस्तुतः ये तो किराया बढ़ाने के लिए महंगाई बढ़ने के इंतजार में रहते हैं. पेट्रोल और डीजल की तो छोड़ दें, आलू प्याज के दाम में बढ़ोत्तरी से भी इनके रेट बढ़ जाते हैं. ऊपर से महंगाई का कंपनसेशन मीटर में छेड़छाड के साथ साथ किराए में प्रीमियम बढ़ाकर – दोतरफा करते हैं. महंगाई से दुःखी आदमी तो मैंने भी आज तक किसी को नहीं देखा. आपने देखा हो तो बता दें. बड़ी कृपा होगी.

मैं भी महंगाई से बहुत खुश होता हूँ. मर्सिडीज़ बैंज सी क्लास के सपने बरसों से देखता आ रहा हूँ. तब से जब उसकी कीमत दस लाख थी. अब साठ लाख है. मेरा सपना उच्च स्तरीय, बेहद महंगा हो गया है. क्या यह खुशी की बात नहीं है?

टिप्पणियाँ

  1. बहुत ही सटीक फ़रमाया है आपने.....सबकी होली-दिवाली मन रही हैं,इस मंहगाई तोहफे से |

    "मन के कोने से..."

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका सपना यूं हो उच्‍च स्‍तरीय होता रहे, अपुन की यही शुभकामनाएं हैं। :)
    ............
    डायन का तिलिस्‍म!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर तस्वीर के दो पहलू होते हैं...मंहगाई के दर्द को समेटे सच्चाई...

    उत्तर देंहटाएं
  4. तब लोग दुखी क्यों,

    आनन्द मने, हे मँहगाई,
    क्यों इतने दिन में आ पाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपने सामयिक जीवन दर्शन का परम ज्ञान प्रदान किया।

    इसे मैंने अंग्रेजी में कुछ इस तरह से पढा था - 'जब बलात्‍कार अपरिहार्य हो जाए तो उसका आनन्‍द लेना चाहिए।'

    आपकी सीख, सर-माथे पर।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह भी एक अनोखा व्यवहार है अपना अपना अंदाज़ है

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्टीक व्यंग ,बढ़िया प्रस्तुति,हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. बचपन में पढ़ता था कि राष्ट्रपति का वेतन दस हजार रूपये महीना होता है। कभी अपना जेब खर्च 'पाँच पैसा' देखता कभी दांतो तले उंगलियाँ दबाता। अब मैं दस हजार से भी अधिक पाता हूँ। बचपन वाले राष्ट्रपति से भी अधिक! यह खुशी महंगाई की ही देन है।:)

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें