संदेश

January, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 73

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी383अनुकूलनएक नौजवान ने विरासत में मिली अपनी सारी दौलत गंवा दी। जैसा कि ऐसे मामलों में अक्सर होता है, गरीब होते ही उसके सभी मित्र भी उससे किनारा कर गए। अपनी बुद्धि के अनुसार वह एक स्वामी जी की शरण में पहुंचा और उनसे बोला - "मेरा अब क्या होगा? न मेरे पास धन है, न ही मित्र।" स्वामी जी ने उसे ढांढस बंधाते हुए कहा - "चिंता मत करो बेटे। मेरे शब्दों को याद रखना। कुछ दिनों में सब कुछ ठीक हो जायेगा।" नौजवान की आँखों में आशा की किरण दिखायी दी। उसने पूछा - "क्या मैं फिर से धनवान हो जाऊंगा?" स्वामी जी ने उत्तर दिया - "नहीं। तुम्हें गरीबी और अकेले रहने की आदत हो जायेगी।" --- 384सत्य और असत्यएक बार एक आदमी की परछाई ने उससे कहा - "यह देखो। मैं तुमसे कितने गुना बड़ी हो गयी हूं और तुम जैसे थे वैसे ही हो।" कुछ देर चुप रहने के बाद वह व्यक्ति बोला - "यही सत्य और असत्य के बीच का फ़र्क है। सत्य जितना है, उतना ही रहता है और असत्य पल-पल में घटता-बढ़ता रहता है।&q…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 72

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी381व्यावहारिकताएक शिष्या अपने विवाह की तैयारियों में लगी हुयी थी। इस अवसर पर होने वाले प्रीतिभोज के लिए उसने घोषणा की कि गरीबों के प्रति अगाध प्रेम के कारण उसने यह तय किया है कि समारोह में सबसे आगे की पंक्तियों में गरीब लोग ही बैठेंगे और अमीर मेहमान पीछे की पंक्तियों में रहेंगे। भोजन में भी यही क्रम रहेगा। यह बात कहकर उसने अपने गुरूजी की आँखों में देखा तथा उनकी स्वीकृति चाही। गुरूजी ने एक पल विचार करने के बाद कहा -"मेरे विचार से यह सर्वथा ग़लत होगा। किसी को भी विवाह समारोह में मजा नहीं आएगा। तुम्हारे परिवार को शर्मिंदगी झेलनी पड़ेगी। तुम्हारे अमीर मेहमानों को अपमान महसूस होगा और गरीब मेहमान भी बेझिझक भोजन नहीं कर पायेंगे।" -- 382ड्यूटी का बहानाएक गुरूजी ने राज्यपाल को सख्त शिकायती पत्र लिखकर यह आपत्ति जतायी कि नस्लभेद विरोधी शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर बर्बर लाठीचार्ज किया गया है। राज्यपाल ने पत्र लिखकर यह उत्तर दिया कि उन्होंने सिर्फ अपनी ड्यूटी की है। गुरूजी बोले - "जब भी कोई बेवक…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 71

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी379पुण्य कैसे मिलता हैएक प्रसिद्ध साधु मरने के बाद सीधे स्वर्ग पहुंचे। स्वर्ग के द्वार पर चित्रगुप्त महाराज अपना बहीखाता लिए बैठे थे। उन्होंने साधू से उनका नाम, पता इत्यादि पूछा। गर्व और घमंड से भरे हुए साधु ने कहा - "क्या तुम नहीं जानते कि मैं पृथ्वीलोक पर कितना प्रसिद्ध था?" चित्रगुप्त ने पूछा - "अपने जीवन में तुमने क्या किया है?" साधु ने उत्तर दिया - "अपने जीवन के पहले भाग में मैं सांसारिक रूप से सक्रिय था और मेरे मन में सभी के लिए प्रेम और अपनत्व का भाव था। जीवन के दूसरे भाग में मैंने सभी चीजों को त्याग दिया और घनघोर तपस्या की।" चित्रगुप्त ने अपना बहीखाता खंगाला और साधु से बोले - "मेरे बहीखाते के हिसाब से तो तुमने सारा पुण्य जीवन के पहले ही भाग में अर्जित किया है, दूसरे भाग में नहीं।" आश्चर्यचकित होकर साधु ने कहा - "यह तो मेरे कथन के विपरीत है। अपने जीवन के पहले भाग में तो मैंने सांसारिक जीवन व्यतीत किया है और दूसरे भाग में मैंने अकेले रहकर प्र…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 70

