मंगलवार, 10 जुलाई 2012

ओह! तो मेरी चिंता, असुरक्षा की भावना के पीछे वो नहीं, ये हैं!

image

 

एक शोध से पता चला है कि ब्लॉग, फ़ेसबुक और ट्विटर आपके दिल दिमाग में चिंता, असुरक्षा की भावनाएँ भरने का काम ज्यादा करते हैं. इसमें शोध की क्या जरूरत थी? जिस दिन से हम ब्लॉगिंग में घुसे हैं, ट्विटर पर खाता खोला है और फ़ेसबुक में पहला लाइक मारे हैं, कसम से दुनिया बदल गई है. चिंता के मारे हलाकान हो गए हैं. रात दो बजे भी ईमेल अलर्ट आता है तो उठ कर कमेंट एप्रूव करते हैं, एक ट्वीट मारते हैं और फेसबुक वाल में किसी को चिकोटी काट कर फिर दोबारा सोने की बेकार कोशिश करते हैं.

दुनिया इतनी कमीनी कभी नहीं रही. फ़ेसबुक से पहले दुनिया कितनी शांत और आरामप्रद थी! है ना? न थी इस तरह रात दो बजे उठने की चिंता और न किसी तरह की ब्लॉग-ट्विटर-फ़ेसबुकिया असुरक्षा की भावना!!!

--

 

व्यंज़ल

-----

जितना ट्विटरिया रहा हूँ मैं

उतना ही चिंतिया रहा हूँ मैं

 

दुनिया में क्या कम गम थे

ऊपर से फ़ेसबुकिया रहा हूँ मैं

 

लोग कहते बस फकत हैं झूठ

बहुत बड़ा ब्लॉगिया रहा हूँ मैं

 

उठते बैठते सोते नहाते धोते

कहां नहीं इंटरनेटिया रहा हूँ मैं

 

जिंदगी में बचा क्या रवि

जब देखो गूगलिया रहा हूँ मैं

--

8 टिप्पणियाँ./ अपनी प्रतिक्रिया लिखें:

  1. हा हा हा हा हा, मल्‍टी टास्किंग भी कहां थी। एक समय में एक ही काम हो सकता था।


    अब तो... अब क्‍या कहें, समय के साथ असुरक्षा बढ़ रही है... पर क्‍या खोने की यह समझ में नहीं आता... :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या खूब व्यंजलिया दिया है आपने.....हा हा हा हा...बहुत खूब , पढ़कर आनंद आ गया रवि जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया रवि जी...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे तो लगा था 'ऐसा' अकेला हूँ मैं
    'ऐसों' की भीड में रगडा रहा हूँ मैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. फ़ेसबुक बिना चैन कहां नहीं! ट्विटर ने किया बेचैन ! :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच में, बहुतों को सुबह सुबह उठते ही यह लगता है कि न जाने कितने लोगों ने रात में लाइक कर दिया होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. फेसबुकीय युग में विशुद्ध फेसबुकीय-‍ट्विटरीय परिघटना को परिभाषित करती फेसबुकिया व्‍यंजल!

    उत्तर देंहटाएं
  8. पढ़ के थोडा सा चिन्तिया गए हम भी :)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.
कृपया ध्यान दें - स्पैम (वायरस, ट्रोजन व रद्दी साइटों इत्यादि की कड़ियों युक्त)टिप्पणियों की समस्या के कारण टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहां पर प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

----

नया! छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें. ---