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी375नसरुद्दीन और अल्लाह की मर्ज़ीएक धर्मनिष्ठ व्यक्ति ने किसी बारे में अपनी राय व्यक्ति करते हुए कहा - "जैसी अल्लाह की मर्ज़ी!" यह सुनकर मुल्ला नसरुद्दीन तपाक से बोले - "वैसे भी हर मामले में अल्लाह की ही मर्ज़ी चलती है!" उस व्यक्ति ने पूछा - "नसरुद्दीन! तुम यह कैसे सिद्ध कर सकते हो?" नसरुद्दीन ने उत्तर दिया - "बहुत सरल है। यदि हर मामले में अल्लाह की मर्ज़ी न चल रही होती तो कभी ऐसा भी हो सकता है कि मेरी मर्ज़ी चलने लग जाए। है ना?" -- 376अपंग हाथएक बार फू शांग ने चीनी दार्शनिक कन्फ्यूशियस से पूछा - "आखिर तुम किस तरह के संत हो क्योंकि तुम कहते हो कि येन हुई तुमसे ज्यादा स्पष्टवादी है? चीजों को समझाने में चुआन-म्यू-ज़ू तुमसे ज्यादा श्रेष्ठ है?चंग यू तुमसे ज्यादा साहसी है? और चुआन-सुन तुमसे ज्यादा गरिमापूर्ण है?" तुरंत उत्तर प्राप्त करने की उत्सुकता में फू शांग चटाई के किनारे तक पहुंच गया और गिरते-गिरते बचा। और बोला - "यदि ये बात सत्य है तो ये चारों…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 69

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी373यंत्रणायें एक शिष्य (जिसका यह मानना था कि उसने अपने जीवन में कई यंत्रणायें झेली हैं।) अपने गुरू से पूछता है - "क्या यंत्रणायें मनुष्य को परिपक्व करती हैं?" गुरूजी ने उत्तर दिया - "यंत्रणाओं से अधिक महत्त्वपूर्ण है मनुष्य का स्वभाव, कि वह इन यंत्रणाओं को किस तरह झेलता है। यंत्रणायें कुम्हार की उस अग्नि की तरह हैं जो मिट्टी के बर्तनों को पकाती भी है और जलाती भी है।" --- 374ईश्वर को उपहारएक राजा बहुत धार्मिक स्वभाव का था। उसने सभी देवी-देवताओं को प्रसन्न करने के लिए उन्हें एक अनूठा उपहार देने का निश्चय किया। उसने अपने सभी दरबारियों और प्रधानमंत्री से परामर्श मांगा कि ईश्वर को कौन सा उपहार दिया जाये? कुछ ने कहा कि स्वर्ण का मंदिर बनवा दो, कुछ ने कहा कि अपना सारा स्वर्ण दान कर दो......इत्यादि-इत्यादि। फिर राजा अपने राजगुरू के पास विचार-विमर्श के लिए गया। राजा ने उसे अपनी इच्छा और अब तक मिले सभी परामर्श बताये। राजगुरू ने कुछ देर तक विचार करने के बाद कहा -"तुम्हारा यह शरी…

फ़ायरफ़ॉक्स की गति से खुश नहीं हैं? वाटरफ़ॉक्स प्रयोग करें

चित्र
वाटरफ़ॉक्स को खास तेज गति की ब्राउजिंग / इंटरनेट सर्फिंग के लिए ही बनाया गया है.वाटरफ़ॉक्स की परिभाषा कुछ यूँ दी गई है -Waterfox is a high performance browser based on the Mozilla Firefox source code. Made specifically for 64-Bit systems, Waterfox has one thing in mind: speed.यह 64 बिट ब्राउजर है, जो आधुनिक 64 बिट सिस्टमों के लिए खासतौर पर उपयोगी है.यानी इसके सर्वोत्तम प्रयोग हेतु आपका कंप्यूटर आधुनिक और 64 बिट का होना चाहिए.तो, यदि आप अपने ब्राउजर - चाहे वो क्रोम, फ़ायरफ़ॉक्स, ओपेरा, सफारी या इंटरनेट एक्सप्लोरर कोई भी हो, उसकी धीमी पेज रेंडरिंग से परेशान हों तो वाटरफ़ॉक्स एक बार जरूर आजमाएं.मैंने इसका प्रयोग किया और पाया कि यह कई मामलों में क्रोम, फ़ायरफ़ॉक्स, ओपेरा और इंटरनेट एक्सप्लोरर के अधुनातन संस्करणों से ज्यादा तेज है. वैसे भी क्रोम का 64 बिट संस्करण विंडोज सिस्टम के लिए अभी उपलब्ध नहीं है. फ़ायरफ़ॉक्स और इंटरनेट एक्सप्लोरर 9 के 64 बिट संस्करण उपलब्ध हैं, मगर ये भी स्पीड के मामले में वाटरफ़ॉक्स से कई मामलों में पीछे हैं. वाटरफ़ॉक्स की पेज रेंडरिंग कमाल की है. इससे पहले मैं क्र…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 68

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी371गप्पएक शिष्य ने अपने गुरू से इस बात के लिए पश्चाताप किया कि उसे गप्प मारने की आदत है। गुरूजी ने बुद्धिमत्तापूर्ण तरीके से कहा कि "यदि तुम गप्प में नया मिर्चमसाला नहीं डालते तो यह इतनी बुरी बात नहीं है।"
372संघर्ष से ही शक्ति और विवेक प्राप्त होता हैमहाभारत के युद्ध में द्रोणाचार्य को कौरवों का सेनापति बनाया गया। युद्ध के पहले ही दिन वे अत्यंत वीरता और उत्साह के साथ लड़े किंतु अंत में उन्हें अर्जुन द्वारा पराजय का सामना करना पड़ा।पहले ही दिन पराजय होने से दुर्योधन को बहुत बुरा लगा और वह द्रोणाचार्य के पास जाकर बोला - "गुरूदेव! अर्जुन आपका शिष्य रहा है। आप उसे कुछ ही पलों में हरा सकते हैं। फिर आप इतना बिलंब क्यों कर रहे हैं?" कुछ देर चुप रहने के बाद द्रोणाचार्य बोले - "तुम ठीक कह रहे हो दुर्योधन! उसके द्वारा युद्ध में प्रयोग की जाने वाली युक्ति और रणनीति से मैं भलीभांति अवगत हूं परंतु मैंने अपना सारा जीवन शाही विलासितापूर्ण तरीके से व्यतीत किया है जबकि अर्जुन ने अपने जीवन म…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 67

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी367पेपर क्लिपअपना एक शोधपत्र लिखने के बाद आइंस्टीन और उनके एक सहयोगी ने कागज़ों को नत्थी करने के लिए पेपर क्लिप को ढूंढना शुरू किया। अंततः उन्हें एक टेढ़ी-मेढ़ी पेपर क्लिप मिली जो प्रयोग में लाने योग्य नहीं थी। फिर उन लोगों ने उस क्लिप को सीधा करने का निर्णय लिया तथा उसके लिए उपकरण की तलाश शुरू की। अल्मारी की कई दराजों में तलाश करने के बाद अंततः उन्हें अच्छी क्लिपों का एक डिब्बा मिला। जिसमें से एक क्लिप को निकालकर आइंस्टीन ने उपकरण बनाना शुरू कर दिया। उनके सहयोगी ने हतप्रभ होते हुए पूछा कि जब इतनी सारी अच्छी क्लिप मौजूद हैं तो आप उस टेढ़ी-मेढ़ी क्लिप को ही सीधा करने पर क्यों उतारू हैं? आइंस्टीन ने उत्तर दिया - "यदि एकबार मैं किसी काम को करने का निर्णय ले लेता हूँ, तो चाहे कितनी भी परेशानियां आयें मैं उस काम को पूरा करके ही दम लेता हूँ।" प्रैंस्टन में अपने एक सहयोगी को यह कथा सुनाते हुए आइंस्टीन ने कहा था कि इस कथा से उनके व्यक्तित्व के बारे में पूरी जानकारी मिलती है।--368इससे मरने में…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 66

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी365मक्‍खी और हाथीगुरू रोज़ी मनोविश्‍लेषकों के एक समूह को चीनी विद्या ज़ेन की शिक्षा प्रदान करने के लिए सहमत हो गए। उस संस्‍थान के निदेशक द्वारा परिचय कराए जाने के बाद रो़ज़ी फर्श पर डले एक गद्दे पर बैठ गए। एक छात्र ने कक्ष में प्रवेश करने के बाद रोज़ी को दंडवत प्रणाम किया और उनके सामने पड़े गद्दे पर बैठ गया। छात्र ने पूछा - "ज़ेन क्‍या है?" रोज़ी ने एक केला निकाला और उसे छीलकर खाने लगे। छात्र ने पूछा - "बस हो गया? क्या आप मुझे ज़ेन विद्या के बारे में कुछ और भी बता सकते हैं?" रोज़ी ने कहा - "थोड़ा पास आओ।" छात्र सरककर उनके पास पहुँच गया। रोज़ी ने छात्र के सामने ही बचा हुआ केला भी खाना शुरू कर दिया। छात्र ने उन्‍हें दंडवत प्रणाम किया और वहॉं से चला गया। एक दूसरा छात्र दर्शकों को संबोधित करते हुए बोला - "आप लोगों को कुछ समझ में आया? " जब दर्शकों की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी तो छात्र फिर बोला - "आप लोगों ने अभी-अभी ज़ेन विद्या के बारे में प्रत्…

क्या आप भी फ़ेसबुक से दुःखी हैं?

चित्र
आजकल हर कोई फ़ेसबुक से दुःखी है. सबसे ज्यादा दुःखी तो सरकार है. सरकार फ़ेसबुक से इतना दुःखी हो चुकी है कि वो इस पर बैन करने की बात कहने लगी है. और अब तो न्यायालय भी चीनी तर्ज पर फ़ेसबुक को ब्लॉक करने की धमकियाँ देने लगी है. उधर फ़ेसबुक में घुसे पड़े रहने वाले और तमाम वजहों के अलावा इस वजह से भी दुःखी हुए जा रहे हैं कि सरकार या न्यायालय अब किसी भी दिन फ़ेसबुक पर बैन लगा देगी तो उनके अनगिनत फ़ेसबुक मित्रों, चिकोटियों, स्टेटस मैसेज, वॉल पोस्टिंग और पसंद का क्या होगा! फ़ेसबुक से मैं तो दुःखी हूँ ही, मेरी पत्नी मुझसे ज्यादा दुःखी है. अलबत्ता दोनों के कारण जुदा जुदा हैं. फ़ेसबुक से तो मैं तब से दुःखी था जब से मैं फ़ेसबुक से जुड़ा भी नहीं था. तब जहाँ कहीँ भी जाता, लोग गर्व से बताते कि वे फ़ेसबुक पर हैं. मैं उनके गर्व के सामने निरीह हो जाता और दुःखी हो जाता. फिर पूछते – आप भी फ़ेसबुक पर हैं? और चूंकि मैं फ़ेसबुक पर नहीं होता था तो और ज्यादा दुःखी हो जाता था कि मैं कितना पिछड़ा, नॉन-टेक्नीकल आदमी हूँ कि देखो तमाम दुनिया तो फ़ेसबुक पर पहुँच चुकी है, और हम हैं कि अभी जाने कहाँ अटके हैं. तो एक …

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 65

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी363कछुआचीन के राजा ने अपने राजदूत को उत्तरी पर्वतमाला में रहने वाले एक संन्यासी के पास भेजा। वे उन्हें राज्य का प्रधानमंत्री बनाना चाहते थे। कई दिनों की यात्रा के बाद राजदूत उत्तरी पर्वतमाला में स्थित उनके आश्रम पर पहुंचा। लेकिन आश्रम में कोई नहीं था। परंतु आश्रम के ही पास बहती नदी के बीचोंबीच स्थित एक चट्टान पर एक व्यक्ति अर्धनग्न हालत में बैठा हुआ मछलियाँ पकड़ रहा था। यह सोचकर कि यही वह संन्यासी है जिसे राजा अपना प्रधानमंत्री बनाना चाहते हैं, उसने वहाँ के ग्रामीणों से पूछताछ की। ग्रामीणों ने उसे बताया कि यही वे संन्यासी हैं। राजदूत अत्यंत विनम्रता के साथ संन्यासी के पास पहुँचा और उनका ध्यान आकृष्ट करने का प्रयास किया। पैदल ही नदी को पार करते हुए वह संन्यासी राजदूत के समक्ष कमर पर हांथ रखकर खड़े हो गए और बोले - "तुम क्या चाहते हो? " राजदूत ने उत्तर दिया - "हे महामानव, राजा ने आपके ज्ञान और पवित्रता की ख्याति सुनकर मुझे आपके पास इन उपहारों के साथ भेजा है। उन्होंने आपको साम्राज्य का…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 64

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी359सुनहराचीलएक व्यक्ति को चील का एक अंडा मिला जिसे उसने अंडा सेती हुई मिर्गी के पास रख दिया। कुछ समय बाद अंडों से चूजे निकले। चूजों ने अपने स्वभाव के अनुरूप इधर-उधर टहल कर भोजन के लिए कीड़ों की तलाश शुरू कर दी तथा वे अपने पंखों को फड़फड़ाकर थोड़ी दूर तक उड़ लेते। चील का बच्चा भी अन्य चूजों की देखादेखी उनकी ही तरह व्यवहार करता। कुछ वर्ष बाद जब वह चील का बच्चा वयस्क हो गया, तब उसने एक दिन ऊँचे आकाश में उड़ान भरते हुए एक पक्षी को देखा जो अपने सुनहरे एवं ताकतवर पंखों की सहायता से गगन की ऊँचाईयों में हवा को चीरता हुआ उड़ रहा था। अचरज से भरे चील ने पूछा - "वह कौन है?" उसके पड़ोसी ने कहा - "वह चील है, पक्षियों का राजा, आकाश में उसका साम्राज्य है। हम महज चूजे हैं इसलिए हम धरती पर रहते हैं। " इसतरहवहचीलअपनेआपकापहचानसकनेकेकारणजीवनपर्यन्तएकचूजेकीतरहहीरहाऔरमरा।360अमीरपति अपनी पत्नी से बोला - "प्रिय, मैं बहुत परिश्रम कर रहा हूँ, इससे एक दिन हम लोग बहुत अमीर हो जायेंगे। " पत्नी - &q…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 63

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी357गुलाबकीछटाएक बार महात्मा गांधी, गुरूदेव रविन्द्र नाथ टैगोर के निमंत्रण पर शांति निकेतन गए। एक सुबह वे दोनों उद्यान की सैर पर निकले। सूरज की पहली किरण जब उस उद्यान के गुलाब पर पड़ी तो उसकी निराली छटा देखने के लिए दोनों के पाँव ठिठक गए। गुलाब देखकर गुरूदेव बोले -"गुलाब की यह कली मुझे एक कविता लिखने के लिए प्रेरित कर रही है। तुम्हारे दिमाग में क्या चल रहा है? " गांधीजी ने उत्तर दिया - "मेरे दिमाग में कोई कविता जन्म नहीं ले रही है। लेकिन मैं हर भारतीय बच्चे का चेहरा इस गुलाब की तरह ताजा, खिला हुआ और आशाओं से भरा हुआ देखना चाहता हूं। " गुलाब की एक ही कली ने दो महापुरूषों के मन में दो महान विचारों को जन्म दिया। -- 358आखिरआपकिसतरहलोगोंकीमददकरतेहैं?एक सामाजिक कार्यक्रम में अपने गुरूजी से मिलने पर एक मनोचिकित्सक ने अपने मन में उमड़ रहे एक प्रश्न को पूछने का निर्णय लिया। उसने पूछा - "आखिर आप किस तरह लोगों की मदद करते हैं?" गुरू जी ने उत्तर दिया - "मैं उनको उस सीमा त…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 62

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी355किसकामनोरंजन- तुम्हारायाउसकाजब नसरुद्दीन चार साल के हुए तो आसपड़ोस की महिलाओं ने उनके जन्मदिन के अवसर पर एक पार्टी आयोजित की जिसमें विभिन्न खेलकूद प्रतियोंगिताओं का आयोजन हुआ। जब काफी देर तक महिलाओं का खेलकूद जारी रहा तो नसरुद्दीन बोले - "आखिर ये सब कब खत्म होगा और मेरा नंबर कब आएगा।" 356तीनछन्नीपरीक्षणप्राचीन यूनान में सुकरात नामक एक विख्यात दार्शनिक एवं ज्ञानी व्यक्ति रहा करते थे। एक दिन उनका एक परिचित उनसे मिलने आया और बोला - "क्या तुम जानते हो कि मैंने तुम्हारे मित्र के बारे में क्या सुना है?" सुकरात ने उसे टोकते हुए कहा - "एक मिनट रुको। इसके पहले कि तुम मुझे मेरे मित्र के बारे में कुछ बताओ, उसके पहले मैं तीन छन्नी परीक्षण करना चाहता हूं।" "तीन छन्नी परीक्षण?" सुकरात ने कहा - "जी हां मैं इसे तीन छन्नी परीक्षण इसलिए कहता हूं क्योंकि जो भी बात आप मुझसे कहेंगे, उसे तीन छन्नी से गुजारने के बाद ही कहें।" "पहली छन्नी है"सत्य"।…

जनरल वी. के. सिंग की जन्मतिथि का मामला - सरकारी बाबूगिरी का एक सर्वश्रेष्ठ उदाहरण!

चित्र
(1)(2)

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 61

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी109 बापू का पर्यावरणमित्र दातुनयरवदा जेल में एक बार गांधी जी ने नोटिस किया कि आश्रम के उनके सहयोगी काका कालेलकर नीम की कुछ पत्तियों की आवश्यकता होने पर भी पूरी की पूरी टहनी तोड़ लाते थे. बापू ने उन्हें समझाया कि यह भी एक किस्म की हिंसा है. और यदि हमें दो पत्ते भी किसी वृक्ष से तोड़ने हैं तो हमें वह प्रेमपूर्वक तोड़ना चाहिए, और पेड़-पौधों से क्षमायाचना करते हुए तोड़ना चाहिए. काका कालेलकर ने अपने संस्मरण में इससे संबंधित एक अन्य वृत्तांत को बताया – “हमें बाहर से दातुन मिलना बंद हो गया, तो मैंने बापू के लिए नीम का एक बढ़िया दातुन तैयार किया, उसके सिरे को कुचल कर बढ़िया ब्रश बनाया और बापू को दिया. बापू ने ब्रश करने के बाद मुझे उसे दिया और कहा कि इसे फेंकना नहीं, बल्कि इसके ब्रश वाले हिस्से को काट कर फेंको और बाकी का पूरा अच्छा हिस्सा कल के लिए बचा कर रखो. इसका प्रयोग इसी तरह तब तक होना चाहिए जब तक कि यह पूरी तरह सूख ना जाए या फिर आसानी से पकड़ में न आए. मैंने बापू से प्रतिवाद किया कि हम तो नित्य न…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 60

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी353उसका कोई परिवार नहीं हैएक परिवार रात्रिभोज के समय एकत्रित था। तभी घर के सबसे बड़े पुत्र ने घोषणा की कि वह गली के मोड़ पर रहने वाली लड़की से शादी करने जा रहा है। यह सुनकर उसके पिता बोले – “लेकिन उस लड़की के परिवार ने तो उसके लिए एक भी पैसा नहीं छोड़ा है।” माताजी बोलीं – “और उसने भी कोई बचत नहीं की है।” छोटे भाई ने कहा – “वह फुटबॉल के बारे में भी कुछ नहीं जानती।” बहन बोली – “और उसके बाल तो बिल्‍कुल जोकरों जैसे हैं।” चाचाजी बोले – “वह हर समय सिर्फ उपन्‍यास ही पढ़ती रहती है।” दादीजी बोलीं – “और वह बिल्‍कुल भी किफायती नहीं है।” “आप सभी बिल्‍कुल सही कह रहे हैं परंतु वह फिर भी इस घर में आने के योग्‍य है।” – लड़के ने कहा। “वह कैसे?” – सभी ने जानना चाहा। लड़के ने कहा - “क्‍योंकि उसका कोई परिवार नहीं है।” 354वास्‍तविक जीवन में तुलनात्‍मकताएक नौजवान अमेरिकी युवक को व्‍हाइट हाउस में क्‍लर्क की नौकरी मिल गयी और उस राष्ट्रपति द्वारा दिए जाने वाले भोज का आमंत्रण प्राप्‍त हुआ। उसने सोचा कि उसकी माँ…

बेहद काम की 101 वेबसाइटें

01 screenr.com - अपने डेस्कटॉप को फिल्म के रूप में रिकॉर्ड करें और उन्हें सीधे YouTube पर भेजें.
02 bounceapp.com स्क्रॉल योग्य वेब पृष्ठों की पूरी लंबाई के स्क्रीनशॉट कैप्चर करें.
03. goo.gl - लंबे URL को छोटा करें और यूआरएल को QR कोड में परिवर्तित करें.
04. untiny.me - छोटे किए गए यूआरएल के पीछे लंबे यूआरएल देखें.
. 05 qClock - गूगल मानचित्र का उपयोग कर शहर के स्थानीय समय का पता करें.
06 copypastecharacter.com - जो विशेष वर्ण (अक्षर या कैरेक्टर) आपके कुंजीपटल पर नहीं हैं उन्हें यहाँ से कॉपी-पेस्ट करें.
07 postpost.com ट्विटर के लिए एक बढ़िया खोज इंजन.
08. lovelycharts.com - फ्लोचार्ट, नेटवर्क आरेख, साइटमैप, आदि बनाएं
09 iconfinder.com सभी आकारों के विविध किस्म के प्रतीक (आइकन) यहाँ मिलेंगे.
10. office.com -अपने ऑफिस दस्तावेज़ों के लिए टेम्पलेट्स, क्लिपआर्ट और चित्र डाउनलोड करें .
11 followupthen.com यह - ईमेल अनुस्मारक (रिमाइंडर) बनाने का सबसे आसान तरीका है.
12. jotti.org - किसी भी संदिग्ध अनुलग्नक फ़ाइल या वायरस के लिए ईमेल स्कैन करें.
13 wolframalpha.com - खोजें नहीं, सीधे जवाब प्राप्त करें -…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 59

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी351क्या मुझे ही हर चीज के बारे में सोचना होगा?एक समय की बात है अहमदाबाद शहर में कई दिनों तक एक निर्माण कार्य चलता रहा। उस कार्य में लगे श्रमिकों ने निर्माण कार्य समाप्त होने के बाद गंदगी और धूल का ढेर नहीं समेटा जिससे चारों ओर गंदगी के ढ़ेर नज़र आने लगे। "वो देखो कितनी गंदगी पड़ी हुयी है!", "कोई है जो इसकी सफाई का प्रबंध करे!", "उनके गंदगी न समेटने के कारण उड़ती धूल से मेरे कीमती कपड़े गंदे हो गए है!", "आखिर नगर निगम कब इस गंदगी को साफ कराएगा!", "इस गंदगी के कारण हमारा शहर भिखारियों का अड्डा लगने लगा है!" इस तरह की बातें सुनते-सुनते जब नसरुद्दीन ऊब गए तो एक दिन उन्होंने एक गडढ़ा बनाना शुरू कर दिया। उस गडढ़े की खुदाई के कारण गंदगी और धूल का एक और ढ़ेर बनने लगा। यह देखकर एक नागरिक ने उनसे कहा - "नसरुद्दीन तुम गडढ़ा क्यों कर रहे हो?" नसरुद्दीन ने उत्तर दिया - "मैं लोगों की शिकायतें सुनते-सुनते थक गया हूँ और मैंने यह निर्णय लिया है कि ए…

आसपास बिखरी हुई शानदार कहानियाँ - Stories from here and there - 58

चित्र
आसपास की बिखरी हुई शानदार कहानियाँ संकलन – सुनील हांडाअनुवाद – परितोष मालवीयरवि-रतलामी349कोई भी वरदान मांग लोउपनिषदों में एक कहानी का जिक्र है। प्रभु ने एक व्यक्ति की भक्ति से अत्यंत प्रसन्न होते हुए कहा - "हे मनुष्य! तुम मुझसे कोई भी वरदान मांग लो।" भक्त ने कहा - "भगवन! मैं ठहरा अज्ञानी। मुझे इस बात का ज्ञान नहीं है कि मुझे आपसे क्या वरदान मांगना चाहिए। मुझे इस बात की भी जानकारी नहीं है कि मेरे लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा। आप मेरे लिए जो भी अच्छा समझें, वही मुझे प्रदान करें।" इस तरह वह भक्त परीक्षा में खरा उतरा।350छोटी मछलीएक बार एक नैतिकतावादी दार्शनिक मुल्ला नसरुद्दीन के गांव से गुजर रहे थे। उन्होंने नसरुद्दीन से एक अच्छे भोजनालय के बारे में पूछा। नसरुद्दीन ने उन्हें भोजनालय का रास्ता बता दिया। दार्शनिक महोदय नसरुद्दीन के साथ शास्त्रार्थ के इच्छुक थे अतः उन्होंने नसरुद्दीन को भी भोजन के लिए आमंत्रित कर लिया। नसरुद्दीन खुशी-खुशी उनके साथ भोजनालय पहुंच गए। उन्होंने भोजनालय के बैरे से सबसे अच्छे व्यंजन के बारे में पूछा। बैरे ने उत्तर दिया - "मछली! ता…

260 से अधिक हिंदी फ़ॉन्टों की अंग्रेज़ी-हिंदी मिश्रित सामग्री को शत प्रतिशत शुद्धता से यूनिकोड में परिवर्तित करने वाला प्रखर देवनागरी फ़ॉन्ट परिवर्तक का अपडेटेड संस्करण

चित्र
प्रखर देवनागरी फ़ॉन्ट परिवर्तक का नया  वर्जन 2.2.5.0 जारी हो गया है जिसमें मिश्रित सामग्री को भी शुद्धता से परिवर्तिक करने का विकल्प है.प्रखर देवनागरी फ़ॉन्ट परिवर्तक के नए संस्करण में आप द्विभाषी - अंग्रेज़ी-हिंदी मिश्रित सामग्री को (वर्ड, एक्सेल से कॉपी-पेस्ट किए गए) भी जस का तस फ़ॉर्मेटिंग इत्यादि बनाए रखते हुए, टेबल इत्यादि को उसी रूप में रखते हुए भी यूनिकोड में बदल सकते हैं. परिवर्तन करते समय द्विभाषी फ़ॉन्ट के लिए - परिवर्तनीय पाठ्य सामग्री द्वि-भाषी फ़ॉन्ट में है वाले चेक बक्से में सही का निशान लगाना न भूलें. इस फ़ॉन्ट परिवर्तक में 262 हिंदी - देवनागरी फ़ॉन्ट को यूनिकोड में परिवर्तित करने का विकल्प भी है - यह तमाम सुविधाएँ किसी भी अन्य परिवर्तक में उपलब्ध नहीं है. पूरी फ़ॉन्ट सूची आपकी सुविधा के लिए नीचे दी गई है. इस सॉफ़्टवेयर का डेमो संस्करण आप मुफ़्त डाउनलोड कर प्रयोग कर देख सकते हैं कि यह आपकी आवश्यकतानुरूप कार्य कर रहा है या नहीं. डाउनलोड लिंक है - Demo Link:- http://www.4shared.com/zip/zXERndaY/prakharfontparivartak.htmlफ़ॉन्ट सूची जो प्रखर फ़ॉन्ट परिवर्तक इन में लिखी सामग…

विशाल लाइब्रेरी में से पढ़ें >

अधिक दिखाएं

---------------

छींटे और बौछारें का आनंद अपने स्मार्टफ़ोन पर बेहतर तरीके से लें. गूगल प्ले स्टोर से छींटे और बौछारें एंड्रायड ऐप्प image इंस्टाल करें.

इंटरनेट पर हिंदी साहित्य का खजाना:

इंटरनेट की पहली यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित व लोकप्रिय ईपत्रिका में पढ़ें 10,000 से भी अधिक साहित्यिक रचनाएँ

हिन्दी कम्प्यूटिंग के लिए काम की ढेरों कड़ियाँ - यहाँ क्लिक करें!

.  Subscribe in a reader

इस ब्लॉग की नई पोस्टें अपने ईमेल में प्राप्त करने हेतु अपना ईमेल पता नीचे भरें:

FeedBurner द्वारा प्रेषित

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

***

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद करें